Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे...

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उन्होंने सभी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हुए कहा कि सभी का सही तरीके से उपचार जारी है। बता दें कि रुद्रप्रयाग में हुए हादसे में 14 लोगों की मौत हुई है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की माँ की तबीयत ख़राब हो गई, जिसके बाद उन्हें AIIMS ऋषिकेश में भर्ती कराया गया है। उत्तराखंड के CM पुष्कर सिंह धामी उनका हालचाल लेने पहुँचे, वहीं सीएम योगी ने भी अस्पताल पहुँच कर अपनी माँ का हालचाल लिया। लगभग एक सप्ताह पहले भी सावित्री देवी का AIIMS ऋषिकेश में इलाज हुआ था। रविवार (16 जून, 2024) को करीब 20 मिनट तक योगी आदित्यनाथ ने अपनी माँ के साथ समय व्यतीत किया।

साथ ही CM योगी ने ऋषिकेश स्थित एम्स के डायरेक्टर से भी मुलाकात की और अपनी माँ के इलाज को लेकर जानकारी ली। सामान्य स्वास्थ्य परीक्षण के लिए 15 जून, 2024 को सावित्री देवी को एम्स में भर्ती कराया गया था। ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था। इस महीने दूसरी बार अस्पताल में भर्ती हुईं उनकी माँ सावित्री देवी का जीरियाट्रिक विभाग में इलाज चल रहा है।

भेंट की इस तस्वीर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोशल मीडिया पर भी शेयर किया और सिर्फ एक कैप्शन लिखा – ‘माँ’। अस्पताल पहुँचे सीएम योगी ने रुद्रप्रयाग हादसे के घायलों से भी मुलाकात की। उन्होंने सभी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हुए कहा कि सभी का सही तरीके से उपचार जारी है। बता दें कि रुद्रप्रयाग में हुए हादसे में 14 लोगों की मौत हुई है। मिनी बस अलकनंदा नदी में गिर गई। बस के पास न ट्रिप कार्ड था, न ही यात्रियों का रजिस्ट्रेशन हुआ था। बस में 26 लोग सवार थे।

वहीं सावित्री देवी के बारे में अस्पताल ने बताया है कि वृद्धावस्था संबंधित समस्याओं के कारण उन्हें भर्ती करना पड़ा है। पहले भी रूटीन चेकअप के लिए वो आती रही हैं। पिछली बार उन्हें आँखों की दिक्कतों के कारण भर्ती कराना पड़ा है। नाथ परंपरा में दीक्षित होने से पहले योगी आदित्यनाथ ने अपना घर छोड़ दिया था, हालाँकि वो अपनी माँ से मिलने जाते रहे हैं। उन्होंने बताया था कि उनकी बहन ने ही उन्हें अक्षर का ज्ञान कराया। अपने परिवार को वो मिस करते रहे हैं, लेकिन उनका कहना है कि अब जनता उनका परिवार है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -