Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजगन्ना के जूस में थूक मिला कर बेच रहे थे शाहेब आलम और जमशेद...

गन्ना के जूस में थूक मिला कर बेच रहे थे शाहेब आलम और जमशेद खान, विरोध करने पर दंपति से की अभद्रता: रोटी, तंदूर, फूल, फल, फेस मसाज – सब में मिल चुका है थूक

सोसाइटी के क्षितिज भाटिया ने शिकायत में बताया है कि शनिवार (15 जून, 2024) की शाम वो पत्नी के साथ जूस पीने गए थे।

हाल ही में ऐसे कई मामले आए हैं जहाँ मुस्लिम समाज के लोग सार्वजनिक रूप से थूक का इस्तेमाल करते नज़र आए। यहाँ तक कि फेस मसाज से लेकर दाढ़ी बनाने तक में थूक का इस्तेमाल किया गया। नया अजीबोगरीब मामला नोएडा से सामने आया है। मामला सेक्टर-121 स्थित क्लियो काउंटी का है। जूस बनाने वाले शाहेब आलम और जमशेद खान को गिरफ्तार कर लिया गया है। इन दोनों ने ग्लास में पहले थूका, फिर उसमे गन्ना का जूस निकाल कर डाला।

असल में एक दंपति ने गन्ने के जूस का ऑर्डर दिया था। जब उन्होंने जूस बनाने वालों की इस हरकत को देख कर इसका विरोध किया तो दोनों भड़क गए और दंपति के साथ अभद्रता की। दंपति की शिकायत के बाद यूपी पुलिस ने कार्रवाई की। इन दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। ये दोनों क्लियो काउंटी सोसाइटी के बाहर जूस बेचते थे। सोसाइटी के क्षितिज भाटिया ने शिकायत में बताया है कि शनिवार (15 जून, 2024) की शाम वो पत्नी के साथ जूस पीने गए थे।

उन्होंने शाहेब आलम और जमशेद खान को 2 ग्लास गन्ने के जूस का ऑर्डर दिया। इन दोनों ने ग्लास में थूक डाल कर जूस दिया, जिसे दंपति ने देख लिया। विरोध करने पर वो मारपीट पर उतारू हो गए। दोनों मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बहराइच के रहने वाले हैं। ये इस तरह का कोई पहला मामला नहीं है। उत्तर प्रदेश के शामली के बाद राजधानी लखनऊ में थूक लगाकर ग्राहक के चेहरे का मसाज करने का मामला सामने आया। लखनऊ के सुशांत गोल्फ सिटी इलाके में मोहम्मद जैद ने ऐसा किया।

उत्तर प्रदेश के शामली जिले के थानाभवन थाना क्षेत्र में एक नाई को थूक लगा कर फेस मसाज करते हुए देखा गया था। शामली कोतवाली के फव्वारा चौक के निकट तंदूर पर थूक लगाकर रोटी सेंकने का वीडियो वायरल हुआ था। गाजियाबाद के लोनी के एक होटल में मुस्लिम युवक द्वारा तंदूरी रोटी में थूक लगाकर रोटी पैक करने का वीडियो वायरल हुआ था। इस तरह के हाल ही में कई मामला सामने आए हैं, जिनमें मुस्लिम समाज के लोगों को पकड़ा गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -