Thursday, July 7, 2022
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेसी विचारधारा के शिक्षकों को मिलेगी प्राइम पोस्टिंग: गहलोत सरकार ने खुलेआम किया ऐलान

कॉन्ग्रेसी विचारधारा के शिक्षकों को मिलेगी प्राइम पोस्टिंग: गहलोत सरकार ने खुलेआम किया ऐलान

"अब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचारधारा वाले शिक्षकों को प्राइम पोस्टिंग से हटाया जाएगा और कॉन्ग्रेस का समर्थन करने वाले शिक्षकों को इन जगहों पर..."

राजस्थान में गहलोत सरकार ने गुरुवार (सितंबर 5, 2019) को शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों को भी भाजपा और कॉन्ग्रेस का बताकर दो गुटों में विभाजित कर दिया। ये विभाजन राज्य के शिक्षा मंत्री राज्यमंत्री गोविंद डोटासरा द्वारा किया गया। उन्होंने खुलेआम इस बात का ऐलान सबके सामने किया कि अब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की विचारधारा वाले शिक्षकों को प्राइम पोस्टिंग से हटाया जाएगा और कॉन्ग्रेस का समर्थन करने वाले शिक्षकों को न्याय दिलवाया जाएगा।

शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने प्रदेश कॉन्ग्रेस कमिटी कार्यालय में गुरुवार को आयोजित शिक्षक पुरस्कार वितरण समारोह में भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा सरकार के शासन काल में राजनीतिक आधार पर कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित किया गया और उन्हें स्थानांतरण करके दूर भेजा गया, उनसे दुर्व्यवहार किया गया। उन्होंने कहा कि बीजेपी राज में यह निश्चित था कि जो व्यक्ति RSS से है, वह तो जयपुर और डिस्ट्रिक्ट हेडक्वार्टर पर रहेगा और जो कॉन्ग्रेस का कार्यकर्ता है वह 100 या फिर 500 किलोमीटर दूर जाएगा। इसलिए अब वह कॉन्ग्रेस समर्थित शिक्षकों को जल्द से जल्द 100 फीसदी न्याय दिलवाएँगे।

शिक्षा मंत्री के इस ऐलान के बाद वहाँ मौजूद शिक्षकों ने जिंदाबाद के नारे लगाए और शिक्षा मंत्री ने सबको संबोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट का स्पष्ट रूप से ये कहना है कि कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं को राजनीतिक आधार पर बहुत प्रताड़ित किया गया है। उनको न्याय मिलना चाहिए। इसलिए उन्होंने निर्देश दिए हैं कि कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ताओं की ट्रांसफर पोस्टिंग का अच्छे से ख्याल रखा जाए।

गौरतलब है कि राजस्थान में गहलोत सरकार के आने के बाद से जो स्थिति बनी है, वो किसी से छिपी नहीं है। कानून व्यवस्था से लेकर प्रशासन तक की हालत चरमराई हुई है। दलित से लेकर महिला और किसान तक उनकी राजनीतिक लड़ाइयों के कारण प्रताड़ित हो रहे हैं। ऐसे में अब उन्होंने शिक्षकों को दो हिस्सों में बाँटकर राज्य की शिक्षा प्रणाली पर भी सवाल उठा दिया है।

राजस्थान में गहलोत सरकार आने के बाद वहाँ की क्या हालत है, इसे आप इस लिंक पर क्लिक करके विस्तार से पढ़ सकते हैं।- न दलित सुरक्षित न महिला, राजस्थान में कॉन्ग्रेस सरकार बनते ही चौपट हुई कानून-व्यवस्था

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ह्यूमैनिटी टूर’ पर प्रोपेगेंडा, कश्मीर फाइल्स ‘इस्लामोफोबिक’: द क्विंट को विवेक अग्निहोत्री ने किया बेनकाब

"हम इन फे​क FACT-CHECKERS को नजरअंदाज करते थे, लेकिन सच्ची देशभक्ति इन देशद्रोही Urban Naxals (अर्बन नक्सलियों) को बेनकाब करना और हराना है।”

राजस्थान पुलिस की कस्टडी में मुस्कुराता दिखा नूपुर शर्मा का गर्दन माँगने वाला अजमेर दरगाह का खादिम, जिस CO ने ‘नशे की बात’ पर...

राजस्थान के अजमेर शरीफ दरगाह के CO संदीप सारस्वत को उनके पद से हटा दिया गया है। अजमेर SP ने बताया कि उन्हें लाइन हाजिर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
204,341FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe