Saturday, July 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयखुदाई में मिला हजारों साल पुराना 'फ्रिज' और उसमें रखा खाना, साथ में सूर्य...

खुदाई में मिला हजारों साल पुराना ‘फ्रिज’ और उसमें रखा खाना, साथ में सूर्य देवता की वेदी भी: वैज्ञानिक भी नहीं समझ पा रहे कैसे करता है काम

विशेषज्ञों का कहना है कि नोवा शहर को पहली शताब्दी ईस्वी में रोमन सैनिकों के लिए डेन्यूब नदी पर एक स्थायी सैन्य शिविर के रूप में बसाया गया था। यहाँ बने किले में पाँचवीं शताब्दी के मध्य तक सैनिक रहते थे। माना जाता है कि लगभग 6.2 मील नहर और दो बड़े पानी के टैंकों से बुल्गारिया स्थित रोमन सेना को पानी पहुँचाया जाता था।

यूरोपीय देश बुल्गारिया (Bulgaria) में पुरातत्वविदों ने एक प्राचीन फ्रिज (Fridge) बरामद किया है, जिसमें अभी भी बचा हुआ खाना है। जिस जगह यह फ्रिज मिला है, वह पहले रोमन साम्राज्य (Roman Empire) का एक सैन्य शिविर था। यह पहली शताब्दी ईस्वी का होने का अनुमान लगाया जा रहा है।

यह बुल्गारिया के Svishtov शहर से लगभग चार किलोमीटर पूर्व में स्थित नोवा (Novae) पुरातात्विक स्थल में पाई गई है। यह फ्रिज सिरेमिक प्लेटों से बनाया गया है। इसमें अभी भी जानवरों की हड्डियाँ, व्यंजन के टुकड़े और पके हुए मांस के निशान हैं।

पोलैंड में वारसॉ विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों ने इसे 7 अक्टूबर 2022 को दुनिया के सामने लाया है। यूनिवर्सिटी के एंटिकिटी ऑफ साउथईस्टर्न यूरोप रिसर्च सेंटर के प्रोफेसर पिओट्र डाइजेक के अनुसार, फ्रिज और अंदर की सामग्री की सही उम्र के बारे में अभी पता लगाया जाना बाकी है।

विशेषज्ञों ने यह नहीं बताया कि फ्रिज कैसे काम करता था, लेकिन आमतौर पर उन्हें जमीन के नीचे गड्ढों में रखा जाता था, जो गर्मियों में सामग्री को अच्छी तरह से ठंडा रखने के लिए बर्फ से ढके होते थे। डाइजेक ने बताया कि ऐसे ‘रेफ्रिजरेटर’ की खोज दुर्लभ है, क्योंकि इमारतों के पुनर्निर्माण के दौरान शायद ही ये बचते हैं।

फ्रिज के अलावा, पुरातत्वविदों को सिक्कों का एक संग्रह मिला, जिनमें से अधिकांश कांस्टेंटाइन द ग्रेट के शासनकाल की शुरुआत से लेकर तीसरी शताब्दी के मध्य में तक के हैं। तीसरी शताब्दी के मध्य में गोथ आक्रमण हुआ था। उन्होंने घर के अवशेषों के साथ-साथ दीवारों की एक पूरी लाइन का भी खुलासा किया, जिसमें क्वार्न पत्थरों, बुनाई और मछली पकड़ने, हड्डियों और पोत के टुकड़े शामिल हैं।

प्रोफेसर ने बताया कि इस क्षेत्र में चल स्मारकों का भी पता लगाया गया है और उनमें से सबसे महत्वपूर्ण हैं, दो रोमन वेदियाँ। इन वेदियों पर अभिलेख भी शामिल हैं। उन्होंने कहा, “वे बहुत ही अनोखे हैं, हम मिथ्रा को समर्पित वेदियों के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं।”

इनमें से एक सूर्य देवता को समर्पित है, जिन्हें मिथ्रा कहा जाता था। वहीं, दूसरा वेदी कैपिटोलिन ट्रिनिटी (बृहस्पति, मिनर्वा, जूनो) को समर्पित है। इसे इटली की पहली सैन्य टुकड़ी के सेनापति द्वारा दान किया गया था।

डाइजेक ने कहा, “वेदियों के दाताओं के कार्य बहुत दिलचस्प हैं। सेनापति सेना का निशान पहनता था और यह एक उच्च पद था। अब तक, ऐसे पदों पर बैठे पुरुषों को चित्रित करने वाले कुछ शिलालेख पाए गए हैं।”

विशेषज्ञों का कहना है कि नोवा शहर को पहली शताब्दी ईस्वी में रोमन सैनिकों के लिए डेन्यूब नदी पर एक स्थायी सैन्य शिविर के रूप में बसाया गया था। यहाँ बने किले में पाँचवीं शताब्दी के मध्य तक सैनिक रहते थे। माना जाता है कि लगभग 6.2 मील नहर और दो बड़े पानी के टैंकों से बुल्गारिया स्थित रोमन सेना को पानी पहुँचाया जाता था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे ‘चाणक्य’ बताया, उसके समर्थन के बावजूद हारा मौजूदा MLC: महाराष्ट्र में ऐसे बिखरा MVA गठबंधन, कॉन्ग्रेस विधायकों ने अपनी ही पार्टी को दिया...

जिस जयंत पाटील के पक्ष में महाराष्ट्र की राजनीति के कथित चाणक्य और गठबंधन के अगुवा शरद पवार खुद खड़े थे, उन्हें ही हार का सामना करना पड़ा।

18 बैंक खाते, 95 करोड़ रुपए, अब तक 11 शिकंजे में… जनजातीय समाज का पैसा डकारने के मामले में कॉन्ग्रेस के पूर्व मंत्री गिरफ्तार,...

सीधे शब्दों में समझें तो पूरा मामला ये है कि ST निगम के कुछ अधिकारियों ने फर्जी हस्ताक्षरों का इस्तेमाल कर के अवैध रूप से 94,73,08,500 रुपए विभिन्न बैंक खातों में भेज दिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -