Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकनाडा में अब दुर्गा मंदिर पर हमला, दीवारों पर लिखा- पंजाब इज नॉट इंडिया:...

कनाडा में अब दुर्गा मंदिर पर हमला, दीवारों पर लिखा- पंजाब इज नॉट इंडिया: पहले भी हिंदुओं के पूजा स्थलों को निशाना बना चुके हैं खालिस्तानी

बता दें कि कनाडा में हिंदू मंदिरों को निशाना बनाने और तोड़फोड़ की इस साल हुई यह चौथी घटना है। इससे पहले सरे शहर में ही 12 अगस्त, 2023 को खालिस्तानियों ने लक्ष्मी नारायण मंदिर में तोड़फोड़ की थी। मंदिर के गेट पर खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर के पोस्टर चिपका दिए थे।

खालिस्तानियों ने कनाडा में फिर से एक हिंदू मंदिर को निशाना बनाया है। अब ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत के सरे शहर में माता भामेश्वरी दुर्गा मंदिर में तोड़फोड़ की गई है। मंदिर की दीवारों पर भारत विरोधी नारे लिख दिए गए थे। इन नारों में प्रधानमंत्री मोदी को ‘आतंकी’ बताते हुए पंजाब को भारत से अलग बताया गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, खालिस्तानी आतंकियों ने गुरुवार (7 सितंबर, 2023) तड़के मंदिर को निशाना बनाया। स्थानीय निवासी जब मंदिर पहुँचे तो उन्होंने पुलिस को सूचना दी। माता भामेश्वरी दुर्गा मंदिर की दीवारों पर भारत विरोधी नारे लिखने के फोटो, वीडियो सामने आए हैं। दीवारों पर ‘मोदी इज टेररिस्ट’ यानी ‘मोदी आतंकी है’ और ‘पंजाब इज नॉट इंडिया’ यानी ‘पंजाब भारत का हिस्सा नहीं है’ लिखा देखा जा सकता है।

हिंदुस्तान टाइम्स ने मंदिर समिति के सदस्य रोहित के हवाले से कहा है कि अब इन नारों को हटा दिया गया है। खालिस्तानी आतंकियों की इस गतिविधि पर मंदिर समिति का कहना है कि मंदिर पूजा करने के स्थान होते हैं न कि राजनीतिक गुटों और विचारधाराओं की लड़ाई का मैदान। किसी भी प्रकार की नफरत स्वीकार करने योग्य नहीं है। कनाडा के सरे में रहने वाले फ्रेंड्स ऑफ कनाडा एन्ड इंडिया फाउंडेशन के सदस्य मनिंदर सिंह गिल ने इस घटना को कायराना हरकत करार दिया है।

गौरतलब है कि कनाडा में खालिस्तानी आतंकी लगातार पैर पसारते जा रहे हैं। 8 सितंबर को खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस ने वैंकूवर शहर में स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास को बंद करने की धमकी दी है। इस धमकी के बाद भारतीय उच्चायोग ने कनाडाई विदेश मंत्रालय को खालिस्तानी आतंकियों के चलते उत्पन्न खतरे के बारे में सूचित किया था।

कनाडा में मंदिर पर पहले भी हो चुके हैं हमले

बता दें कि कनाडा में हिंदू मंदिरों को निशाना बनाने और तोड़फोड़ की इस साल हुई यह चौथी घटना है। इससे पहले सरे शहर में ही 12 अगस्त, 2023 को खालिस्तानियों ने लक्ष्मी नारायण मंदिर में तोड़फोड़ की थी। मंदिर के गेट पर खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर के पोस्टर चिपका दिए थे। इसका सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया था।

इससे पहले इसी साल 31 जनवरी को ही कनाडा के ब्रैम्पटन में एक प्रमुख हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ की गई थी। इसके ऊपर भारत-विरोधी भड़काऊ बातें लिखी गई थीं। इसके बाद अप्रैल में भी कनाडा के ओंटारियो में एक और हिंदू मंदिर को खालिस्तानियों ने निशाना बनाया था। भारत-विरोधी नारे लिखे गए थे। इस मामले में कनाडा की सुरक्षा एजेंसियों ने एक सीसीटीवी फुटेज भी जारी किया था, जिसमें दो लोगों को मंदिर की दीवार पर स्प्रे पेंट के जरिए भारत विरोधी नारा लिखते हुए देखा गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -