Tuesday, July 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तान में चीनी इंजीनियर 'अल्लाह के अपमान' में गिरफ्तार, रमजान में धीमे काम पर...

पाकिस्तान में चीनी इंजीनियर ‘अल्लाह के अपमान’ में गिरफ्तार, रमजान में धीमे काम पर बोला तो हत्या करने पर उतर गई कट्टरपंथी भीड़: पहले श्रीलंकाई मैनेजर को जलाया था जिंदा

प्रोजेक्ट में काम कर रहे मुस्लिम मजदूरों ने इंजीनियर पर अल्लाह के अपमान का आरोप लगाया। इसके बाद सड़क काम कर दिया गया।

उत्तरी पाकिस्तान में चीन के एक इंजीनियर को गिरफ्तार किया गया है। उस पर अल्लाह के अपमान का आरोप है, जिसके बाद मुस्लिम भीड़ ने जम कर विरोध प्रदर्शन किया था। भीड़ उस पर हमले के लिए अंडा हो गई थी। आरोप है कि काम के दौरान ही उसने एक झगड़े में ईशनिंदा की। वो चीन की कंपनी ‘Gezhouba Group’ में कार्यरत है। वो दासु हाइड्रोपॉवर प्रोजेक्ट के काम में लगा हुआ था। उसे रविवार (16 अप्रैल, 2023) की शाम को गिरफ्तार किया गया।

इस्लामाबाद से 350 किलोमीटर दूर स्थित कैम्प से उसे गिरफ्तार किया गया। पुलिस का कहना है कि कोई गंभीर स्थिति न पैदा हो जाए, इसीलिए ये कार्रवाई की गई। ये घटना पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में स्थित कोहिस्तान गाँव की है। इस महीने की शुरुआत में इस कैम्प में शॉर्ट सर्किट के कारण आग भी लग गई थी। प्रोजेक्ट में काम कर रहे मुस्लिम मजदूरों ने इंजीनियर पर अल्लाह के अपमान का आरोप लगाया। इसके बाद सड़क काम कर दिया गया। चीनी कैम्प के बाहर भी बड़ी संख्या में मुस्लिम भीड़ जुटी हुई थी।

रमजान के दौरान काम काफी धीमा हो गया था, इसीलिए इंजीनियर ने मजदूरों को काम तेजी से करने की नसीहत दी थी। वहाँ से कुछ ही दूसरी पर काराकोरम हाइवे स्थित है, पाकिस्तान को चीन से जोड़ने वाला एकमात्र राजमार्ग। उसे जाम कर दिया गया। ये इलाका हिमालय पर पड़ता है। इस घटना के बाद वहाँ काम कर रहे अन्य चीनी नागरिकों की सुरक्षा पर भी सवाल खड़ा हो गया है। दंगे की स्थिति पैदा हो गई थी। अब स्थानीय मौलानाओं की बैठक में तय किया जाएगा कि पुलिस में मामला दर्ज कराना है या नहीं।

बता दें कि पाकिस्तान में ईशनिंदा पर मौत की सज़ा का ही प्रावधान है। इससे पहले दिसंबर 2021 में एक वीभत्स घटना सामने आई थी, जब श्रीलंका के एक फैक्ट्री मैनेजर को ज़िंदा जला दिया गया था। उस पर भी ईशनिंदा का आरोप मजदूरों ने लगाया था। पाकिस्तान में चीनी नागरिकों को लेकर भी ऐसी घटनाएँ हुई हैं। 2021 में इसी इलाके में एक बस पर हुए हमले में 12 लोग मारे गए थे, जिनमें 9 चीन के नागरिक थे। 2022 में कराची में हुए एक एक आत्मघाती बम हमले में तीन चीनी शिक्षकों और उनके ड्राइवर को मार डाला गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अजमेर दरगाह के बाहर ‘सर तन से जुदा’ की गूँज के 11 दिन बाद उदयपुर में काट दिया गया था कन्हैयालाल का गला, 2...

राजस्थान के अजमेर दरगाह के सामने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाने वाले खादिम मौलवी गौहर चिश्ती सहित छह आरोपितों को कोर्ट ने बरी कर दिया है।

जिस किले में प्रवेश करने से शिवाजी को रोक नहीं पाई मसूद की फौज, उस विशालगढ़ में बढ़ रहा दरगाह: काटे जा रहे जानवर-156...

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में स्थित विशालगढ़ किला में लगातार अतिक्रमण बढ़ रहा है। यहाँ स्थित एक दरगाह के पास कई अवैध दुकानें बन गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -