Sunday, October 17, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयCOVID-19: 10,000 से ऊपर हुआ मौत का आँकड़ा, इटली में 3405, अंतिम संस्कार के...

COVID-19: 10,000 से ऊपर हुआ मौत का आँकड़ा, इटली में 3405, अंतिम संस्कार के लिए लगाई सेना

भारत में सबसे ज्यादा ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र है। ताजा आँकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में अभी तक 48 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें 44 भारतीय और तीन विदेशी नागरिक शामिल हैं। वहीं, एक की जान भी चली गई। महाराष्ट्र के बाद केरल में 31 पॉजिटिव केस सामने आए हैं। इनमें से 26 भारतीय और दो विदेशी नागरिक हैं।

चीन के वुहान से शुरू हुए कोरोना वायरस के संक्रमण से होने वाली मौतों में इटली कहीं आगे निकल चुका है। चीन के बाद इटली दूसरा सबसे बड़ा ऐसा शहर है जहाँ पर इस वायरस के कारण अब तक सर्वाधिक मौतें हो चुकी हैं। हालात इतने गंभीर हैं कि इटली में मरने वालों का अंतिम संस्कार करने के लिए अब सेना को लगाया गया है।

विश्वभर में कोरोना के कारण मरने वालों की संख्या दस हजार को पार करते हुए 10,405 पहुँच चुकी है, जिनमें से 3400 अकेले इटली के हैं। यूरोप महाद्वीप में अब तक 4,932 और एशिया महाद्वीप में 3,431 मौतें हो चुकी हैं।

एक ओर जहाँ चीन में वायरस के कारण होने वाली मौतों में ठहराव देखा गया है, वहीं इस वायरस से बुरी तरह प्रभावित इटली मौतों के मामले में चीन से आगे निकल गया है। पिछले चौबीस घंटों के दौरान इटली में 427 से अधिक लोगों की मौत हो गई है। इस यूरोपीय देश में अब तक 3405 लोग अपनी जान गँवा चुके हैं। जबकि चीन में 3248 लोगों की जान गई है। वहीं इरान में मरने वालों की संख्या 1433 तक पहुँच चुकी है।

वहीं भारत में स्वास्थ्य मंत्रालय के आँकड़ों के मुताबिक अभी तक कुल 223 पॉजिटिव केस हैं। इनमें से 32 विदेशी नागरिक हैं। जबकि 23 लोगों के पूरी तरह से स्वस्थ होने की बात भी सरकार कह रही है। आज सबसे ज़्यादा मामले बढ़े हैं, एक ही दिन में 50 मामले सामने आए हैं। भारत में इस वायरस के कारण मरने वालों की संख्या पाँच हो चुकी है।

भारत में सबसे ज्यादा ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र है। ताजा आँकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में अभी तक 48 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें 44 भारतीय और तीन विदेशी नागरिक शामिल हैं। वहीं, एक की जान भी चली गई। महाराष्ट्र के बाद केरल में 31 पॉजिटिव केस सामने आए हैं। इनमें से 26 भारतीय और दो विदेशी नागरिक हैं।

कोरोना के खतरे से निपटने के लिए कल ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए देशवासियों से 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाने का आह्वान किया है। पीएम ने यह भी कहा है कि यह वैश्विक महामारी हो चुकी है। इससे पूरा विश्व परेशान है। उन्होंने देशविसयों से वैश्विक महामारी से लड़ने के लिए साथ आने की अपील की है। साथ ही उन्होंने बुजुर्ग लोगों से घर से बाहर नहीं निकले की अपील की है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हम देश को जाति-क्षेत्र और मजहब के आधार पर बँटने नहीं देंगे, दंगा किया…तो सात पुश्तें भरेंगी’: योगी आदित्यनाथ

पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा दंगा करोगे तो सात पुश्तों को इसकी भरपाई करनी पड़ेगी। मूर्ति कला उद्योग बना रोजगार का साधन।

‘और गिरफ़्तारी की बात मत करो, वरना सरेंडर करने वाले साथियों को भी छुड़ा लेंगे’: निहंगों की पुलिस को धमकी, दलित लखबीर को बताया...

दलित लखबीर की हत्या पर निहंग बाबा राजा राम सिंह ने कहा कि हमारे साथियों को मजबूरन सज़ा देनी पड़ी, क्योंकि किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,325FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe