Monday, July 26, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयईद में चाँद देखने के लिए न हों इकट्ठा: SA मुस्लिम परिषद ने किया...

ईद में चाँद देखने के लिए न हों इकट्ठा: SA मुस्लिम परिषद ने किया आग्रह, द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान लगाया था प्रतिबंध

"ईद संभावित रूप से एक सुपर-स्प्रेडिंग इवेंट बन सकता है, जिसके परिणामस्वरूप कई और लोगों की जानें जा सकती हैं। ऐसे में अगर लोग लॉकडाउन नियमों की अवहेलना करते हैं और एक-दूसरे के घर जाना शुरू कर दें तो यह अपना प्रभाव खो देगा। इसलिए कृपया..."

दक्षिण अफ्रीका की मुस्लिम न्यायिक परिषद (MJCSA) ने यह कहते हुए मुस्लिम समुदाय को पारंपरिक सभाओं और समारोहों में शामिल होने के लिए सचेत किया है कि अगर इस ईद में दिशा-निर्देशों का पालन नहीं किया जाएगा तो संभावित रूप से यह महामारी दोगुनी गति से फैल सकती है।

परिषद ने कहा कि इस महामारी के चलते समुदाय के सदस्यों को खुले स्थानों पर नमाज पढ़ने के लिए मिलना और परिवार-दोस्तों के साथ कब्रिस्तान की यात्रा जैसी सामान्य प्रथा को त्यागना होगा।

बयान में कहा गया है, “ईद संभावित रूप से एक सुपर-स्प्रेडिंग इवेंट बन सकता है, जिसके परिणामस्वरूप कई और लोगों की जानें जा सकती है। ऐसे में अगर लोग लॉकडाउन नियमों की अवहेलना करते हैं और एक-दूसरे के घर जाना शुरू कर दें तो यह अपना प्रभाव खो देगा। इसलिए कृपया शारीरिक रूप से एक साथ रहने से बचें क्योंकि यह आपके और आपके परिवार को जोखिम में डालता है।”

रिपोर्टों के अनुसार, इस देश में 27 मार्च से लॉकडाउन है। दक्षिण-अफ्रीका के राष्ट्रपति ने अंतिम महीने में लॉकडाउन के पाँचवें चरण के योजना की घोषणा की थी, जिसमें कुछ छूट शामिल थी।

बता दें कि रमज़ान के अंत और अगले दिन ईद के आगमन का संकेत देने तथा चंद्रमा को देखने के लिए दक्षिण अफ्रीका में मुस्लिम बड़ी संख्या में समुद्र तट पर इकट्ठा होते हैं। अब एमजेसीएसए ने दूसरी बार परंपरा शुरू होने के बाद लोगों को दूरी बनाए रखने और घर में रहने का आदेश दिया है। पहली बार उन्हें द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान प्रतिबंधित किया गया था।

कथित तौर पर, केप टाउन कोरोनो वायरस के प्रकोप का केंद्र बना हुआ है। एमजेसीएसए ने कहा, “पश्चिमी केप इस वक़्त संक्रमण के चरम पर है, जिसमें कोविड-19 मामलों और मौतों की संख्या सबसे अधिक है और कुछ अस्पतालों में गंभीर रूप से बीमार कोविड-19 मामलों के तेजी से भरने की खबरें भी हैं। हमने यहाँ अंतरराष्ट्रीय आँकड़ो की तुलना में लोगों को मरते हुए देखा है।”

इसमें आगे कहते हुए इसीलिए एमजेसीएसए सभी से अनुरोध करता है कि समुदाय को प्रथागत चाँद दिखने वाले स्थानों पर इकट्ठा नहीं होना चाहिए। वो सलाह देते हैं कि सारे परिवार ईद के दिन घर पर ही रहें और अपने रिश्तेदारों से मिलने न जाएँ। ”

दक्षिण अफ्रीका में मुस्लिम समुदाय ईद के दिन लोगों को से कब्रिस्तान से दूर रहने का आग्रह करते रहे हैं। साथ ही लोगों से यह भी आग्रह किया गया है कि वे दोपहर और रात के खाने के लिए सामाजिक समारोहों में न शामिल हों और एक-दूसरे को दूर से बधाई देने का सुझाव दें।

रिपोर्टों के अनुसार, सभी धर्मों के कई धार्मिक नेताओं ने गुरुवार (21मई,20) को सिरिल रामाफोसा से मुलाकात की और उनसे सख्त दिशा-निर्देशों के साथ धार्मिक स्थानों को खोलने का आग्रह किया। इस मामले में अब तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe