Monday, July 4, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयISI का तालिबान और पाकिस्तानी सेना को निर्देश, अफगानिस्तान में भारतीय संपत्तियों को बनाएँ...

ISI का तालिबान और पाकिस्तानी सेना को निर्देश, अफगानिस्तान में भारतीय संपत्तियों को बनाएँ निशाना: 10 हजार लड़ाके शामिल

रिपोर्ट के अनुसार खुफिया सूत्रों से यह सूचना मिली है कि लगभग 10,000 पाकिस्तानी, इस्लामिक आतंकी संगठन की सहायता करने के लिए अफगानिस्तान में घुस चुके हैं।

पाकिस्तान की इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) ने तालिबानी लड़ाकों और उनकी सहायता के लिए गए पाकिस्तानी सेना के जवानों को यह निर्देश दिया है कि अफगानिस्तान में भारतीय सद्भावना के तौर पर बनाए गए प्रतीक चिन्हों को निशाना बनाया जाए। एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार खुफिया सूत्रों से यह सूचना मिली है कि लगभग 10,000 पाकिस्तानी, इस्लामिक आतंकी संगठन की सहायता करने के लिए अफगानिस्तान में घुस चुके हैं।

खुफिया सूत्रों के मुताबिक इन लड़ाकों और कट्टरपंथियों को स्पष्ट तौर पर यह निर्देश दिया गया है कि भारतीय संपत्तियों और भारत सरकार के द्वारा सद्भावना नीति के तहत किए गए निर्माण कार्यों को निशाना बनाया जाए। पिछले कुछ सालों में अफगानिस्तान के पुनर्निर्माण के उद्देश्य से भारत ने 3 बिलियन डॉलर (लगभग 22,383 करोड़ रुपए) का निवेश किया है। इनमें अफगानी संसद और डेलारम एवं जरंज सलमा डैम के बीच 218 किमी की रोड भी शामिल है।

हाल ही में एक भारतीय फोटो पत्रकार को अफगानी सेना के साथ संघर्ष के दौरान तालिबानी लड़ाकों के द्वारा मार दिया गया। अफगानी सरकार ने यह संकेत भी दिए थे कि आगामी भविष्य में उसके द्वारा भारत से सैन्य सहायता ली जा सकती है।

भारत में अफगानिस्तान के राजदूत फरीद मामुंडजे ने कहा कि अगर उन्हें तालिबान के साथ शांति वार्ता करने का मंच नहीं मिलता तो संभव है कि आगामी भविष्य में अफगानिस्तान, भारत से सैन्य सहायता की आशा कर सकता है। हालाँकि अफगानी राजदूत ने यह स्पष्ट किया है कि फिलहाल युद्धरत अफगानिस्तान भारतीय सैन्य बलों की सहायता नहीं ले रहा है।

मामुंडजे ने यह भी कहा कि हम अफगानिस्तान में सेना भेजने के लिए भारत की सहायता नहीं ले रहे हैं। वर्तमान स्थितियों में युद्ध लड़ने के लिए फिलहाल भारत की सहायता की आवश्यकता नहीं है। साथ ही मामुंडजे ने यह भी कहा कि अफगानिस्तान की वायुसेना जरूर पायलट प्रशिक्षण जैसी जरूरतों के लिए भारत की सहायता ले सकती है और भारत भी एक ऐसी स्वाभाविक जगह है जहाँ से वह शामिल होना चाहेगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

AG के पास पहुँचा TMC वाला साकेत गोखले, हमारे खिलाफ चलाना चाहता है अदालत की अवमानना का मामला: हम अपने शब्दों पर अब भी...

ऑपइंडिया की एडिटर नुपूर शर्मा के लेख की शिकायत लेकर टीएमसी नेता साकेत गोखले अटॉर्नी जनरल के पास गए हैं ताकि अदालत की अवमानना का केस चलवा सकें।

‘शौच करने गई थी, मोहम्मद जाकिर हुसैन सर पीछे-पीछे आ गए’: मिडिल स्कूल में शिक्षक ने नाबालिग छात्रा से की छेड़खानी, हुआ गिरफ्तार

बिहार के सुपौल में शिक्षक जाकिर हुसैन ने 7वीं कक्षा की लड़की के साथ छेड़छाड़ किया। परिजनों ने थाने में दर्ज कराया मामला। आरोपित गिरफ्तार।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,064FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe