Monday, April 15, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाचिताओं की फोटो पर लिबरल थे निहाल, 'आखिरी' फोटो पर जले-भुने: तालिबान ने दानिश...

चिताओं की फोटो पर लिबरल थे निहाल, ‘आखिरी’ फोटो पर जले-भुने: तालिबान ने दानिश को मारा, अब मौत पर पाखंड

दानिश सिद्दकी की हत्या के बाद सोशल मीडिया पर कुछ लोग उनकी 'आखिरी तस्वीर' बताकर एक फोटो शेयर कर रहे हैं, जिस पर कुछ पत्रकारों ने अपील की है कि ऐसी फोटो आगे न बढ़ाई जाएँ। लेकिन यूजर्स का कहना है कि दानिश ने कोविड-19 से जान गँवाने वाले लोगों के दाह संस्कार की तस्वीर बेची थी, इसलिए उनकी तस्वीर सर्कुलेट करना जायज है।

अफगानिस्तान के कंधार के स्पिन बोल्डक जिले में तालिबानियों ने रॉयटर्स के फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दकी को मार डाला। दानिश अंतरराष्ट्रीय स्तर के पत्रकार थे जिन्हें साल 2018 में पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उनकी हत्या के बाद उनकी ‘आखिरी’ फोटो बताकर एक तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर हो रही है, जिसे देख कई अन्य लिबरल पत्रकारों ने इसे प्रसारित न करने की अपील की है। हालाँकि, यूजर्स ने अपील मानने की जगह पूछा है कि जब दानिश मृतकों के दाह संस्कार की तस्वीरें शेयर कर रहे थे तब ऐसा क्यों नहीं कहा गया।

दरअसल, दानिश की मौत की खबर के बाद ‘द इंडिपेंडेंट की पत्रकार स्तुति मिश्रा’ ने उनके द्वारा क्लिक की गई कुछ चयनित तस्वीरों को ट्विटर पर शेयर किया। इसके बाद एक यूजर ने फोटो जर्नलिस्ट की आखिरी फोटो वहाँ साझा कर दी। इसे देख स्तुति ने उस ट्वीट पर अपील की कि इस तरह की तस्वीर न शेयर की जाए। उन्होंने लिखा कि वह तस्वीर को लेकर स्पष्ट नहीं है, मगर किसी भी मृतक की तस्वीर कइयों को ट्रिगर कर सकती है और ये मृतक के लिए अपमानजनक होता है।

स्तुति मिश्रा की अपील

इसी प्रकार द न्यू यॉर्क टाइम्स के पत्रकार मुजीब मशाल ने लिखा कि किसी के घरवालों को पता चलने से पहले या उसके बाद भी किसी की मौत की तस्वीर न शेयर करें।

द न्यू यॉर्क टाइम्स के पत्रकार मुजीब मशाल की अपील

इस तरह अपीलों को देखने के बाद कई यूजर मीडिया पत्रकारों के पाखंड पर भड़क गए। लोगों ने तमाम फोटोज शेयर करते हुए कहा कि दानिश ने कोविड से मरने वालों की तस्वीरें बेची थीं। इसके बावजूद कुछ पाखंडी थे जो सिद्दकी की हरकत के लिए उनकी सराहना कर रहे थे और आज जब उनकी आखिरी तस्वीर लोग शेयर कर रहे हैं तो इन्हें परेशानी है।

लोगों ने तर्क दिया कि दानिश सिद्दकी ने मृतकों के दाह संस्कार की तस्वीरें सोशल मीडिया पर डाली थी वो भी बिना पीड़ित परिवारों की मर्जी जाने। ऐसे में अगर उनको खुद पता चलेगा कि उनकी तस्वीर से उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर की ख्याति मिल रही है तो शायद उन्हें आपत्ति न हो।

यूजर्स ने स्तुति को उनके पाखंड का भी आइना दिखाया। स्तुति मिश्रा जिन्होंने दानिश की आखिरी तस्वीर शेयर न करने के लिए लोगों से अपील की थी। उन्हीं स्तुति ने दानिश के बेहतरीन क्लिक्स में से दाह संस्कार की तस्वीर शेयर की थी। लोगों ने पूछा क्या ऐसा करना मृतकों के लिए अपमानजनक नहीं है।

इस पूरे बवाल के बीच व लोगों की उलटी प्रतिक्रिया देखकर पत्रकार अपनी गलती मानने की बजाय बाकी यूजर्स को भला बुरा बोलने लगीं। उन्होंने यूजर्स को बेवकूफ करार देते हुए कहा, “मेरी टाइमलाइन पर कुछ बेवकूफों को फोटो जर्नलिस्ट की ड्यूटी और उनके द्वारा शेयर की जा रही तस्वीर में फर्क तक नहीं पता। मैं उनसे कुछ जानने की उम्मीद नहीं करती। लेकिन सच ये है कि किसी की मौत पर इन राक्षसों द्वारा घोला जा रहा जहरीलापना मुझे अब भी हैरान कर रहा है।

स्तुति का ट्वीट

स्तुति के इस ट्वीट के बावजूद अब भी दानिश के कामों पर बहस जारी है। लोगों का कहना है कि सिद्दकी एक अवसरवादी थे और लोगों के हालातों को अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करते थे। इसलिए उनकी तस्वीर शेयर करने में कुछ गलत नहीं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गरीब घटे-कारोबार बढ़ा, इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर विज्ञान तक बुलंदी… लेखक अमीश त्रिपाठी ने बताया क्यों PM मोदी को करेंगे वोट, कहा – चाहिए चाणक्य...

"वैश्विक इतिहास के ऐसे नाजुक समय में हमें ऐसे नेतृत्व की आवश्यकता है जो गहन प्रेरणा व उम्दा क्षमताओं से लैस हो, मेहनती हो, जनसमूह को अपने साथ लेकर चले।"

‘कुछ गुट कर रहे न्यायपालिका को कमजोर करने की कोशिश’: CJI को 21 पूर्व जजों ने लिखी चिट्ठी, 600+ वकीलों ने भी ‘दबाव’ पर...

सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के 21 पूर्व न्यायाधीशों ने CJI को चिट्ठी को लिखी है और कहा है कि कुछ गुट न्यायापालिका को कमजोर कर रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe