Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमहिला के हाथों में होगी नॉर्थ कोरिया की कमांड? 9 साल की बेटी और...

महिला के हाथों में होगी नॉर्थ कोरिया की कमांड? 9 साल की बेटी और बहन को ट्रेनिंग दे रहे किम जोंग, कई बीमारियों ने तानाशाह को घेरा

एक्सपर्ट्स का यह मानना है कि अगर 40 वर्षीय किम की मृत्यु जल्दी हो जाती है या उन्हें किसी वजह से अपनी कुर्सी से हटना पड़ता है तब भी उनका ही शासन जारी रहेगा। ऐसे में किम के बाद उनकी कुर्सी का मजबूत दावेदार उनकी छोटी बहन किम यो जोंग को माना जा रहा है। बहन के अलावा किम की बेटी भी मजबूत दावेदार है।

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन (Kim Jong-un) के बीमार होने की अफवाहों के बीच अब यह दावा किया जा रहा है कि वह अपनी बहन और बेटी को भविष्य में देश की सत्ता संभालने के लिए तैयार कर सकते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक, नॉर्थ कोरिया का तानाशाह किम आने वाली पीढ़ियों के लिए उत्तर कोरिया में अपने परिवार की शक्ति को मजबूत करना चाहता है इसलिए वह यह योजना बना रहा होगा।

द सन की खबर के अनुसार, एक्सपर्ट्स का यह मानना है कि अगर 40 वर्षीय किम की मृत्यु जल्दी हो जाती है या उन्हें किसी वजह से अपनी कुर्सी से हटना पड़ता है तब भी उनका ही शासन जारी रहेगा। ऐसे में किम के बाद उनकी कुर्सी का मजबूत दावेदार उनकी छोटी बहन किम यो जोंग (Kim Yo-jong) को माना जा रहा है। इस बीच किम की नौ साल की बेटी किम ज्यू-एई (Kim Jue-ae) भी खासा चर्चा में हैं। हाल ही में किम ज्यू-एई को अपने पिता के साथ मिसाइल लॉन्च के मौके पर देखा गया था।

उत्तर कोरिया का मीडिया उसे किम की ‘प्यारी’ और ‘अनमोल’ बच्ची के रूप में दिखा रहा है। किम की 35 वर्षीय बहन उसकी खासदार यानी सबसे भरोसेमंद लोगों में से एक रही है। ये दोनों भाई-बहन बहुत छोटी सी उम्र से एक-दूसरे के बेहद करीब हैं। नॉर्थ कोरिया लीडरशिप वॉच के निदेशक और संस्थापक माइकल मैडेन के अनुसार, अगर किम जोंग-उन को किसी कारण सत्ता छोड़नी पड़ी या उनका निधन हो गया तो भी उत्तर कोरिया कमजोर पड़ने वाला नहीं है। यहाँ किम यो-जोंग के नेतृत्व में अभिजात वर्ग का सामूहिक नेतृत्व देखने को मिल सकता है। मैडेन ने यह भी कहा कि नेतृत्व टीम में किम के अन्य भरोसेमंद लोग अर्थात् उनके इनर सर्कल के सदस्य भी शामिल होंगे।

उन्होंने आगे कहा, “शीर्ष नेतृत्व के पदों पर डीपीआरके के अभिजात वर्ग में ऐसे व्यक्ति होते हैं, जिन्हें किम परिवार के नेतृत्व के प्रति उनकी वफादारी के लिए चुना गया था। इस वफादारी के हिस्से में समर्थन भी शामिल है, जो किम जोंग के बाद के सत्ता परिवर्तन के लिए जो भी योजनाएँ हैं, उसके लिए मिला है।” माना जाता है कि किम के करीबी और भरोसेमंद लोगों में उनकी बहन, बेटी के अलावा पत्नी री सोल जू, भाई किम जोंग-चुल और उनके शीर्ष जनरल-प्रीमियर किम टोक-हुन, जनरल चो रयोंग-हे और मार्शल पाक जोंग-चोन भी शामिल हैं। ऐसे में अटकलें हैं कि किम की बेटी भी उनकी उत्तराधिकारी हो सकती है, जिसे वह (किम) दो मिसाइल लॉन्च के मौके पर लेकर गए थे।

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के न्यू कॉलेज में राजनीति के लेक्चरर डॉ एडवर्ड हॉवेल का मानना है कि अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि वह (किम की बेटी) इस लाइन में हैं या नहीं। डॉ हॉवेल ने कहा कि यह सर्वविदित है कि किम का स्वास्थ्य लगातार गिरता जा रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि किम को उच्च रक्तचाप, डायबिटीज, हाई कोलेस्ट्रॉल जैसी कई बीमारियाँ हैं। साल 2020-2021 में किम जोंग का अचानक से वजन घटना उनके गिरते स्वास्थ्य को दर्शाता है। इसके अलावा वह चेन स्मोकिंग के दुष्प्रभावों से भी जूझ रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -