Saturday, June 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'हमें भी भारत से धमकियाँ मिल रही थीं, फिर भी हम वहाँ गए': न्यूजीलैंड...

‘हमें भी भारत से धमकियाँ मिल रही थीं, फिर भी हम वहाँ गए’: न्यूजीलैंड के बाद इंग्लैंड का पाकिस्तान दौरा रद्द होने से बौखलाए अफरीदी

“हम सभी इस बात को जानते हैं कि जब कभी भी किसी दौरे का इंतजाम किया जाता है तो सुरक्षा को लेकर काफी पुख्ता इंतजाम होते हैं। जो देश दौरा कर रही होती है उनके सुरक्षाकर्मियों द्वारा बेहद ही अच्छी तरह से जाँच कराया जाता है। इसको लेकर रास्ते तय किए जाते हैं और..."

भारत के खिलाफ अक्सर आग उगलने वाले और नफरत फैलाने वाले बयान देने वाले पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने एक बार फिर से भारत को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। दरअसल पाकिस्तान क्रिकेट के लिए बीते कुछ दिन अच्छे नहीं बीते हैं। पहले न्यूजीलैंड और फिर इंग्लैंड ने यहाँ का दौरा करने से इनकार कर दिया। ईसीबी और न्यूजीलैंड बोर्ड के इस फैसले को पाकिस्तान पचा नहीं पा रहा है और पूर्व पाकिस्तानी कप्तान शाहिद अफरीदी ने भारत पर दौरे को रद कराने की साजिश का आरोप लगाया है।

अफरीदी ने कहा, “हम सभी इस बात को जानते हैं कि जब कभी भी किसी दौरे का इंतजाम किया जाता है तो सुरक्षा को लेकर काफी पुख्ता इंतजाम होते हैं। जो देश दौरा कर रही होती है उनके सुरक्षाकर्मियों द्वारा बेहद ही अच्छी तरह से जाँच कराया जाता है। इसको लेकर रास्ते तय किए जाते हैं और एक बार जब यह प्रक्रिया पूरी हो जाती है तभी टीम के दौरे को हरी झंडी दिखाई जाती है।”

उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड के क्रिकेटरों को पाकिस्तान में बहुत प्यार किया जाता है और उनके द्वारा ऐसा कुछ किया जाना माफी के योग्य नहीं है। अगर जो किसी तरह का डर या धमकी वाकई होती तो उनको यह चीज पीसीबी के साथ साझा करनी चाहिए थी। उनको पाकिस्तान की सिक्योरिटी फ़ोर्स को इस स्थिति को भाँपने दिया जाता।

दरअसल पिछले दिनों पाकिस्तान के सूचना मंत्री ने इस बात का दावा किया था कि न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम को भारत की तरफ से धमकी भरा मेल आया था। फवाद चौधरी ने कहा था कि यह जो मेल है वो भारत की तरफ से जेनरेट किया गया था जिसकी वीपीएन लोकेशन सिंगापुर बता रहा है।

अफरीदी ने सूचना मंत्री के दावे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अन्य ‘शिक्षित राष्ट्रों’ को भारत के नक्शेकदम पर नहीं चलना चाहिए और अपनी समझ के अनुसार फैसला लेना चाहिए। उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि हमें एक ऐसा निर्णय लेने की ज़रूरत है, जो दुनिया को दिखाए कि हम भी एक देश हैं और हमारा अपना गौरव है। एक देश हमारे पीछे है तो ठीक है, लेकिन मुझे नहीं लगता कि दूसरे देशों को भी वही गलती करनी चाहिए। यह सभी शिक्षित राष्ट्र हैं और उन्हें भारत का अनुसरण नहीं करना चाहिए। 

अफरीदी ने आगे कहा, “इसके बजाय, क्रिकेट को संबंधों में सुधार करना चाहिए। भारत में भी स्थिति खराब थीं। हमें धमकियाँ मिल रही थीं। हमारे बोर्ड ने हमें जाने के लिए कहा और हम वहाँ गए। इसी तरह कोविड-19 के दौरान इंग्लैंड में जो हालात थे, क्रिकेट चलता रहा। अगर आप फर्जी ई-मेल पर भरोसा करते हैं और टूर कैंसिल करते हैं तो मेरा मानना है कि आप उन्हें उकसावा दे रहे हैं। यह सही तरीका नहीं है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -