Tuesday, July 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकॉमनवेल्थ गेम्स के लिए बर्मिंघम गए पाकिस्तान के दो मुक्केबाज लापता, ऐसे ही 2...

कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए बर्मिंघम गए पाकिस्तान के दो मुक्केबाज लापता, ऐसे ही 2 महीने पहले हंगरी से गायब हुआ था पाकिस्तानी तैराक

इसी साल जून में पाकिस्तान के तैराक फैजान अकबर हंगरी से गायब हुए थे। वे विश्व चैंपियनशिप में भाग लेने गए थे। लेकिन प्रतिस्पर्धा में भाग लेने से पहले ही पासपोर्ट और अन्य दस्तावेजों के साथ गायब हो गए।

बर्मिंघम में हुआ कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 (Commonwealth Games) समाप्त हो चुका है। अब खबर आई है कि इसमें हिस्सा लेने गए पाकिस्तान के दो मुक्केबाज लापता हैं। पाकिस्तान मुक्केबाजी महासंघ (पीबीएफ) ने बुधवार (10 अगस्त 2022) को मुक्केबाजों के लापता होने की पुष्टि की।

PBF के सचिव नासिर तांग ने बताया कि सुलेमान बलूच (Suleman Baloch) और नजीरुल्लाह (Nazeerullah) टीम के इस्लामाबाद रवाना होने से कुछ घंटे पहले गायब हो गए। दोनों मुक्केबाजों के यात्रा दस्तावेज पीबीएफ अधिकारियों के पास ही हैं। तांग ने कहा, ‘‘उनके पासपोर्ट सहित यात्रा दस्तावेज अभी भी पीबीएफ के उन अधिकारियों के पास हैं, जो मुक्केबाजी टीम के साथ राष्ट्रमंडल खेलों में गए थे।’’

उन्होंने कहा कि टीम प्रबंधन ने ब्रिटिश सरकार और लंदन के पुलिस अधिकारियों को सुलेमान और नजीरुल्लाह के लापता होने के बारे में सूचना दे दी है। PBF सचिव के अनुसार, उन्होंने मानक संचालन प्रक्रिया के तहत दोनों के दस्तावेजों को जब्त कर लिए हैं। इस बीच, पाकिस्तान ओलंपिक संघ (पीओए) ने मुक्केबाजों के लापता होने के मामले की जाँच के लिए चार सदस्यीय समिति का गठन किया है।

बता दें कि बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों का समापन 8 अगस्त को हुआ था। पाकिस्तान राष्ट्रमंडल खेलों की मुक्केबाजी प्रतियोगिता में कोई भी पदक नहीं जीत पाया है। इसी साल जून में इसी तरह पाकिस्तान के तैराक फैजान अकबर हंगरी से गायब हुए थे। वे फिना विश्व चैंपियनशिप (FINA World Championships) में भाग लेने गए थे। लेकिन अकबर ने प्रतिस्पर्धा में भाग ही नहीं लिया। वे हंगरी के बुडापेस्ट पहुँचने के कुछ ही घंटों बाद अपने पासपोर्ट और अन्य दस्तावेजों के साथ गायब हो गए थे। उनका अब तक पता नहीं चल सका है। रिपोर्ट्स में बताया गया था कि पाकिस्तान के गुजर खान में जन्मे 22 वर्षीय तैराक ने बुडापेस्ट पहुँचने के बाद एक होटल में आराम करने का फैसला किया और फिर गायब हो गए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -