Tuesday, July 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकंगाल पाकिस्तान की जनता आटे के लिए लड़-मर रही, नेता-फौजी दुबई में खरीद रहे...

कंगाल पाकिस्तान की जनता आटे के लिए लड़-मर रही, नेता-फौजी दुबई में खरीद रहे अरबों का विला : काले धन को ‘इन्वेस्ट’ करने का ठिकाना बना UAE

'दुबई अनलॉक' नाम की फाइल में पाकिस्तान के भ्रष्ट नेताओं, ब्यूरोक्रेट्स और आर्मी के बड़े अफसर अरबों की काली कमाई का ब्यौरा है।

पाकिस्तान में लोग आटे के लिए मार काट करने के लिए तैयार हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन हो रहे हैं। पीओके में जनता सड़कों पर उतर कर इंस्पेक्टर को पीट कर मार चुकी है। इसी बीच 14 मई 2024 को ‘दुबई अनलॉक’ नाम की फाइल सामने आई है, जिसे इंटरनेशनल खोजी पत्रकारों ने जारी की है। इस फाइल में यूएई में प्रॉपर्टी में निवेश करने वालों के बारे में जानकारी है, जिसमें बताया गया है कि एक तरफ पाकिस्तान की जनता खाने-पीने के सामान के लिए मारामारी कर रही है, तो दूसरी ओर पाकिस्तान के भ्रष्ट नेता, ब्यूरोक्रेट्स और आर्मी के बड़े अफसर अरबों की काली कमाई से यूएई के अंदर हजारों प्रॉपर्टी खरीद रहे हैं।

दुबई अनलॉक के लिए सेंटर फॉर एडवांस्ड डिफेंस स्टडीज (C4ADS) और संगठित अपराध और भ्रष्टाचार रिपोर्टिंग प्रोजेक्ट (OCCRP) ने काम किया है, जिसने बताया है कि दुबई के अंदर लक्जरी प्रॉपर्टीज में किन लोगों ने निवेश किया है। अकेले पाकिस्तानियों ने यूएई में 11 अरब अमेरिकी डॉलर की संपत्तियाँ खरीदी है। एक तरफ पाकिस्तान की जनता भूख से बेहार है, तो दूसरी तरफ पाकिस्तान के भ्रष्ट सैन्य अधिकारी और अमीर नेता लोग यूएई में प्रॉपर्टीज बना रहे हैं।

इस जाँच के दौरान पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के बच्चों, नवाज शरीफ के बेटे हुसैन नवाज शरीफ, गृहमंत्री मोहसिन नकवी की बीवी, शरजील मेमन और उसके परिवार, सीनेटर फैसले वावदा, फराह गोगी, शेर अफजल मारवत जैसे नेशनल और स्टेट असेंबली के मेंबर्स के पास यूएई में संपत्तियों की जानकारी सामने आई है। इस सूची में पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ, पूर्व प्रधानमंत्री शौकत अजीज, कई रिटायर्ड आर्मी जनरल, पुलिस चीफ, राजदूत और वैज्ञानिक तक के पास यूएई में संपत्ति है।

खास बात ये है कि मौजूदा राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी को साल 2014 में एक संपत्ति गिफ्ट के तौर पर मिली थी। साल 2018 में उन्होंने कागजों पर इसे दिखाया भी था, लेकिन बाद में उन्होंने इसे गिफ्ट में किसी और को दे दिया। ऐसा ही एक नाम अब्दुल गनी माजिद का है, जो एक बिजनेस टाइकून है और जरदारी के साथ फर्जी अकाउंट मामले में सह-अभियुक्त भी हैं। बाद में पता चला कि 319 मिलियन पाकिस्तानी रुपए का ये पेंटहाउस साल 2014 में उन्होंने जरदारी को दे दिया था और जरदारी ने बाद में इसे अपनी बेटी को दे दिया।

एक और पाकिस्तानी नेता मोहनिस नकवी ने दुनिया के अरेबियन रेंचेज में 5 वेडरूम का विला अपनी बीवी के नाम से खरीदा था। लेकिन अपने चुनावी हलफनामे में उसकी जानकारी नहीं दी। ये विला साल 2017 में 329 मिलियन पाकिस्तानी रुपए में खरीदा गया था औऱ अप्रैल 2023 में इसे 344 मिलियन पाकिस्तानी रुपए में बेच भी दिया गया। इस रिपोर्ट में अल्ताफ खनानी नेटवर्क की संपत्तियों के बारे में भी जानकारी दी गई है। वो मनी लॉन्ड्रिंग का कारोबार करता है। अमेरिका ने मनी लॉन्ड्रिंग पर बैन लगाया हुआ है, लेकिन खनानी के परिवार के सदस्यों की कई संपत्तियाँ मनी लॉन्ड्रिंग के पैसों से ही दुबई में खरीदी गई हैं। इस परिवार के 3 लोगों पर अमेरिका बैन लगा चुका है। इसी तरह से हामिद मुख्तार नाम का डॉक्टर भी दुबई में प्रॉपर्टियों का मालिक है, जिसपर अमेरिका ने बैन लगा रखा है। उस पर मानव तस्करी नेटवर्क चलाने का आरोप है।

यूएई में भारतीयों के पास ज्यादा संपत्ति, लेकिन भारतीय अधिकतर बिजनेसमैन हैं, तो पाकिस्तानियों में अपराधी और सरकारी कर्मचारियों के साथ ही नेताओं-आर्मी अफसरों का गठजोड़ है।

इस रिपोर्ट में जोर देकर कहा गया है कि पाकिस्तान के अमीर वर्ग ने काफी सारा धन दुबई भेजा हुआ है, जिससे पाकिस्तान में आर्थिक असमानता बढ़ी है। डाटा से पता चला है कि दुबई में संपत्तियाँ खरीदने में भारतीय दुनिया के किसी भी देश से सबसे आगे हैं। दुबई में भारतीयों के नाम 35 हजार से ज्यादा संपत्तियाँ हैं, जिनकी कीमत 17 बिलियन अमेरिकी डॉलर है। हालाँकि इस लिस्ट में शामिल सभी भारतीयों के नाम असली हैं और मालिक भी असली हैं। लेकिन पाकिस्तान के जिन लोगों ने यूएई में संपत्तियाँ खरीदी हैं, वो नेता हैं, सेना से जुड़े हैं या आपराधिक कार्यों में लिप्त हैं, यानी कि सारा पैसा काला धन है।

वैसे, यूएई में संपत्ति रखने वाले भारतीयों में नीरव मोदी जैसे व्यक्ति का भी नाम है, जो अभी लंदन की जेल में बंद है। उसके पास 13,41,900 अमेरिकी डॉलर की कीमत वाले तीन ऑफिस हैं, जो गोल्ड टॉवर में हैं। वहीं, खालिस्तानी आतंकी जममीत हकीमजादा के पास गार्डन होम्स फ्रोंड में 81.75 लाख अमेरिकी डॉलर से ज्यादा कीमत का विला है। चंदन की तस्करी करने वाले शाहुल हमीद दाऊद के नाम पर भी यूएई में प्रॉपर्टी है।

गरीबी, अराजकता और घोर अन्याय

दुबई फाइल्स में पाकिस्तानी नागरिकों द्वारा यूएई में भारी निवेश पाकिस्तान की खस्ताहाल व्यवस्था को दिखाता है। एक तरफ नेताओं, सैन्य अधिकारियों ने पाकिस्तान के धन को यूएई में भेजकर अपने लिए संपत्तियाँ इकट्ठी कर शाही जिंदगी जी रहे हैं, तो दूसरी ओर पाकिस्तान की आम जनता गरीबी, भोजन की कमी और भयंकर महँगाई की मार झेल रही है। बलूचिस्तान से लेकर पीओके में हो रहे विरोध प्रदर्शन दिखाते हैं, कि कैसे पाकिस्तान अपने नागरिकों की जरूरतों को पूरा कर पाने में विफल साबित हो रहा है। देश चलाने के लिए हुक्मरान दुनिया के दूसरे देशों में भीख माँग रहे हैं और कर्ज माँग रहे हैं, तो पाकिस्तान के गिने चुने लोग अरबों की दौलत विदेशों में इन्वेस्ट करके ऐश कर रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस भोजशाला को मुस्लिम कहते हैं कमाल मौलाना मस्जिद, वह मंदिर ही है: ASI ने हाई कोर्ट को बताया- मंदिरों के हिस्से पर बने...

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट को सौंपी गई रिपोर्ट में ASI ने कहा है कि भोजशाला का वर्तमान परिसर यहाँ पहले मौजूद मंदिर के अवशेषों से बनाया गया था।

भारतवंशी पत्नी, हिंदू पंडित ने करवाई शादी: कौन हैं JD वेंस जिन्हें डोनाल्ड ट्रम्प ने चुना अपना उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, हमले के बाद पूर्व अमेरिकी...

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को रिपब्लिकन पार्टी के नेशनल कंवेंशन में राष्ट्रपति और सीनेटर JD वेंस को उपराष्ट्रपति उम्मीदवार चुना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -