Thursday, September 29, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'इस्लाम अपनाओ या मरो': अफगानिस्तान के सिखों के सामने तालिबान शासन का दो विकल्प,...

‘इस्लाम अपनाओ या मरो’: अफगानिस्तान के सिखों के सामने तालिबान शासन का दो विकल्प, देश छोड़ने को मजबूर अल्पसंख्यक

पिछले साल अफगानिस्तान के शोर बाजार इलाके में स्थित एक गुरुद्वारे में हथियारबंद आतंकी घुसकर गोलीबारी की थी। इस गोलीबारी में 28 लोग मारे गए थे। उस हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली थी।

अफगानिस्तान में तालिबान के सत्ता में आने के साथ ही वहाँ अल्पसंख्यकों को निशाना बनाए जाने की खबरें लगातार आ रही हैं। एक रिपोर्ट में कहा गया है कि तालिबान शासन में अफगानिस्तान के अल्पसंख्यक सिखों का जबरन धर्मान्तरण करवाकर उन्हें इस्लाम कबूल करवाया जा रहा है। इस्लाम नहीं कबूलने पर उनकी हत्या की जा रही है। नतीजतन, वहाँ के सिखों के पास चुनने के लिए दो विकल्प बचे हैं, या तो वे इस्लाम स्वीकार करें या अपनी जान बचाने के लिए देश छोड़कर भाग जाएँ।

इंटरनेशनल फोरम फॉर राइट्स एंड सिक्योरिटी (IFFRAS) ने बताया है कि चूँकि सिख समुदाय सुन्नी इस्लाम की मुख्यधारा से संबंधित नहीं है, इसलिए उन्हें या तो जबरन सुन्नी इस्लाम में धर्मांतरित कर दिया जाएगा या तालिबान द्वारा मार दिया जाएगा। रिपोर्ट के अनुसार, तालिबान की ‘सरकार’ विविधता को पनपने के लिए कभी जगह नहीं देगी। कबायली रीति-रिवाजों के साथ इस्लामिक कोड लागू करने से अफगानिस्तान के मौजूदा अल्पसंख्यक समुदाय खत्म हो जाएँगे, जिनमें सिख भी शामिल हैं।

हालाँकि, अफगानिस्तान में तालिबान से पहले या उसके बाद भी सिखों की दयनीय स्थिति ही रही है। अफगानिस्तान सरकार सिखों की रक्षा करने में हमेशा विफल रही है। 1990 के दशक में अधिकांश सिखों के घरों पर शक्तिशाली लड़ाकों ने कब्जा कर लिया था।

अभी कुछ दिन पहले की ही बात है कि अफगानिस्तान के काबुल स्थित गुरुद्वारा दशमेश पिता में कट्टरपंथी मुस्लिमों की एक ‘विशेष इकाई’ जबरन घुस गई थी। इंडियन वर्ल्ड फोरम के अध्यक्ष पुनीत सिंह चंडोक ने एक बयान में बताया था कि इस्लामिक कट्टरपंथियों ने गुरुद्वारे को अपवित्र कर दिया है।

चंडोक ने कहा था, “खुद को अफगानिस्तान के इस्लामिक अमीरात की स्पेशल यूनिट बताने वाले भारी हथियारों से लैस अधिकारी जबरन काबुल स्थित गुरुद्वारा दशमेश पिता में घुस गए। उन्होंने गुरुद्वारे में सिख समुदाय को धमकाया और स्थान की पवित्रता को नष्ट कर दिया।” गौरतलब है कि अगस्त में तालिबान द्वारा देश पर कब्जा करने के बाद भारत सरकार ने वहाँ से बड़ी संख्या में सिखों बाहर निकाला था।

इसी तरह से पिछले साल अफगानिस्तान के शोर बाजार इलाके में स्थित एक गुरुद्वारे में हथियारबंद आतंकी घुसकर गोलीबारी की थी। इस गोलीबारी में 28 लोग मारे गए थे। उस हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली थी। इसमें आतंकवादी ‘अबू खालिद अल-हिंदी’ का नाम सामने आया था, जिसकी पहचान भारतीय नागरिक के रूप में की गई थी। वह ‘कश्मीर में मुसलमानों की दुर्दशा’ का बदला लेना चाहता था।

IFRAS ने दावा किया कि 2020 में सिखों के नरसंहार के बाद कई सिख अफगानिस्तान छोड़ भारत आ गए। संस्था का यह भी कहना है कि सिख सुन्नी समुदाय की कट्टर विचारधारा के खिलाफ हैं और इस वजह से उन्हें या तो जबरन इस्लाम में परिवर्तित किया जाता है या उनकी हत्या कर दी जाती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गौमूत्र पियो, गोबर खाओ हरा@*$’: बर्मिंघम में ‘अल्लाह-हू-अकबर’ बोल हिंदू मंदिर पर टूटी कट्टरपंथियों की भीड़, PM मोदी को दी माँ की गाली; Videos...

ब्रिटेन के बर्मिंघम में हिंदू मंदिर पर इस्लामी भीड़ ने हमला किया। वहाँ हिंदुओं को तो गंदी गालियाँ दी ही गईं। साथ में पीएम मोदी की माँ को भी गाली बकते कट्टरपंथी सुनाई पड़े।

₹793 करोड़ की लागत, अंदर 500 डिवाइस: काशी विश्वनाथ कॉरिडोर से 4 गुना बड़ा होगा ‘महाकाल लोक’, QR कोड स्कैन करके सुनाई पड़ेगी भगवान...

उज्जैन के महाकाल मंदिर को विशेष तौर पर विकसित किया जा रहा है। इसमें लगे म्यूरल और मूर्तियों रो स्कैन कर शिव की कथा सुनी जा सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,094FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe