Wednesday, April 14, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय इंग्लैंड के एक छोटे से गाँव से तय हुआ पूरी दुनिया का समय: GMT...

इंग्लैंड के एक छोटे से गाँव से तय हुआ पूरी दुनिया का समय: GMT की शुरुआत से लेकर अब तक की कहानी

अंग्रेज़ों के शासनकाल में हमारे देश के 2 टाइम ज़ोन हुआ करता था, पहला कोलकाता के आधार पर और दूसरा मुंबई के आधार पर। उनके जाने के बाद IST (Indian Standard Time) बना, यानी एक देश का एक ही मानक समय होगा। हमारा GMT + 5:30 है यानी ग्रीनविच मीन टाइम से लगभग 5:30 घंटे आगे।

ग्रीनविच मीन टाइम (GMT), एक ऐसी इकाई जिससे दुनिया के समय का आकलन लागाया जाता है। आसान शब्दों में इसे औसत समय भी कहा जा सकता है, जिस 24 घंटे की अवधि में पृथ्वी अपनी धुरी पर 360 डिग्री घूमती है। इसका इतिहास वैसे तो काफी पुराना है, इंग्लैंड का एक गाँव है ‘ग्रीनविच’ (Greenwich) जिसके आधार पर इसकी नींव रखी गई। इसके बारे में ऐसा कहा जा सकता है कि यह धरती के मध्य में स्थित है। हालाँकि, इससे जुड़े तमाम तकनीकी तथ्य हैं, सभी अहम हैं लेकिन सवाल यह है कि कितने समझे जा सकते हैं। 

GMT (Greenwich Mean Time) को सालाना औसत कहा जाता है, जिस अवधि में सूर्य इंग्लैंड स्थित ‘रॉयल ऑब्जर्वेटरी ग्रीनविच’ (Royal Observatory Greenwich) से होकर गुज़रता है। इसे साल 1884 में ठीक आज के दिन ही मान्यता दी गई थी और 1972 तक यह ‘अंतर्राष्ट्रीय सिविल टाइम’ का मानक बन गया था। असल में यह प्रक्रिया शुरू हुई थी 16वीं शताब्दी से जब पेंडुलम का अविष्कार हुआ था। इसके बाद ही समय और सौर मंडल समयावधि (solar time) के बीच सम्बंध पता चला था। 19वीं सदी के दौरान इंग्लैंड के हर शहर का अपना समय होता था, कोई राष्ट्रीय मानक नहीं था नतीजतन कई तरह की परेशानियाँ सामने आती थीं। 

1850 से 1860 के बीच वहाँ रेलवे और व्यापार का विस्तार हुआ, आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ी। ऐसे हालातों में वहाँ एक राष्ट्रीय मानक समय की आवश्यकता पड़ी, फिर रेलवे ने ही एक मानक समय (स्टैंडर्ड टाइम) तय किया। अंततः साल 1847 के दिसंबर महीने में ब्रिटिश रेलवे ने GMT स्वीकार किया, जिसे ‘रेलवे टाइम’ भी कहा गया। 1850 के बाद इंग्लैंड स्थित छोटे बड़े शहरों की सार्वजनिक घड़ियों को GMT के आधार पर तय किया गया और 1880 तक इसे पूरी तरह स्वीकृति मिल गई। 

साल 1884 में GMT की ग्रीनविच मेरिडियन को 2 वजहों के चलते बतौर ‘प्राइम मेरिडियन’ (Prime Meridian) स्थापित किया गया। 

पहली, अमेरिका (USA) ने अपने राष्ट्रीय टाइम ज़ोन के आधार पर सब कुछ तय कर लिया था। 

दूसरी, 90 के दशक में दुनिया का लगभग 70 से 75 फ़ीसदी व्यापार और लेन-देन समुद्र तालिका (sea charts) पर निर्भर करता था। यह पहले ही ग्रीनविच को ‘प्राइम मेरिडियन’ के तौर पर स्वीकार कर लिया था। 

इसके अलावा भी एक और वजह थी जिसके आधार पर ग्रीनविच को महत्त्व दिया गया क्योंकि इसका देशांतर (longitude) 0 डिग्री पर था। दलील दी गई कि इससे दुनिया की एक बड़ी आबादी को फायदा होगा। द शेफ़र्ड गेट क्लॉक (The Shepherd Gate Clock) दुनिया की पहली ऐसी घड़ी थी जिसने पहली बार GMT को सार्वजनिक रूप से दिखाया था। इसे ‘स्लेव क्लॉक’ भी कहा जाता है जो रॉयल ऑब्जर्वेटरी स्थित शेफ़र्ड मास्टर क्लॉक से जुड़ी हुई है। वहीं दूसरी तरफ ‘रॉयल ऑब्जर्वेटरी’ को GMT का घर भी कहा जाता है।     

एक और ऐसी चीज़ है जिसके बिना GMT विषय अधूरा है, अन्तराष्ट्रीय तिथि रेखा (International Date Time)। इसके आधार पर दिन तय किए जाते हैं और GMT के आधार पर समय तय किया जाता है। दुनिया में हर देश का अपना अलग टाइम ज़ोन जो इस आधार पर तय किया जाता है कि देशांतर रेखा किस प्रकार या किस स्थिति में उससे होकर गुज़रती है। उदाहरण के लिए भारत में यह रेखा 82.5 डिग्री पर होकर गुज़रती है जिसके आधार पर भारत GMT से 5.30 घंटे आगे है।

GMT से सम्बंधित कुछ और बातें बेहद अहम होती हैं जिसके बिना इसकी कार्यप्रणाली समझना मुश्किल है। इसमें सबसे ज़्यादा उल्लेखनीय है अक्षांश (latitude) और देशांतर (longitude)। अक्षांश रेखाएं समानांतर (parallel) होती हैं, इनकी दूरी समान होती है, यह पूर्व से पश्चिम की तरफ होती हैं और इनकी कुल संख्या 181 होती है। वहीं देशांतर रेखाएं उत्तर से पश्चिम की तरफ होती हैं, इसकी रेखाओं में दूरी समान नहीं होती है और यह भूमध्य रेखा से भी काफी दूर होती हैं। अंग्रेज़ों के शासनकाल में हमारे देश के 2 टाइम ज़ोन हुआ करता था, पहला कोलकाता के आधार पर और दूसरा मुंबई के आधार पर। उनके जाने के बाद IST (Indian Standard Time) बना, यानी एक देश का एक ही मानक समय होगा। हमारा GMT + 5:30 है यानी ग्रीनविच मीन टाइम से लगभग 5:30 घंटे आगे।       

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्फ्यू का ऐलान होते ही महाराष्ट्र से प्रवासी मजदूरों की वापसी शुरू: स्टेशनों पर खचाखच भीड़, चलाई जा रही अतिरिक्त ट्रेनें

महाराष्ट्र में 14 अप्रैल की रात 8 बजे से अगले 15 दिनों तक धारा 144 लागू रहेगी। इसे देखते हुए प्रवासी मजदूर फिर से अपने घरों को लौटने लगे हैं।

महाराष्ट्र में 14 अप्रैल की रात से धारा 144 के साथ ‘Lockdown’ जैसी सख्त पाबंदियाँ, उद्धव को बेस्ट CM बताने में जुटे लिबरल

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने राज्य में कोरोना की बेकाबू होती रफ्तार पर काबू पाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने पीएम से अपील की है कि राज्य में विमान से ऑक्सीजन भेजी जाए। टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाए।

पाकिस्तानी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाया जा रहा काफिर हिंदुओं से नफरत की बातें: BBC उर्दू डॉक्यूमेंट्री में बच्चों ने किया बड़ा खुलासा

वीडियो में कई पाकिस्तानी हिंदुओं को दिखाया गया है, जिन्होंने पाकिस्तान में स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा की तरफ इशारा किया है।

‘पेंटर’ ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आता है: CM की कुर्सी से उतर धरने वाली कुर्सी कब तक?

पिछले 3 दशकों से चुनावी और राजनीतिक हिंसा का दंश झेल रही बंगाल की जनता की ओर से CM ममता को सुरक्षा बलों का धन्यवाद करना चाहिए, लेकिन वो उनके खिलाफ जहर क्यों उगल रही हैं?

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

यमुनानगर में माइक से यति नरसिंहानंद को धमकी दे रही थी मुस्लिम भीड़, समर्थन में उतरे हिंदू कार्यकर्ता: भारी पुलिस बल तैनात

हरियाणा के यमुनानगर में यति नरसिंहानंद के मसले पर टकराव की स्थिति को देखते हुए मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती करनी पड़ी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,176FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe