Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभारत के खिलाफ प्रोपगेंडा फैलाने में तुर्की और कतर की मीडिया एजेंसियाँ पाकिस्तान का...

भारत के खिलाफ प्रोपगेंडा फैलाने में तुर्की और कतर की मीडिया एजेंसियाँ पाकिस्तान का दे रही हैं साथ, कश्मीर के पत्रकार भी शामिल: रिपोर्ट में दावा

खबर में बताया गया कि टीआरटी वर्ल्ड (TRT World) और अनादोलू मीडिया ने कई पाकिस्तानी और भारतीय कश्मीरी पत्रकारों को इस अभियान से जोड़ा है। वहीं, तुर्की की खुफिया एजेंसी MIT ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI की पाकिस्तानी सेना की मीडिया विंग ISPR यानी इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशंस के साथ मिलकर काम करना शुरू कर दिया है।

भारत के खिलाफ मीडिया युद्ध का दोषी सिर्फ पाकिस्तान और पाकिस्तान से बाहर बैठे आकाओं को माना जाता है। हालाँकि, वास्तविकता यह है कि तुर्की और कतर के कई मीडिया संगठन भी इस अभियान में भागीदार बन गए हैं। भारतीय गैर-लाभकारी तथ्य-जाँच वेबसाइट डिजिटल फोरेंसिक, रिसर्च एंड एनालिटिक्स सेंटर (DFRAC) के लिए एक रिपोर्ट में दिलशाद नूर ने इसका खुलासा किया है।

DFRAC के रिसर्च फेलो नूर के अनुसार, भारत को तुर्की और कतर में बसे पत्रकारों और मीडिया संगठनों के बीच गठजोड़ को समझने की जरूरत है, क्योंकि वे दोनों देशों को भारत का विरोध करने के लिए उकसाते हैं। नूर ने लिखा, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि खाड़ी क्षेत्र में भारत के बारे में इस तरह की व्यापक गलत सूचना फैलाई जा रही है।”

पाकिस्तान समर्थक या चीन समर्थक समूह अक्सर खाड़ी क्षेत्र में भारत को लक्षित कर गलत सूचनाएँ फैलाते हैं, क्योंकि ये समूह खाड़ी देशों के साथ भारत के संबंधों को कमजोर करना चाहते हैं। दुष्प्रचार में अक्सर भारत के मानवाधिकार रिकॉर्ड, अल्पसंख्यकों के साथ इसके व्यवहार और इसकी विदेश नीति के बारे में झूठे दावे शामिल होते हैं।

भारत के संबंध में इस तरह के दुष्प्रचार भारत के लोकमत या नीति को प्रभावित करने के लिए झूठी या भ्रामक जानकारियाँ फैलाने से संबंधित हैं। नूर ने कहा कि इस प्रकार की गलत सूचना कई रूपों में हो सकती हैं। इनमें फर्जी समाचार, साजिश के सिद्धांत या संपादित फोटो और वीडियो आदि शामिल हैं।

मिस्र सहित कई देशों में मुस्लिम ब्रदरहुड को प्रतिबंधित किा गया है। मिस्र में इसे साल 2013 में एक आतंकवादी समूह के रूप में नामित किया गया था। वहीं, कई अन्य देश इसे एक कट्टरपंथी और चरमपंथी संगठन के रूप में देखते हैं। तुर्की आज मुस्लिम ब्रदरहुड के अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय के रूप में काम कर रहा है और यह कतर के अमीर तमीम द्वारा समर्थित है।

मुस्लिम ब्रदरहुड 1928 में मिस्र में हसन अल-बन्ना द्वारा स्थापित एक राजनीतिक और सामाजिक आंदोलन है। इसका घोषित लक्ष्य पारंपरिक इस्लामी मूल्यों और सिद्धांतों को बढ़ावा देना है। नूर लिखते हैं कि इस संगठन ने मुस्लिम-बहुल कई देशों के राजनीतिक और सामाजिक विकास पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है।

फरवरी 2021 में सामने आई खबर के मुताबिक, तुर्की और पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ मीडिया मोर्चा बना लिया था। यह दावा मेडिटेरेनियन-एशियन इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स नामक एक संस्था ने किया है।

इस खबर को रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर यूरोपियन एंड अमेरिकन स्टडीज (RIEAS) द्वारा फिर से छापा गया। खबर में बताया गया कि टीआरटी वर्ल्ड (TRT World) और अनादोलू मीडिया ने कई पाकिस्तानी और भारतीय कश्मीरी पत्रकारों को इस अभियान से जोड़ा है।

DFRAC की रिपोर्ट में कहा गया है कि तुर्की की खुफिया एजेंसी MIT ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI की पाकिस्तानी सेना की मीडिया विंग ISPR यानी इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशंस के साथ मिलकर काम करना शुरू कर दिया है।

टीआरटी वर्ल्ड की भारत के कवरेज में पक्षपाती होने और देश के बारे में गलत सूचना फैलाने के लिए आलोचना की गई है। कुछ मामलों में चैनल पर भारत के मानवाधिकार रिकॉर्ड और भारत में अल्पसंख्यकों, विशेषकर मुस्लिमों की स्थिति के बारे में गलत सूचना फैलाने का आरोप लगाया गया है।

कश्मीर के क्षेत्रीय विवाद के संबंध में पाकिस्तान समर्थक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए चैनल की आलोचना की गई है। DFRAC ने बताया कि TRT वर्ल्ड तुर्की, अंग्रेजी और अरबी सहित कई भाषाओं में समाचार प्रसारित करता है।

TRT वर्ल्ड एक 24-घंटे का अंग्रेजी भाषा का अंतर्राष्ट्रीय समाचार चैनल है, जिसका स्वामित्व और संचालन तुर्की रेडियो और टेलीविज़न कॉर्पोरेशन (TRT) द्वारा किया जाता है।

(यह समाचार रिपोर्ट एक सिंडिकेट फीड से प्रकाशित हुई है। शीर्षक को छोड़कर, सामग्री ऑपइंडिया के कर्मचारियों द्वारा लिखी या संपादित नहीं की गई है)

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -