Saturday, July 31, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयWHO ने की भारत की तारीफ, कहा- 'कोरोना को रोकना अब आपके हाथ में,...

WHO ने की भारत की तारीफ, कहा- ‘कोरोना को रोकना अब आपके हाथ में, पहले भी ऐसे दुश्‍मनों को हराया’

"भारत ने साइलेंट किलर कही जाने वाली 2 गंभीर बीमारियों- स्मॉल पॉक्स और पोलियो के उन्मूलन में दुनिया का नेतृत्व किया। भारत में जबरदस्त क्षमता है, वे अपने समुदायों और नागरिक समाजों को एकत्र करें।"

पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ रही है। इस वायरस के चलते हजारों लोगों की जान जा चुकी है, जबकि लाखों लोग इससे संक्रमित हैं। तमाम देश इस वायरस से लड़ने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं और अपनी पूरी ताकत झोंक रहे हैं ताकि वह अपने देशवासियों को बचा सकें। कोरोना वायरस के खतरे से लोगों को बचाने के लिए भारत लगातार सख्त कदम उठा रहा है। कई राज्यों को को पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिया गया है, तो कई राज्यों में कर्फ्यू लगा दिए गए हैं। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भारत के प्रयासों की तारीफ की है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी निदेशक माइकल जे रेयान ने कहा है कि कोरोना वायरस का भविष्य में कैसा असर रहेगा, यह भारत जैसी बड़ी जनसंख्या वाले देशों की कार्रवाई पर तय होगा। उन्होंने कहा, “चीन की तरह भारत बहुत बड़ी जनसंख्या वाला देश है। कोरोना वायरस के दूरगामी परिणाम इस बात पर निर्भर करेंगे कि बड़ी जनसंख्या वाले देश इसे लेकर क्या कदम उठाते हैं। यह बहुत जरूरी है कि भारत जन स्वास्थ्य के स्तर पर आक्रामक फैसले लेना जारी रखे।”

इसके साथ ही कोरोना संकट में भारत से उम्मीद जताते हुए माइकल जे रेयान ने कहा कि भारत ने साइलेंट किलर कही जाने वाली 2 गंभीर बीमारियों- स्मॉल पॉक्स और पोलियो के उन्मूलन में दुनिया का नेतृत्व किया। भारत में जबरदस्त क्षमता है, सभी देशों में भी जबरदस्त क्षमता है कि वे अपने समुदायों और नागरिक समाजों को एकत्र करें।

कोरोना वायरस संकट के निपटने की काबिलियत का हवला देते हुए रियान ने कहा कि हमारा मानना है भारत में जबरदस्त क्षमता है। जब समुदाय जुटते हैं, सिविल सोसाइटी साथ आती हैं और सरकारें ड्राइव करती हैं तो लक्ष्य पूरा होता है। WHO ने कहा कि भारत को इस लड़ाई का नेतृत्व करते हुए दिखाना चाहिए कि क्या होना चाहिए और उसे किस तरह किया जा सकता है।

वहीं दूसरी ओर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कोरोना की भयावहता देखते हुए पूरी दुनिया से वैश्विक शांति को लेकर आह्वान किया। उन्होंने कहा, “मैं दुनिया के सभी कोनों में तत्काल वैश्विक युद्ध विराम का आह्वान कर रहा हूँ। यह लॉकडाउन पर सशस्त्र संघर्ष और हमारे जीवन की सच्ची लड़ाई पर एक साथ ध्यान केंद्रित करने, शत्रुता से पीछे छोड़ने और अविश्वास तथा दुश्मनी को दूर करने का समय है।”

भारत में कोरोना के 451 मामले सामने आए हैं। 9 लोगों की इस संक्रमण से मौत हो चुकी है। भारत में अभी यह महामारी सिर्फ दूसरे चरण तक पहुँची है। भारत सरकार यह कोशिश है कि यह तीसरे चरण यानि कम्‍युनिटी ट्रांसमिशन तक न पहुँचे। भारत पूरी ताकत के साथ कोरोना वायरस के साथ जंग लड़ रही है।

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के देखते हुए सोमवार (मार्च 23, 2020) की रात पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई। 30 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश को पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिया गया है, यानी अब देश के 548 जिले लॉकडाउन हैं। हालाँकि तीन राज्य पूरी तरह से लॉकडाउन नहीं है, जिसमें उत्तर प्रदेश, उड़ीसा और मध्य प्रदेश शामिल है। वहीं, लक्षद्वीप में कुछ गतिविधियों के लिए लॉकडाउन की घोषणा की गई है।

Covid-19: भारत में अब तक संक्रमितों की संख्या 467, 9 की मौत, 15,17,327 पर नज़र

अम्बानी ने खोला खजाना: कोरोना मरीजों के लिए अस्पताल, इमरजेंसी सेवाओं को फ्री तेल, प्रतिदिन 1 लाख मास्क का उत्पादन

भारत में 63 लाख, विश्व में 200 करोड़ को हो सकता है कोरोना, अगर सावधानी नहीं बरती गई

माइक पर ‘अल्लाह का अजाब’ चिल्लाने वाले मुल्ले क्या इन आँकड़ों पर भी कुछ बोलेंगे?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस: ‘खोजी’ पत्रकारिता का भ्रमजाल, जबरन बयानबाजी और ‘टाइमिंग’- देश के खिलाफ हर मसाले का प्रयोग

दुनिया भर में कुल जमा 23 स्मार्टफोन में 'संभावित निगरानी' को लेकर ऐसा बड़ा हल्ला मचा दिया गया है, मानो 50 देशों की सरकारें पेगासस के ज़रिए बड़े पैमाने पर अपने नागरिकों की साइबर जासूसी में लगी हों।

पिता ने उधार लेकर करवाई हॉकी की ट्रेनिंग, निधन के बाद अंतिम दर्शन भी छोड़ा: अब ओलंपिक में इतिहास रच दी श्रद्धांजलि

वंदना कटारिया के पिता का सपना था कि भारतीय महिला हॉकी टीम ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते। बचपन में पिता ने उधार लेकर उन्हें हॉकी की ट्रेनिंग दिलवाई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,163FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe