Thursday, May 30, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाइंडिया टुडे का दावा- CBI ने हत्या की आशंका को किया खारिज, CBI ने...

इंडिया टुडे का दावा- CBI ने हत्या की आशंका को किया खारिज, CBI ने कहा- फर्जी अटकलें न चलाए मीडिया

इंडिया टुडे द्वारा अपनी ’एक्सक्लूसिव’ रिपोर्ट प्रकाशित करने के दो दिन बाद, केंद्रीय जाँच ब्यूरो ने बृहस्पतिवार को एक बयान जारी कर इंडिया टुडे के दावों को खारिज कर दिया और कहा कि किसी भी प्रवक्ता या टीम के सदस्य द्वारा मीडिया द्वारा चलाए जा रहे 'खोजी डिटेल्स' को साझा नहीं किया गया है। उन्होंने दोहराया कि कोई भी डिटेल शेयर नहीं की गई हैं।

हाल ही में समाचार चैनल ‘इंडिया टुडे’ ने दावा किया था कि तीन सीबीआई अधिकारियों ने उन्हें कथित तौर पर सूचित किया है कि 34 वर्षीय अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत में किसी भी तरह का कोई ‘मर्डर एंगल’ यानी, हत्या का मामला नहीं है। लेकिन केंद्रीय जाँच एजेंसी (सीबीआई) ने ऐसे सभी दावों को खारिज कर दिया है।

मंगलवार (सितम्बर 02, 2020) को, इंडिया टुडे ने एक एक्सक्लूसिव समाचार रिपोर्ट प्रकाशित की, जिसका शीर्षक था, “विशेष: सीबीआई अधिकारियों ने इंडिया टुडे को बताया – सुशांत सिंह राजपूत मामले में हत्या का कोई सबूत नहीं, जाँच अभी भी जारी।”

इंडिया टुडे ने तीन अनाम सीबीआई अधिकारियों का हवाला देते हुए इस रिपोर्ट में दावा किया कि जाँच एजेंसी को कोई भी ऐसा सबूत नहीं मिला है, जो अभिनेता की मौत में हत्या की संभावना को साबित कर सके।

इंडिया टुडे का दावा – सीबीआई अधिकारियों को नहीं मिला हत्या का कोई सबूत

इस रिपोर्ट में जोर देकर कहा गया है, “जाँच करने वाली टीम के अनुसार, कोई भी फॉरेंसिक रिपोर्ट, प्रमुख संदिग्धों के बयान या घटनास्थल के साक्ष्य इस बात को प्रमाणित नहीं करते हैं कि सुशांत सिंह की हत्या हुई थी।”

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि ‘जबकि सीबीआई ने आधिकारिक तौर पर ‘हत्या’ की जाँच को ‘बंद’ नहीं किया है, अधिकारियों ने ‘आत्महत्या के नजरिए’ की जाँच करने पर ध्यान केंद्रित किया है।

इंडिया टुडे के इस एक्सक्लूसिव लेख में दोहराया गया है, “सीबीआई अधिकारियों का कहना है कि वे आत्महत्या के कोण पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और यह जाँच कर रहे हैं कि उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाया गया या नहीं।”

इंडिया टुडे की विशेष रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट

CBI ने इंडिया टुडे के दावों को खारिज किया है

इंडिया टुडे द्वारा अपनी ’एक्सक्लूसिव’ रिपोर्ट प्रकाशित करने के दो दिन बाद, केंद्रीय जाँच ब्यूरो ने बृहस्पतिवार (सितम्बर 03, 2020) को एक बयान जारी कर इंडिया टुडे के दावों को खारिज कर दिया और कहा कि किसी भी प्रवक्ता या टीम के सदस्य द्वारा मीडिया द्वारा चलाए जा रहे ‘खोजी डिटेल्स’ को साझा नहीं किया गया है। उन्होंने दोहराया कि कोई भी डिटेल शेयर नहीं की गई हैं।

सीबीआई के बयान के अनुसार, “सीबीआई सुशांत सिंह राजपूत की मौत से संबंधित व्यवस्थित और पेशेवर तरीके से जाँच कर रही है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स, जो सीबीआई के हवाले से बताई जा रही हैं, सिर्फ अटकलें हैं और तथ्यों पर आधारित नहीं हैं। यह दोहराया गया है कि हमारी पॉलिसी के अनुसार, सीबीआई जाँच का विवरण शेयर नहीं करती है। सीबीआई के प्रवक्ता या किसी भी टीम के सदस्य ने मीडिया के साथ जाँच का कोई विवरण शेयर नहीं किया है। सीबीआई के नाम से चलाई जा रही मीडिया रिपोर्ट्स विश्वसनीय नहीं हैं। मीडिया से अनुरोध है कि सीबीआई के हवाले से खबर चलाने से पहले सीबीआई प्रवक्ता से इसकी पुष्टि करें।”

इंडिया टुडे ने रिया के साथ एक्सक्लूसिव इंटरव्यू प्रसारित कर कहा था कि सुशांत मानसिक रूप से अस्वस्थ थे

इससे पहले, इंडिया टुडे ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत में रिया चक्रवर्ती की कथित भूमिका को व्हाइट वॉश करने के लिए मुख्य आरोपित रिया चक्रवर्ती का इंटरव्यू चलाया। इस इंटरव्यू और इसके बाद के कई समाचारों के दौरान, यह चैनल इस बात पर जोर देता रहा है कि सुशांत सिंह मानसिक रूप से बीमार थे और इस कारण यह आत्महत्या का ही मामला है।

हाल ही में, इंडिया टुडे ने रिया चक्रवर्ती की पीआर टीम की तरह काम करते हुए एक लेख प्रकाशित किया था, जिसका शीर्षक था, “विशेष: आगरा से रिया चक्रवर्ती की स्कूल फोटो, शिक्षकों का कहना है कि वह एक प्रतिभाशाली छात्रा थी।”

हालाँकि, अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के स्कूली जीवन का सुशांत के मामले से कोई लेना-देना नहीं था, फिर भी, इंडिया टुडे द्वारा आरोपित के बचाव में एक भावनात्मक अपील करने के लिए इस प्रकार की कहानी को प्रकाशित किया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -