Sunday, April 14, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाझूठ फैलाते 'इंडिया टुडे' के पत्रकार को एक व्यक्ति ने यूँ सिखाया सबक, दिल्ली...

झूठ फैलाते ‘इंडिया टुडे’ के पत्रकार को एक व्यक्ति ने यूँ सिखाया सबक, दिल्ली पुलिस को कर रहा था बदनाम

जब एक सजग नागरिक ने वीडियो शूट किया तो पता चला कि वहाँ पर उस इलाक़े में भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद थे, जो सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए पूरी तरह चुस्त-दुरुस्त थे। उक्त व्यक्ति ने 'आजतक' चैनल का विरोध करते हुए उसके पत्रकार को याद दिलाया कि......

जेएनयू में भड़की हिंसा के समय हमने ‘इंडिया टुडे’ का फर्जी स्टिंग ऑपरेशन देखा था। मीडिया संस्थान जेएनयू के वामपंथी दंगाइयों को बचाने के लिए एकदम से पगला गया था। अब ‘आजतक’ के एक पत्रकार का झूठ पकड़ा गया है, जो अफवाह फैला कर दिल्ली पुलिस को बदनाम कर रहा था। इससे साफ़ पता चलता है कि किस तरह मीडिया जानबूझ कर दिल्ली में हो रही हिंसा की एकतरफा रिपोर्टिंग कर रहा है। ‘आजतक’ भले ही ख़बरों के प्रसारण के मामले में ‘सबसे तेज़’ होने का दावा करता हो, मगर उसकी पोल खुल गई है।

दरअसल, ‘आजतक (इंडिया टुडे)’ के पत्रकार ग्राउंड रिपोर्टिंग के लिए दिल्ली के एक इलाक़े में गया हुआ था। वहाँ से उसने बताया कि उस क्षेत्र में पुलिस की तैनाती नहीं की गई है। उसने एक तरह से दिल्ली पुलिस को बदनाम करने की कोशिश करते हुए यह दिखाने का प्रयास किया कि दिल्ली पुलिस ग्राउंड पर मौजूद नहीं है और कुछ कार्रवाई नहीं कर रही है। हालाँकि, एक सजग नागरिक ने पत्रकार के झूठ को बेनकाब करते हुए कुछ यूँ उसकी पोल खोली:

एक जिम्मेदार नागरिक ने मीडिया को झूठ फैलाने से रोका

हालाँकि, जब एक सजग नागरिक ने वीडियो शूट किया तो पता चला कि वहाँ पर उस इलाक़े में भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद थे, जो सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए पूरी तरह चुस्त-दुरुस्त थे। उक्त व्यक्ति ने ‘आजतक’ चैनल का विरोध करते हुए उसके पत्रकार को याद दिलाया कि वो एक नेशनल चैनल के पत्रकार हैं और इसीलिए उन्हें जिम्मेदारी निभाते हुए झूठ नहीं बोलना चाहिए। उसने ‘आजतक’ के पत्रकार को अफवाह न फैलाने की सलाह दी। हालाँकि, पत्रकार सवालों से बचता रहा और उसे कोई जवाब नहीं सूझा तो वो भाग खड़ा हुआ।

उक्त नागरिक ने यह भी बताया कि उस इलाक़े में अतिरक्त पुलिस बल के लिए कण्ट्रोल रूम को भी फोन किया गया है, साथ ही पुलिस ने आँसू गैस के गोले छोड़ कर स्थिति को नियंत्रित किया। अब सवाल उठता है कि आख़िर इतना बड़ा मीडिया संस्थान होने के बावजूद ‘इंडिया टुडे’ और ‘आजतक’ इस तरह दिल्ली पुलिस को बदनाम करने के पीछे क्यों पड़ा है?

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

TMC सांसद के पति राजदीप सरदेसाई का बेंगलुरु में ‘मोदी-मोदी’ और ‘जय श्री राम’ के नारों से स्वागत: चेहरे का रंग उड़ा, झूठी मुस्कान...

राजदीप को कुछ मसालेदार चाहिए था, ऐसे में वो आम लोगों के बीच पहुँच गए। लेकिन आम लोगों को राजदीप की मौजूदगी शायद अखर सी गई।

जिसने की सरबजीत सिंह की हत्या, उसे ‘अज्ञातों’ ने निपटा दिया: लाहौर में सरफ़राज़ को गोलियों से छलनी किया, गवाहों के मुकरने के कारण...

पाकिस्तान की जेल में भारतीय नागरिक सरबजीत सिंह की हत्या करने वाले सरफराज को अज्ञात हमलावरों ने लाहौर में गोलियों से भून दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe