Wednesday, May 22, 2024
Homeरिपोर्टमीडियारॉबर्ड वाड्रा से BJP पर सवाल पूछा... जवाब से पहले AajTak की मौसमी सिंह...

रॉबर्ड वाड्रा से BJP पर सवाल पूछा… जवाब से पहले AajTak की मौसमी सिंह साइकिल से जमीन पर गिरीं धड़ाम!

ये घटना उसी समय घटी, जब रॉबर्ट वाड्रा से मौसमी सिंह ने बीजेपी को लेकर सवाल किया और अगले ही पल उनका बैलेंस बिगड़ गया। गिरने से पहले उन्हें कहते सुना जा सकता है कि...

इंडिया टुडे की पत्रकार मौसमी सिंह को रॉबर्ट वाड्रा का इंटरव्यू लेने के दौरान लाइव टीवी पर फजीहत का सामना करना पड़ा। दिलचस्प बात ये है कि इस फजीहत के पीछे का कारण उनका कोई अपना प्रश्न नहीं था बल्कि लीक से हट कर रॉबर्ड वाड्रा का इंटरव्यू लेने की चाह थी।

मौसमी सिंह आज रॉबर्ड वाड्रा से साइकिल दौड़ाते हुए इंटरव्यू लेना चाह रही थीं। मगर, कोशिश के बीच कुछ ऐसा हुआ, जिसे देख लोग उनका मजाक उड़ाने लगे।

दरअसल, इस इंटरव्यू के दौरान मौसमी ने अपने हाथ में माइक लिया हुआ था और साथ में साइकिल चला रहे रॉबर्ड वाड्रा से सवाल कर रही थीं। अब वाड्रा का हाथ साइकिल के हैंडल पर था तो उन्हें नाक की सीध में साइकिल चलाने में दिक्कत नहीं हुई, लेकिन वीडियो में मौसमी पहले तो साइकिल चलाने की बजाय उसे किसी तरह खींचतीं नजर आईं और फिर जब प्रश्न करके जवाब माँगने के लिए वाड्रा के सामने माइक बढ़ाया तो धड़ाम से जमीन पर गिर पड़ीं।

अब 0.25 सेकेंड की वीडियो सोशल मीडिया पर खूब शेयर हो रही है। कुछ सक्रिय अकॉउंट्स पर इस क्लिप को शेयर करके कहा जा रहा है कि आज पुडुचेरी की सरकार ही नहीं बल्कि मौसमी सिंह भी गिर गईं।

सबसे हास्यास्पद बात यूजर्स को ये लग रही है कि ये घटना उसी समय घटी, जब वाड्रा से मौसमी ने बीजेपी को लेकर सवाल किया और अगले ही पल उनका बैलेंस बिगड़ गया। गिरने से पहले उन्हें कहते सुना जा सकता है कि वाड्रा जो सूट और महंगी साइकिल लेकर चला रहे हैं, बीजेपी इसे नौटंकी भी कह सकती है?

बता दें कि एक ओर जहाँ प्रियंका गाँधी वाड्रा फर्जी तस्वीरें फैला कर किसान आंदोलन के नाम पर संवेदनाएँ जमा करने में जुटी हुई हैं, वहीं पेट्रोल डीजल की महंगाई पर अपना विरोध दिखाने के लिए उनके पति रॉबर्ट वाड्रा ने आज सड़कों पर साइकिल चलाई। 

इस दौरान वह सूट बूट के साथ हेलमेट पहन कर चौड़ी सड़क पर अपना विरोध दर्ज करते दिखाई दिए। वहीं उनके पीछे कुछ गाड़ियाँ भी नजर आईं। मौसमी सिंह इस दौरान अकेली पत्रकार थीं, जो रॉबर्ट वाड्रा के इस साइकिल वाले स्टंट को दिखाने मौजूद थीं। यहीं उनसे बातचीच के दौरान ये घटना घटी।

मालूम हो कि आजतक पर स्टंट करके कंटेंट दिखाने वाली मौसमी सिंह पहली नहीं है पर चूँकि उनके पत्रकारिता के दौरान किए गए कारनामे हमेशा नए होते हैं, इसलिए वह आए दिन चर्चा में आती हैं। दो साल पहले मौसमी सिंह ने श्रीनगर एयरपोर्ट पर बड़ा हंगामा करते हुए पुलिसकर्मियों पर बदतमीजी का आरोप लगाया था। 

मौसमी सिंह के इस ड्रामे के बाद इसी के सहारे पाकिस्तान ने कश्मीर मुद्दे पर अपने नैरेटिव को भुनाना शुरू कर दिया था और उनकी वीडियो अपने चैनल पर चलाई थी, ये दिखाने के लिए कि कश्मीर में हिंसा हो रही है।

इसी तरह कंगना रनौत के ऑफिस के बाहर तोड़फोड़ के बाद भी मौसमी की बेईज्जती घटनास्थल पर रिपोर्टिंग के दौरान हुई थी। रिपोर्टिंग करते वक्त मौसमी जैसी ही बीएमसी के खिलाफ महिला प्रदर्शनकारियों से सवाल पूछने गई, महिलाएँ उनके चेहरे पर ही “आज तक मुर्दाबाद” के नारे लगाने शुरू कर दिए।

साल 2019 के एक अन्य वाकये में प्रियंका गाँधी वाड्रा को उत्तर प्रदेश में कॉन्ग्रेस पार्टी के प्रभारी के रूप में नियुक्त किए जाने के बाद मौसमी सिंह को कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं को वाड्रा के लिए उत्साहित दिखने के निर्देश देते हुए भी सुना गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत की ज्ञानकीर्ति का मुकुटमणि है कश्मीर का शंकराचार्य मंदिर: ईसाई-इस्लाम के आगामी प्रभाव से परिचित थे आचार्य शंकर, जानिए कैसे एक सूत्र में...

वैदिक ऋषियों की वेदोक्त समदृष्टि केवल उपदेश मात्र नही; अपितु यह उनका अनुभव जन्य साक्षात्कृत् ज्ञान है। जो सभी काल, स्थान, परिस्थिति में अनुकरणीय एवं अकाट्य हैं।

फर्जी वोटिंग करते पकड़े गए मोहम्मद सनाउल्लाह और 3 खातूनें, भीड़ ने थाने पर हमला कर सबको छुड़ाया: बिहार के जाले की घटना, 20...

फर्जी वोटिंग में पकड़े गए लोगों को छुड़ाने के लिए 130-140 लोगों ने थाने पर हमला कर दिया और पुलिस पदाधिकारियों के साथ दुर्व्यवहार करते हुए चारों को पुलिस की अभिरक्षा से छुड़ा लिया

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -