Monday, July 22, 2024
Homeरिपोर्टमीडियामीडिया को माइक से 2 घंटे तक माँ-बहन की गाली: कौन हैं प्रतीक सिन्हा,...

मीडिया को माइक से 2 घंटे तक माँ-बहन की गाली: कौन हैं प्रतीक सिन्हा, क्यों हिंदुस्तान अखबार पर निकाल रहे भड़ास, प्रशासन से माँगी अनुमति

“हिंदुस्तान कार्यालय के सामने माइक लगाकर ब्यूरो चीफ और जिला संवाददाता को 2 घंटे तक माँ-बहन की गालियाँ देना चाहता हूँ। बहुत इच्छा होने पर भी न तो जूते से मारूँगा, न ही धमकी दूँगा।”

  • मेनस्ट्रीम मीडिया की ऑफिस के सामने माइक लगाकर गाली
  • ब्यूरो चीफ और जिला संवाददाता को 2 घंटे तक माँ-बहन की गाली
  • बहुत इच्छा होने पर भी न तो जूते से मारेंगे, न ही धमकी देंगे
  • 2 घंटे तक गाली का कार्यक्रम समाप्त होने पर खुद को कानून को सौंप देंगे
  • 15 जनवरी 2024 को होगा यह कार्यक्रम, समय होगा दिन के 12 बजे

मेनस्ट्रीम मीडिया कई बार बिना तथ्यों के खबरें छापता आया है, यह किसी से छिपा नहीं है। फैक्ट चेक वाली विधा इनके इन्हीं करतूतों की वजह से वजूद में आई। सुधार फिर भी नहीं के बराबर। इसलिए उत्तर प्रदेश में प्रतापगढ़ के निवासी प्रतीक सिन्हा ने फैक्ट चेक से एक कदम आगे जाकर ‘माँ-बहन की गाली’ के साथ मीडिया को आईना दिखाने के लिए प्रशासन से अनुमति माँगी है। ऊपर जो 5 लाइनें लिखी हैं, वो इन्हीं प्रतीक सिन्हा के प्रशासन को दिए आवेदन से ली गई हैं।

कौन हैं ये प्रतीक सिन्हा? किस मीडिया को देना चाहते हैं माँ-बहन की गाली? गाली देने के पीछे वजह क्या है? दरअसल 8 जनवरी 2024 को हिंदुस्तान अखबार ने एक उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में नगरपालिका की भूमि पर अवैध कब्जा के संबंध में एक खबर प्रकाशित की। यह 8 जनवरी 2024 की बात है। खबर के बाद प्रशासन ने एक्शन लिया। बुलडोजर चला। 10 जनवरी 2024 को फिर से हिंदुस्तान अखबार ने बुलडोजर चलने वाली खबर को छापा। इस खबर में अवैध प्लॉटिंग किए गए भूखंडों को प्रशासन के बुलडोजर से ढाहने वाली बात को हाईलाइट किया गया। इसी खबर को लेकर प्रतीक सिन्हा ने 2 चिट्ठी लिखी है। दोनों चिट्ठियाँ वायरल हैं।

प्रतीक सिन्हा ने एक चिट्ठी लिखी है हिंदुस्तान के संपादक को। इसमें उन्होंने बिना साक्ष्य खबर छापने के कारण उनको हुई आर्थिक तथा सामाजिक हानि का जिक्र किया है। प्रतीक सिन्हा के अनुसार जिस जमीन को हिंदुस्तान की खबर में अवैध बताया गया, उसके वो मालिक है, उससे संबंधित सारे कागजात उनके पास हैं। इसलिए उन्होंने संपादक को खबर से संबंधित साक्ष्य पेश करने वरना मानहानि के लिए तैयार रहने के लिए सूचित किया।

दूसरी चिट्ठी लिखी गई है प्रतापगढ़ के उपजिलाधिकारी को। इसमें प्रतीक सिन्हा ने लिखा है कि हिंदुस्तान की खबर के आधार पर उन्हें न सिर्फ भूमाफिया घोषित कर दिया गया बल्कि उनकी मालिकाना जमीन पर प्रशासन ने बुलडोजर भी चलवा दिया। इसी चिट्ठी में प्रतीक सिन्हा लिखते हैं, प्रशासन से अनुमति माँगते हैं:

“15 जनवरी 2024 को दिन में 12 बजे हिंदुस्तान कार्यालय के सामने माइक लगाकर ब्यूरो चीफ और जिला संवाददाता को 2 घंटे तक माँ-बहन की गालियाँ देना चाहता हूँ। यह विश्वास दिलाता हूँ कि बहुत इच्छा होने पर भी न तो जूते से मारूँगा, न ही धमकी दूँगा। गाली कार्यक्रम के पश्चात कानून के सामने खुद के पेश भी कर दूँगा ताकि सुसंगत धाराओं के तहत मेरा चालान हो सके।”

प्रतीक सिन्हा ने चिट्ठी भेज कर अपनी मंशा जाहिर कर दी है। गाली देकर अपने गुस्से को वो शांत कर पाएँगे या नहीं, यह प्रशासन को तय करना है। देखना यह है कि तथाकथित मीडिया इस प्रकरण से कितना सीख पाता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -