Friday, August 19, 2022
Homeरिपोर्टमीडियामैंने मोदी का प्रोग्राम कैंसिल कर दिया था क्योंकि उन्हें अंग्रेजी नहीं आती थी...

मैंने मोदी का प्रोग्राम कैंसिल कर दिया था क्योंकि उन्हें अंग्रेजी नहीं आती थी – राजदीप सरदेसाई

"इंडो यूएस समिट में पीएम मोदी अंग्रेजी में बात कर रहे हैं। यह इस बात का सबूत है कि वह कई सालों पहले मुझसे किए गए एक वादे पर खरे उतरे हैं! मैंने एक बार प्रोग्राम में आखिरी समय में उनकी जगह प्रमोद महाजन को लिया था क्योंकि महाजन बेहतर अंग्रेजी बोलते थे। फिर मोदी जी ने मुझसे कहा - "एक दिन मैं अंग्रेजी में भाषण दूँगा।"

जब बुधवार (जुलाई 22, 2020) को पीएम मोदी ने यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल द्वारा आयोजित इंडिया आइडियाज समिट के लिए भाषण दिया, तो तथाकथित पत्रकार राजदीप सरदेसाई अपनी अभिजात्य वर्ग की कुंठा को छुपाने में एक बार फिर नाकामयाब रहे। उन्होंने ट्विटर पर कहा कि प्रधानमंत्री बहुत पहले किए गए वादे पर खरे उतरे हैं।

राजदीप सरदेसाई ने एक ट्वीट में लिखा –

“इंडो यूएस समिट में पीएम मोदी अंग्रेजी में बात कर रहे हैं। यह इस बात का सबूत है कि वह कई सालों पहले मुझसे किए गए एक वादे पर खरे उतरे हैं! मैंने एक बार प्रोग्राम में आखिरी समय में उनकी जगह प्रमोद महाजन को लिया था क्योंकि महाजन बेहतर अंग्रेजी बोलते थे। फिर मोदी जी ने मुझसे कहा – “एक दिन मैं अंग्रेजी में भाषण दूँगा।”

दरअसल, राजदीप सरदेसाई का मकसद यहाँ पर किसी घटना या अतीत का कोई प्रसंग उजागर करना नहीं, बल्कि भाषाई आधार पर किसी व्यक्ति को कमतर बताना था। सरदेसाई के इस ट्वीट को लेकर काफी लोग सोशल मीडिया पर उनकी निंदा कर रहे हैं, जबकि दुर्भाग्यवश एक वर्ग राजदीप की इस कुंठा में उनका समर्थन करता नजर आ रहा है और इस बात पर बहस करता देखा जा सकता है कि क्या पीएम मोदी अंग्रेजी बोल सकते हैं या फिर नहीं?

मिहिर झा ने राजदीप सरदेसाई को उनकी इस करतूत पर लिखा है – “राजदीप सरदेसाई ने कितनी बेशर्मी से अपने सामाजिक क्लास वर्गीकरण के पूर्वग्रह को सामने रखकर स्वीकार किया है। यह बताता है कि वह वास्तविकता से कितना दूर है। कोई आश्चर्य नहीं है कि पीएम मोदी ने इस आदमी को समय-समय पर उसकी औकात बताई है।”

राजदीप के इस ट्वीट में उन पर कटाक्ष करते हुए एक ट्विटर यूजर ने लिखा है – “मतलब, मोदी जी समिट में अंग्रेजी में बोल रहे हैं क्योंकि राजदीप ने एक बार उनका कार्यक्रम रद्द कर दिया था? इसे सभी रिवेंज (बदला) की माँ कहा जा सकता है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कम बुद्धि वाला व्यक्ति भी समझ जाएगा’: पत्रकार ने कोयला आयात को लेकर फैलाया झूठ, बिजली के दाम बढ़ने का दिखाया डर तो मंत्रालय...

'बिजनेस स्टैंडर्ड' की सहायक संपादक ने कोयला आयात को लेकर झूठ फैलाया। बिजली के दाम बढ़ने का दिखाया डर। ऊर्जा मंत्रालय ने लगाई फटकार।

CBI की FIR में 15 नाम, टॉप पर मनीष सिसोदिया: सुबह से दिल्ली डिप्टी CM के घर जाँच एजेंसी, कार की भी तलाशी-मोबाइल और...

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर CBI ने रेड डाला है। अपने FIR में एजेेंसी ने सिसोदिया को शराब घोटाले का मुख्य आरोपित बनाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
215,315FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe