Thursday, April 18, 2024
Homeरिपोर्टमीडियापुलिस के पास बैकअप प्लान क्यों नहीं Vs बैरिकेड लगा क्यों रोक रही: अपने...

पुलिस के पास बैकअप प्लान क्यों नहीं Vs बैरिकेड लगा क्यों रोक रही: अपने ही पाखंड में उलझे रवीश कुमार

जिस बैरिकेडिंग पर रवीश सवाल उठा रहे हैं, वह पुलिस का बैकअप प्लॉन की ही तरह है। एक तरफ टिकैत की भीड़ है जिसके बूते वह 40 लाख ट्रैक्टर दिल्ली में लाने की बात कर रहे हैं। वहीं रवीश कुमार पूछ रहे हैं कि इसकी क्या जरूरत है?

गणतंत्र दिवस (26 जनवरी 2021) पर राजधानी की सड़कों पर ‘किसानों’ का हिंसक रूप देखने के बाद दिल्ली पुलिस अलर्ट पर है। दिल्ली की सीमाओं पर पुलिस जो सुरक्षा इंतजाम कर रही है, उसकी वायरल तस्वीर आपने भी देखी होगी। ये वही तस्वीर है जिसे देख वामपंथी गिरोह बेचैन हुआ पड़ा है और गिरोह के प्रिय रवीश कुमार अपनी बात से फिर पलट गए हैं

Image result for बैरीकेडिंग की तस्वीर
बैरिकेडिंग की वायरल होती तस्वीर

रवीश का इस तस्वीर को देखने के बाद सवाल है कि इतनी भारी बैरिकेडिंग करके सरकार क्या अपना शक्ति प्रदर्शन कर रही है? उनकी हालिया वीडियो की कुछ क्लिप सोशल मीडिया पर शेयर हो रही है। इसमें वह किसानों को भड़काते हुए सवाल कर रहे हैं कि कहीं ये सब सिर्फ़ महापंचायत के बाद दिल्ली आने वाले किसानों को रोकने के लिए तो नहीं किया गया या फिर सरकार बताना चाहती है कि उसकी ताकत कहाँ से आती है और कितनी है। उसके ताकत की किताब के कितने चैप्टर बाकी हैं जिसे किसानों को देखना बाकी है।

रवीश अपने शो में मेड़ की ऊँचाई पर बात करते हुए कहते हैं कि चूँकि उसे पार करना आसान है इसलिए सरकार किसानों को रोकने के लिए मेड़ नहीं बैरिकेड बना रही है। उनके मुताबिक पिछले दो माह में बैरिकेड में जो बदलाव आया है, उससे पता चलता है कि आने वाले समय में सरकार अपनी जनता को किस लेंस से देख रही। उनकी भाषा में कहें तो ये बैरिकेड बताते हैं कि जनता और सरकार के बीच सिर्फ खाई नहीं, कीलें भी हैं।

दिलचस्प बात यह है कि आज सुरक्षा लिहाज से दिल्ली की सीमा पर की गई बैरिकेडिंग को देखने के बाद अपने दर्शकों को सरकार व पुलिस के ख़िलाफ़ भड़काने वाले रवीश कुमार कुछ दिन पहले तक 26 जनवरी को हुई हिंसा को ही नकार रहे थे।

उन्हें विश्वास ही नहीं था वह अब तक जिसे किसान कहते आए उन्होंने लाल किले पर चढ़ाई कर दी, तिरंगे का अपमान कर दिया, 300 पुलिसकर्मियों को घायल कर दिया। वह हिंसक प्रदर्शन को किसानों का जोश कहकर दिल्ली पुलिस की मंशा पर सवाल उठाते दिखाई दिए थे।

तब, रवीश ने कहा था कि आखिर जब पुलिस की पहले से किसान नेताओं से बात चल रही थी तो उन्हें अंदाजा तो होगा ही कितने किसान ट्रैक्टर लेकर आने वाले हैं। इनमें से कुछ भटक सकते हैं। कुछ अफरातफरी कर सकते हैं। ऐसे में पुलिस का बैकअप प्लान क्या था। रवीश कुमार ने जोर देकर कहा था कि उन्हें नहीं लग रहा कि सीमाओं के अलावा या फिर तय रास्तों के अलावा दिल्ली पुलिस पर कोई बैकअप प्लान था।

अब जिस बैरिकेडिंग पर रवीश सवाल उठा रहे हैं, वह पुलिस का बैकअप प्लॉन की ही तरह है। एक तरफ टिकैत की भीड़ है जिसके बूते वह 40 लाख ट्रैक्टर दिल्ली में लाने की बात कर रहे हैं। वहीं रवीश कुमार पूछ रहे हैं कि इसकी क्या जरूरत है? क्या रवीश नहीं जानते हैं कि जिस भीड़ को रोकने के लिए पुलिस पुख्ता इंतजाम कर रही है, उसमें वो लोग भी शामिल है जिनकी वीडियो कल सोशल मीडिया पर वायरल हुई और वह भिंडरावाले के समर्थन में नारे लगाते दिखाई दिए। या उन्हें ये नहीं पता कि किसान आंदोलन की आड़ में खालिस्तानी अपनी रोटियाँ सेंक रहे हैं, विदेशी ताकतें भारत के ख़िलाफ़ माहौल बना रही हैं… और सब जानने के बाद किसान नेता कह रहे हैं कि ये प्रदर्शन अक्टूबर-नवंबर तक चलने वाला है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल-हराम के जाल में फँसा कनाडा, इस्लामी बैंकिंग पर कर रहा विचार: RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारत में लागू करने की...

कनाडा अब हलाल अर्थव्यवस्था के चक्कर में फँस गया है। इसके लिए वह देश में अन्य संभावनाओं पर विचार कर रहा है।

त्रिपुरा में PM मोदी ने कॉन्ग्रेस-कम्युनिस्टों को एक साथ घेरा: कहा- एक चलाती थी ‘लूट ईस्ट पॉलिसी’ दूसरे ने बना रखा था ‘लूट का...

त्रिपुरा में पीएम मोदी ने कहा कि कॉन्ग्रेस सरकार उत्तर पूर्व के लिए लूट ईस्ट पालिसी चलाती थी, मोदी सरकार ने इस पर ताले लगा दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe