Friday, March 5, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया पुलिस के पास बैकअप प्लान क्यों नहीं Vs बैरिकेड लगा क्यों रोक रही: अपने...

पुलिस के पास बैकअप प्लान क्यों नहीं Vs बैरिकेड लगा क्यों रोक रही: अपने ही पाखंड में उलझे रवीश कुमार

जिस बैरिकेडिंग पर रवीश सवाल उठा रहे हैं, वह पुलिस का बैकअप प्लॉन की ही तरह है। एक तरफ टिकैत की भीड़ है जिसके बूते वह 40 लाख ट्रैक्टर दिल्ली में लाने की बात कर रहे हैं। वहीं रवीश कुमार पूछ रहे हैं कि इसकी क्या जरूरत है?

गणतंत्र दिवस (26 जनवरी 2021) पर राजधानी की सड़कों पर ‘किसानों’ का हिंसक रूप देखने के बाद दिल्ली पुलिस अलर्ट पर है। दिल्ली की सीमाओं पर पुलिस जो सुरक्षा इंतजाम कर रही है, उसकी वायरल तस्वीर आपने भी देखी होगी। ये वही तस्वीर है जिसे देख वामपंथी गिरोह बेचैन हुआ पड़ा है और गिरोह के प्रिय रवीश कुमार अपनी बात से फिर पलट गए हैं

Image result for बैरीकेडिंग की तस्वीर
बैरिकेडिंग की वायरल होती तस्वीर

रवीश का इस तस्वीर को देखने के बाद सवाल है कि इतनी भारी बैरिकेडिंग करके सरकार क्या अपना शक्ति प्रदर्शन कर रही है? उनकी हालिया वीडियो की कुछ क्लिप सोशल मीडिया पर शेयर हो रही है। इसमें वह किसानों को भड़काते हुए सवाल कर रहे हैं कि कहीं ये सब सिर्फ़ महापंचायत के बाद दिल्ली आने वाले किसानों को रोकने के लिए तो नहीं किया गया या फिर सरकार बताना चाहती है कि उसकी ताकत कहाँ से आती है और कितनी है। उसके ताकत की किताब के कितने चैप्टर बाकी हैं जिसे किसानों को देखना बाकी है।

रवीश अपने शो में मेड़ की ऊँचाई पर बात करते हुए कहते हैं कि चूँकि उसे पार करना आसान है इसलिए सरकार किसानों को रोकने के लिए मेड़ नहीं बैरिकेड बना रही है। उनके मुताबिक पिछले दो माह में बैरिकेड में जो बदलाव आया है, उससे पता चलता है कि आने वाले समय में सरकार अपनी जनता को किस लेंस से देख रही। उनकी भाषा में कहें तो ये बैरिकेड बताते हैं कि जनता और सरकार के बीच सिर्फ खाई नहीं, कीलें भी हैं।

दिलचस्प बात यह है कि आज सुरक्षा लिहाज से दिल्ली की सीमा पर की गई बैरिकेडिंग को देखने के बाद अपने दर्शकों को सरकार व पुलिस के ख़िलाफ़ भड़काने वाले रवीश कुमार कुछ दिन पहले तक 26 जनवरी को हुई हिंसा को ही नकार रहे थे।

उन्हें विश्वास ही नहीं था वह अब तक जिसे किसान कहते आए उन्होंने लाल किले पर चढ़ाई कर दी, तिरंगे का अपमान कर दिया, 300 पुलिसकर्मियों को घायल कर दिया। वह हिंसक प्रदर्शन को किसानों का जोश कहकर दिल्ली पुलिस की मंशा पर सवाल उठाते दिखाई दिए थे।

तब, रवीश ने कहा था कि आखिर जब पुलिस की पहले से किसान नेताओं से बात चल रही थी तो उन्हें अंदाजा तो होगा ही कितने किसान ट्रैक्टर लेकर आने वाले हैं। इनमें से कुछ भटक सकते हैं। कुछ अफरातफरी कर सकते हैं। ऐसे में पुलिस का बैकअप प्लान क्या था। रवीश कुमार ने जोर देकर कहा था कि उन्हें नहीं लग रहा कि सीमाओं के अलावा या फिर तय रास्तों के अलावा दिल्ली पुलिस पर कोई बैकअप प्लान था।

अब जिस बैरिकेडिंग पर रवीश सवाल उठा रहे हैं, वह पुलिस का बैकअप प्लॉन की ही तरह है। एक तरफ टिकैत की भीड़ है जिसके बूते वह 40 लाख ट्रैक्टर दिल्ली में लाने की बात कर रहे हैं। वहीं रवीश कुमार पूछ रहे हैं कि इसकी क्या जरूरत है? क्या रवीश नहीं जानते हैं कि जिस भीड़ को रोकने के लिए पुलिस पुख्ता इंतजाम कर रही है, उसमें वो लोग भी शामिल है जिनकी वीडियो कल सोशल मीडिया पर वायरल हुई और वह भिंडरावाले के समर्थन में नारे लगाते दिखाई दिए। या उन्हें ये नहीं पता कि किसान आंदोलन की आड़ में खालिस्तानी अपनी रोटियाँ सेंक रहे हैं, विदेशी ताकतें भारत के ख़िलाफ़ माहौल बना रही हैं… और सब जानने के बाद किसान नेता कह रहे हैं कि ये प्रदर्शन अक्टूबर-नवंबर तक चलने वाला है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अब पार्टी में नहीं रह सकता, हमेशा अपमानित किया गया’- चुनाव से पहले राहुल गाँधी के वायनाड में 4 बड़े नेताओं का इस्तीफा

पार्टी नेताओं के इस्तीफे के बाद कॉन्ग्रेस नेतृत्व ने क्षेत्र में कार्रवाई की। उन्होंने पार्टी के जिला नेतृत्व में संकट को खत्म करने के लिए...

2013 से ही ‘वीर’ थे अनुराग, कॉन्ग्रेसी राज में भी टैक्स चोरी पर पड़े थे छापे, लोग पूछ रहे – ‘कागज दिखाए थे क्या’

'फ्रीडम ऑफ टैक्स चोरी' निरंतर जारी है। बस अब 'चोर' बड़े हो गए हैं। अब लोकतंत्र भड़भड़ा कर आए दिन गिर जाता है। अनुराग के नाम पर...

2020 में टीवी पर सबसे ज्यादा देखे गए PM मोदी, छोटे पर्दे के ‘युधिष्ठिर’ बनेंगे बड़े पर्दे पर ‘नरेन’

फिल्म 'एक और नरेन' की कहानी में दो किस्से होंगे। एक में नरेंद्रनाथ दत्त के रूप में स्वामी विवेकानंद के कार्य और जीवन को दर्शाया जाएगा जबकि दूसरे में नरेंद्र मोदी के दृष्टिकोण को दिखाया जाएगा।

4 शहर-28 ठिकाने, ₹300 करोड़ का हिसाब नहीं: अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू सहित अन्य पर रेड में टैक्स चोरी के बड़े सबूत

आयकर विभाग की छापेमारी लगातार दूसरे दिन भी जारी रही। बड़े पैमाने पर कर चोरी के सबूत मिलने की बात सामने आ रही है।

किसान आंदोलन राजनीतिक, PM मोदी को हराना मकसद: ‘आन्दोलनजीवी’ योगेंद्र यादव ने कबूली सच्चाई

वे केवल बीजेपी को हराना चाहते हैं बाकी उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं है कि कौन जीतता है। यहाँ तक कि अब्बास सिद्दीकी के बंगाल जीतने पर भी वे खुश हैं। उनका दावा है कि जब तक मोदी और भाजपा को अनिवार्य रूप से सत्ता से बाहर रखा जाता है। तब तक ही सही मायने में लोकतंत्र है।

70 नहीं, अब 107 एकड़ में होंगे रामलला विराजमान: 7285 वर्ग फुट जमीन और खरीदी गई

अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण अब 70 एकड़ की जगह 107 में एकड़ में किया जाएगा। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने परिसर के आसपास की 7,285 वर्ग फुट ज़मीन खरीदी है।

प्रचलित ख़बरें

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

‘मैं 25 की हूँ पर कभी सेक्स नहीं किया’: योग शिक्षिका से रेप की आरोपित LGBT एक्टिविस्ट ने खुद को बताया था असमर्थ

LGBT एक्टिविस्ट दिव्या दुरेजा पर हाल ही में एक योग शिक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया है। दिव्या ने एक टेड टॉक के पेनिट्रेटिव सेक्स में असमर्थ बताया था।

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।

BBC के शो में PM नरेंद्र मोदी को माँ की गंदी गाली, अश्लील भाषा का प्रयोग: किसान आंदोलन पर हो रहा था ‘Big Debate’

दिल्ली में चल रहे 'किसान आंदोलन' को लेकर 'BBC एशियन नेटवर्क' के शो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी (माँ की गाली) की गई।

पुलिसकर्मियों ने गर्ल्स हॉस्टल की महिलाओं को नंगा कर नचवाया, वीडियो सामने आने पर जाँच शुरू: महाराष्ट्र विधानसभा में गूँजा मामला

लड़कियों ने बताया कि हॉस्टल कर्मचारियों की मदद से पूछताछ के बहाने कुछ पुलिसकर्मियों और बाहरी लोगों को हॉस्टल में एंट्री दे दी जाती थी।

‘अश्लीलता और पोर्नोग्राफी भी दिखाते हैं’: सुप्रीम कोर्ट ने ‘तांडव’ मामले में कहा- रिलीज से पहले हो स्क्रीनिंग

तांडव मामले में अपर्णा पुरोहित की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ओटीटी (OTT) प्लेटफॉर्म पर रिलीज से पहले कंटेंट की स्क्रीनिंग होनी चाहिए।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,291FansLike
81,942FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe