Wednesday, July 24, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षास्टेशन- सीवान, ट्रेन- बरौनी मेल, मिला- 28 किलो विस्फोट... बिहार में शराब की थी...

स्टेशन- सीवान, ट्रेन- बरौनी मेल, मिला- 28 किलो विस्फोट… बिहार में शराब की थी तलाश, मिल गया बारूद का डब्बा: धमाका होता तो ट्रेन सहित उड़ जाता पूरा स्टेशन

रिपोर्टों के अनुसार जाँच में पता चला कि विस्फोटक इतना शक्तिशाली था कि इससे ट्रेन समेत पूरे स्टेशन को उड़ाया जा सकता था। सीवान तक पहुँचने से पहले यह ट्रेन कुल 34 स्टेशनों पर ठहरती है।

ग्वालियर-बरौनी मेल बुधवार (22 मार्च 2023) को जब बिहार के सीवान रेलवे स्टेशन पर पहुँची तो ट्रेन में शराब की तलाशी का अभियान चलाया गया। इस दौरान GRP के हाथ विस्फोटक का जखीरा लग गया। एक जनरल कोच के शौचालय के पास पड़े जिस लावारिस डब्बे में शराब होने का अंदेशा था, उसमें करीब 28 किलो विस्फोटक थे। इस विस्फोटक की ताकत आप इस बात से समझ सकते हैं कि यदि धमाका होता तो ट्रेन सहित पूरा स्टेशन ही उड़ जाता।

उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार के कई स्टेशनों से होती हुई यह ट्रेन सीवान पहुँची थी। दो नंबर प्लेटाफाॅर्म पर खड़ी थी। जाँच के दौरान जनरल कोच के शौचालय के पास जीआरपी जवान शब्बीर खान को एक बड़ा सा डब्बा मिला। इस लेकर वे जीआरपी थाने आ गए और अपने सीनियर्स को इसकी जानकारी दी। डब्बा खोलने के बाद जीआरपी अधिकारियों को इसमें विस्फोटक होने का शक हुआ। इसके बाद पटना बम निरोधक दस्ते से संपर्क किया गया।

मिली जानकारी के अनुसार एएसआई नन्हेलाल पासवान, हवलदार हरि उराँव और हेड कांस्टेबल शब्बीर खान समेत जीआरपी की एक टीम ग्वालियर-बरौनी एक्सप्रेस के डब्बों में नियमित सर्च पर थी। इस दौरान ट्रेन के एक जनरल कोच के शौचालय के पास शब्बीर खान को प्लास्टिक के डब्बे में संदिग्ध सामान रखा मिला। शब्बीर ने यात्रियों से इसके बारे में जानकारी माँगी। किसी भी यात्री की तरफ से जवाब नहीं मिला। जीआरपी के जवानों को डब्बे में शराब होने का शक हुआ और वे उसे लेकर जीआरपी थाने पहुँच गए।

विस्फोटक मिलने की सूचना के बाद बम निरोधक दस्ते की टीम सीवान पहुँची। बताया जा रहा है कि बैग के अंदर 13 अलग-अलग पैकेटों में लगभग 28 किलो विस्फोटक भरे हुए थे। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार जाँच में पता चला कि विस्फोटक इतना शक्तिशाली था कि इससे ट्रेन समेत पूरे स्टेशन को उड़ाया जा सकता था। बम निरोधक दस्ते ने विस्फोटक को जीआरपी स्टेशन से सुरक्षित स्थान पर पहुँचाया। बम निरोधक दस्ता विस्फोटक को निष्क्रिय कर आगे की जाँच कर रहा है।

जीआरपी ने भी केस दर्ज कर जाँच शुरू कर दी है। पता लगाने की कोशिश हो रही है कि ट्रेन के कोच में विस्फोटक कैसे पहुँचाया गया और इसे कहाँ ले जाया जा रहा था। बता दें कि ग्वालियर-बरौनी एक्सप्रेस मध्य प्रदेश के ग्वालियर से बिहार के बेगूसराय जिले के बरौनी के तक चलती है। सीवान तक पहुँचने से पहले ट्रेन कुल 34 स्टेशनों पर ठहरती है। जीआरपी पता लगाने की कोशिश कर रही है कि ट्रेन में विस्फोटक किस स्टेशन पर और किसने रखा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

औरतें और बच्चियाँ सेक्स का खिलौना नहीं… कट्टर इस्लामी मानसिकता पर बैन लगाओ, OpIndia पर नहीं: हज पर यौन शोषण की खबरें 100% सच

हज पर मुस्लिम महिलाओं और बच्चियों का यौन शोषण होता है, यह खबर 100% सत्य है। BBC, Washington Post और अरब देश की मीडिया में भी यह छपा है।

‘मेरे बेटे को मार डाला’: आधुनिक पश्चिमी सभ्यता ने दुनिया के सबसे अमीर शख्स को भी दे दिया ऐसा दर्द, कहा – Woke वाले...

लिंग-परिवर्तन कराने वाले को उसके पुराने नाम से पुकारना 'Deadnaming' कहलाता है। उन्होंने कहा कि इसका अर्थ है कि उनका बेटा मर चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -