Saturday, July 13, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाआतंकी संगठन अल कायदा की फिदायीन हमले की धमकी के बाद देश में हाई...

आतंकी संगठन अल कायदा की फिदायीन हमले की धमकी के बाद देश में हाई अलर्ट, राज्यों की पुलिस को आपस में जुड़े रहने को कहा गया: रिपोर्ट

अल कायदा की आधिकारिक वेबसाइट पर कहा गया है, “भगवा आतंकवादियों को अब दिल्ली, बॉम्बे, यूपी और गुजरात में अपने अंत का इंतजार करना चाहिए। उन्हें न तो अपने घरों में और न ही अपनी गढ़वाली सेना की छावनियों में शरण लेना है।"

कुख्यात इस्लामी आतंकी संगठन अल कायदा (Al Qaeda) देश में लोगों को भड़काने के बाद अब अपने खतरनाक मंसूबे को पूरा करने के फिराक में लग गया है। आतंकी संगठन द्वारा भारत के कई शहरों में फिदायीन हमला (Suicide Attack) करने की धमकी देने के बाद देश को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

कर्नाटक में बुर्का-हिजाब के विवाद के बीच मौका देखकर अल कायदा कट्टरपंथियों के समर्थन में कूद गया था। अब उसने इस्लाम के पैगंबर मुहम्मद के कथित अपमान को लेकर देश भर में लोगों को भड़काने के बाद आत्मघाती हमले करने की चेतावनी दी है।

दरअसल, कर्नाटक के स्कूलों में हिजाब और यूपी में लाउडस्पीकर के इस्तेमाल पर प्रतिबंध के बाद देश में मंदिरों को गिराकर अवैध रूप से बनाए मस्जिदों को लेकर कोर्ट में मामले बढ़े तो पैगंबर को लेकर मुद्दा बनाया गया। कट्टरपंंथियों को लगता है कि इस तरह उपद्रव करने से लोग और अदालतें डर जाएँगी और उनके दबाव में काम करेंगी।

अपने पक्ष में महौल बनाने के चक्कर में कट्टरपंथियों ने देश का माहौल खराब कर दिया और इस्लामिक स्टेट (ISIS) और अल कायदा जैसे इस्लामिक आतंकी संगठन इसी के इंतजार में बैठे थे। 6 जून को अल कायदा ने धमकी पत्र जारी करते हुए कहा था कि वह ‘पैगंबर के सम्मान के लिए लड़ने’ के लिए दिल्ली, मुंबई, उत्तर प्रदेश और गुजरात में आत्मघाती हमले शुरू करेगा।

अल कायदा की आधिकारिक वेबसाइट पर कहा गया है, “भगवा आतंकवादियों को अब दिल्ली, बॉम्बे, यूपी और गुजरात में अपने अंत का इंतजार करना चाहिए। उन्हें न तो अपने घरों में और न ही अपनी गढ़वाली सेना की छावनियों में शरण लेना है।”

CNN News18 ने खुफिया सूत्रों के हवाले से अपने रिपोर्ट में कहा है कि इस धमकी को हल्के में नहीं लिया जा सकता है। इसलिए सभी राज्यों की पुलिस को आपस में जोड़ने के लिए कहा गया है। यह पहली बार है जब अल कायदा ने स्पष्ट रूप से जगहों का नाम लिया है।

उसी दिन बांग्लादेश को भी अल कायदा को धमकी मिला। खुफिया सूत्रों का कहना है कि उसकी वेबसाइट के स्थान के बारे में पता लगाया जा रहा है। फिलहाल इसके बारे में कुछ कहना मुश्किल है। यह अफ्रीका, ईरान या अफगानिस्तान में स्थित हो सकता हैं। पाकिस्तान को भी इससे खारिज नहीं किया जा सकता।

अल कायदा के कैडर भारत में मौजूद हैं। आतंकी संगठन चाहता है कि वर्तमान हालात को देखकर कुछ असामाजिक तत्व उसके बहकावे में आकर लोन-वुल्फ अटैक को अंजाम दें। सूत्रों का कहना है कि इसके लिए इसके कैडर मिलकर धन का इंतजाम कर सकते हैं।

बता दें कि भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा पर कट्टरपंथियों ने आरोप लगाया है कि उन्होंने पैगंबर मुहम्मद का अपमान किया है। उनके खिलाफ शुक्रवार (10 जून 2022) को देश के कई शहरों में विरोध प्रदर्शन के नाम पर आगजनी, पथराव और तोड़फोड़ की घटनाओं को अंजाम दिया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -