Tuesday, July 16, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाऑस्ट्रेलिया में सड़क पर टहल रहा था भारतीय छात्र, खालिस्तानी समर्थकों ने लोहे की...

ऑस्ट्रेलिया में सड़क पर टहल रहा था भारतीय छात्र, खालिस्तानी समर्थकों ने लोहे की रॉड से पीटा: युवक गंभीर रूप से घायल, हाथ की करवानी पड़ी सर्जरी

बताते चलें कि पिछले कुछ समय से कनाडा के बाद ऑस्ट्रेलिया में खालिस्तान समर्थकों का आतंक लगातार देखने को मिल रहा है। वहाँ कभी मंदिरों पर हमले हो रहे हैं तो कभी राजदूत को मारने के पोस्टर लगाए जा रहे हैं तो कभी दूतावास प हमले किए जा रहे हैं।

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी शहर (Sydney, Australia) में शुक्रवार (14 जुलाई 2023) को एक भारतीय छात्र पर खालिस्तान समर्थकों ने हमला कर बेरहमी से पीट दिया। घायल स्वप्निल सिंह (बदला हुआ नाम) ने स्थानीय मीडिया को बताया कि पश्चिमी सिडनी के उपनगर वेस्टमीड में हमला किया गया और लोहे के रॉड से उनकी पिटाई की गई।

पीड़ित व्यक्ति ने बताया, “आज सुबह 5.30 बजे मैं काम पर जा रहा था। उसी समय 4-5 खालिस्तान समर्थकों ने मुझ पर हमला कर दिया। मैं एक ड्राइवर के रूप में काम करता हूँ और जहाँ रहता हूँ, वहाँ से मेरी गाड़ी सिर्फ 50 मीटर की दूरी पर खड़ी थी। जैसे ही मैं अपनी ड्राइविंग सीट पर बैठा, ये खालिस्तान समर्थक अचानक आ गए।”

घायल स्वप्निल सिंह ने स्थानीय मीडिया ऑस्ट्रेलिया टुडे को बताया, “हमलावरों में से एक ने उनकी गाड़ी की बाईं ओर का दरवाजा खोला और उनकी बाईं आँख के नीचे गाल की हड्डी पर लोहे की रोड से हमला कर दिया। “जिसके बाद उन्होंने ड्राइवर साइड का दरवाज़ा खोला और मुझे वाहन से बाहर खींच लिया और लोहे की छड़ों से पीटना शुरू कर दिया।”

पीड़ित ने आगे बताया, “उनमें से दो अपने फोन पर वीडियो रिकॉर्डिंग कर रहे थे जबकि 4-5 मुझे उन्हें मार रहे थे। इस दौरान वे खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते रहे। वे ये कहते हुए चले गए कि खालिस्तान मुद्दे का विरोध करने के लिए यह मेरे लिए पर्याप्त सबक होना चाहिए, यदि नहीं तो वे मुझे इस तरह और भी सबक देने के लिए तैयार हैं।”

जिस समय यह घटना हुई, उस दौरान वहाँ से कुछ राहगीर गुजर रहे थे। राहगीरों अथवा पड़ोसियों में से किसी ने फोन करके इसकी जानकारी पुलिस को दे दी। NSW पुलिस ने घटनास्थल पर पहुँचकर पैरामेडिक्स को बुलाया और घायल व्यक्ति के सिर, पैर और बाँह पर गंभीर चोटों के कारण वेस्टमीड अस्पताल भेजा।

पुलिस ने बताया कि कंबरलैंड पुलिस एरिया कमांड से जुड़े अधिकारी हमले की रिपोर्ट के बाद रूपर्ट स्ट्रीट, मेरीलैंड्स वेस्ट गए। वहाँ पुलिस को बताया गया है कि एक 23 वर्षीय व्यक्ति रूपर्ट स्ट्रीट पर टहल रहा था, तभी लोहे के रॉड से लैस चार लोगों ने उस पर हमला कर दिया। घायल के बाँह पर सर्जरी की गई है।

बताते चलें कि पिछले कुछ समय से कनाडा के बाद ऑस्ट्रेलिया में खालिस्तान समर्थकों का आतंक लगातार देखने को मिल रहा है। वहाँ कभी मंदिरों पर हमले हो रहे हैं तो कभी राजदूत को मारने के पोस्टर लगाए जा रहे हैं तो कभी दूतावास प हमले किए जा रहे हैं।

कुछ समय पहले ही ऑस्ट्रेलिया के हिंदू मंदिरों में हुई तोड़फोड़ की गई थी। इसके बाद ब्रिस्बेन में स्थित एक हिंदू मंदिर को धमकी दी गई थी कि यदि वे महाशिवरात्रि मनाना चाहते हैं तो उन्हें खालिस्तान के समर्थन में नारेबाजी करनी होगी।

ऑस्ट्रेलिया में हिंदू लगातार खालिस्तानियों के निशाने पर रहा है। जनवरी 2023 में 20 दिनों के भीतर ही खालिस्तानियों ने 3 हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ करते हुए देश विरोधी और खलिस्तान के समर्थन में नारे लिख दिए थे।

खालिस्तानियों ने हिंदू मंदिर में पहला हमला 12 जनवरी को किया था। यह हमला मेलबर्न के BAPS स्वामीनारायण मंदिर में हुआ था। मंदिर में तोड़फोड़ करने के बाद खालिस्तानियों ने मंदिर की दीवार पर ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’, ‘मोदी हिटलर है’ और ‘भिंडरावाले जिंदाबाद’ जैसे नारे लिखे थे।

इसके बाद खालिस्तानियों ने 16 जनवरी 2023 को मेलबर्न के ही कैरम डाउन्स में स्थित ऐतिहासिक श्री शिव विष्णु मंदिर (Shri Shiva Vishnu Temple) पर हमला किया था। तोड़फोड़ के बाद, मंदिर की दीवारों पर ‘टारगेट मोदी (मोदी को बनाओ निशाना)’, ‘मोदी हिटलर’ और ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लिखे गए थे।

वहीं, तीसरा हमला मेलबर्न के ही अल्बर्ट पार्क इलाके में स्थित श्रीश्री राधा बल्लभ मंदिर में 22 जनवरी 2023 को हमला हुआ। इस मंदिर को इस्कॉन मंदिर भी कहा जाता है। हमले के बाद, मंदिर की दीवारों में ‘खालिस्तान जिंदाबाद’, ‘हिन्दुस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लिखे गए। इसके अलावा, खालिस्तानी आतंकी भिंडरवाले को शहीद बताते हुए भी नारा लिखा गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

किसानों के प्रदर्शन से NHAI का ₹1000 करोड़ का नुकसान, टोल प्लाजा करने पड़े थे फ्री: हरियाणा-पंजाब में रोड हो गईं थी जाम

किसान प्रदर्शन के कारण NHAI को ₹1000 करोड़ से अधिक का नुकसान झेलना पड़ा। यह नुकसान राष्ट्रीय राजमार्ग 44 और 152 पर हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -