Sunday, August 1, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षापुलवामा हमले में शामिल एकमात्र लड़की, आतंकियों को मिली जिससे भरपूर मदद, जिसके घर...

पुलवामा हमले में शामिल एकमात्र लड़की, आतंकियों को मिली जिससे भरपूर मदद, जिसके घर में बनाया गया वो ‘आखिरी वीडियो’

इंशा जान ने 15 बार से ज्यादा और हर बार 2-4 दिनों के लिए अपने घर में आतंकवादियों को रहने-खाने में मदद की। इंशा जान पाकिस्तानी IED निर्माता मो. उमर फारूक से लगातार संपर्क में थी। टेलीफोन और सोशल मीडिया के माध्यम से वो सम्पर्क करती थी।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने फरवरी, 2019 में हुए पुलवामा आतंकी हमले में शामिल 19 आतंकवादियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है। एनआईए की चार्जशीट में 23 साल की एक लड़की इंशा जान (Insha Jan) का नाम भी शामिल है। एनआईए के अनुसार, पुलवामा के हकरीपोरा स्थित उसके घर का इस्तेमाल पुलवामा हमले में शामिल आतंकवादियों को रसद पहुँचाने और उनके ठहरने के लिए किया गया था।

इस वर्ष मार्च के माह में ही एनआईए ने पुलवामा आतंकी हमले के मामले में 50 वर्षीय एक शख्स तारिक अहमद शाह (Tariq Ahmed Shah) और उसकी 23 वर्षीय बेटी इंशा जान (Insha Jan) को गिरफ्तार किया था। वे जम्मू और कश्मीर में पुलवामा जिले के हकीपोरा गाँव के निवासी हैं। तारिक अहमद शाह दक्षिण कश्मीर के जम्मू कश्मीर में ट्रक ड्राइविंग का काम करता है।

आतंकियों से फोन और सोशल मीडिया से जुड़ी थी इंशा जान

एनआईए के अनुसार, इंशा जान ने वर्ष 2018-19 के दौरान 15 बार से ज्यादा और हर बार 2-4 दिनों के लिए अपने घर पर आतंकवादियों को रहने और खाने में मदद की। एनआईए की प्रारंभिक पूछताछ में पता चला है कि इंशा जान पाकिस्तानी IED निर्माता मोहम्मद उमर फारूक से लगातार संपर्क में थी और टेलीफोन और अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से उसके सम्पर्क में थी।

जैश ए मोहम्मद के आतंकी उमर फारूक को सुरक्षाबलों ने इसी साल मार्च के माह एक मुठभेड़ में ढेर कर दिया था। उमर फारूक की पुलवामा हमले में उसकी मुख्य भूमिका बताई गई है। सुरक्षाबलों को फारूक के पास से पाकिस्तान का पहचान पत्र भी मिला था।

एनआईए ने पुलवामा आतंकवादी हमले की साजिश रचने और उसे अंजाम देने के मामले में मंगलवार (अगस्त 24, 2020) को एक विशेष अदालत में प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर समेत 19 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र (चार्ज शीट) दायर की। इस चार्जशीट में जैश ए मोहम्मद के आतंकी उमर फारूक का भी नाम है।

एनआईए की जाँच में खुलासा हुआ है कि पुलवामा आतंकी हमले की तैयारियाँ 2 साल पहले से ही की जा रही थी। यह सिलसिला तब शुरू हुआ, जब आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद अपने आतंकियों को अल कायदा तालिबान जैश ए मोहम्मद और हक्कानी जैश ए मोहम्मद के ट्रेनिंग कैंप में भेजा। आतंकी हमले का मुख्य आरोपित उमर फारूक वर्ष 2016 और 2017 में इस कैंप में ट्रेनिंग लेकर आया था।

अप्रैल 2018 में आतंकी उमर फारूक ने जम्मू सांबा सेक्टर से घुसपैठ की और पुलवामा पहुँच गया। यहाँ उसे पुलवामा के लिए जैश ए मोहम्मद कमांडर की कमान दी गई। उमर ने अपने पाकिस्तानी साथी मोहम्मद कामरान, मोहम्मद इस्माइल, कारी यासिर और स्थानीय आतंकी आदिल डार और समीर डार के साथ पुलवामा हमले की साजिश रची।

इन आतंकियों को पुलवामा की तैयारी करने में मदद करने वाले नामों में से एक नाम इंशा जान का भी है। इंशा जान और उसके पिता तारिक अहमद शाह को मार्च, 2020 में गिरफ्तार कर लिया गया था। पुलवामा हमले के फिदायीन आतंकी आदिल डार ने हमले से पहले इंशा जान के ही घर में ही ठिकाना बनाया था। तारिक अहमद दक्षिण कश्मीर में डंपर ड्राइवर का काम करता था।

एनआईए की पूछताछ में आरोपित तारिक अहमद शाह ने खुलासा किया था कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा के हकरीपोरा के उसके घर का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए किया गया था। तारिक अहमद ने बताया कि उसने फिदायीन आदिल अहमद डार, IED बनाने वाले पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद उमर फारूक, कामरान, समीर अहमद डार और मोहम्मद इस्माइल को पनाह दी थी। उमर फारूक और कामरान को भारतीय सुरक्षा बल मुठभेड़ में मार चुके हैं।

इंशा जान और उसके पिता तारिक अहमद के घर का इस्तेमाल फिदायीन आदिल अहमद डार का वीडियो बनाने के लिए भी किया गया था जिसे जैश ए मोहम्मद ने पुलवामा हमले के तुरंत बाद जारी किया था।

पुलवामा आतंकी हमला

फरवरी 14, 2019 को पुलवामा में श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर CRPF की बस पर हमला हुआ था। दोपहर करीब 3.30 बजे फिदायीन आतंकी आदिल अहमद डार एक कार में आया और उसने CRPF के काफिले में घुसा दी। जिसके बाद बस में बड़ा धमाका हुआ और CRPF के जवानों से भरी बस खाक हो गई। बस के आस-पास जो अन्य वाहन थे, उन्हें भी नुकसान पहुँचा और इस आतंकी हमले में 40 जवान वीरगति को प्राप्त हुए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe