Sunday, July 25, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा42 लोन Apps से धोखाधड़ी, चायनीज कनेक्शन और 87 करोड़ रुपए: चीनी नागरिक सहित...

42 लोन Apps से धोखाधड़ी, चायनीज कनेक्शन और 87 करोड़ रुपए: चीनी नागरिक सहित 4 गिरफ्तार

ये लोन देने के लिए भारी शुल्क लेते थे। लेकिन इंस्टैंट लोन देते थे। यही इनका मोडस ऑपरेंडी था। 42 Apps के अलावा 350 वर्चुअल खाते भी बरामद किए गए हैं, जिनमें लगभग 87 करोड़ रुपए...

साइबराबाद पुलिस (Cyberabad police) ने शुक्रवार (25 दिसंबर 2020) को ऑनलाइन लोन एप्लीकेशन धोखाधड़ी के मामले में 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें एक चीनी नागरिक भी शामिल है। ये लोग लोन नहीं चुका पाने वाले ग्राहकों को फ़र्ज़ी लीगल नोटिस भेजते, धमकाते और मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे। इसके अलावा उनकी एडिट की गई तस्वीरें साझा करके उन्हें जालसाज़ की तरह दिखाते थे। 

साइबराबाद पुलिस कमीश्नर वीसी सज्जानर ने बताया कि इस पूरे मामले के सरगना का नाम जिया झांग (Zixia Zhang) है, जो फ़िलहाल सिंगापुर में है। इसके अलावा गिरफ्तार किए गए आरोपितों की पहचान चीन स्थित शंघाई के यी बाई (Yi bai) उर्फ डेनिस, सत्यपाल, अनिरुद्ध मल्होत्रा, रिची हेमंत सेठ के रूप में हुई है। मामले के दो अन्य आरोपित जिया झांग और उमापति उर्फ अजय अभी फ़रार चल रहे हैं। 

पुलिस के मुताबिक़ आरोपितों ने तत्काल ऋण वित्त व्यवस्था (इंस्टैंट लोन फाइनेंसिंग) दिसंबर 2019 में शुरू कर दी थी। इसके बाद इन्होंने देश के कई अलग-अलग क्षेत्रों में इससे संबंधित कंपनी बनाई। आरोपितों ने आम लोगों को लोन बाँटने के लिए कुल 11 फाइनेंसिंग एप्लीकेशन बनाई थी और लोन वितरण के लिए भारी शुल्क भी लेते थे। हैदराबाद में पुलिस द्वारा कॉल सेंटर पर छापेमारी के बाद यह गिरफ्तारी हुई। कॉल सेंटर दिल्ली की कंपनी स्काईलाइन्स इनोवेशन्स टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड के अंतर्गत चल रहा था और इसका पंजीयन गुरुग्राम के पते पर है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ डेनिस ने सत्यपाल की मदद से देश के अलग-अलग क्षेत्रों में कई कॉल सेंटर शुरू किए। इसके बाद उन्होंने ग्राहकों को लोन बाँटना शुरू किया और जो लोन नहीं चुका पाते थे, उनका मानसिक रूप से शोषण करने लगे। पुलिस का इस घटना पर कहना था कि इन लोन फाइनेंसिंग एप्लीकेशन्स का किसी भी नॉन बैंकिंग फाइनेंसिंग कंपनी से समझौता या क़रार नहीं था।

कमीश्नर वीसी सज्जानर के मुताबिक़, “आरोपितों ने अपने संसाधनों का उपयोग करके लोगों को लोन दिया। हम इस मामले की जाँच कर रहे हैं कि इन्हें दूसरों को लोन देने के लिए रुपए कहाँ से मिलते थे।” तेलंगाना पुलिस ने अभी तक ऑनलाइन लोन एप्लीकेशन धोखाधड़ी के मामले में कुल 15 लोगों को गिरफ्तार किया है।  

डिटेक्टिव विभाग के जॉइंट कमीश्नर ऑफ़ पुलिस अविनाश मोहंती ने भी इस घटना के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने कहा, “हमने अभी तक 42 ऐसी एप्लीकेशन की पहचान की है, जो लोन फाइनेंसिंग का दावा करती हैं। इसके अलावा कुल 350 वर्चुअल खाते भी बरामद किए गए हैं, जिनमें लगभग 87 करोड़ रुपए मौजूद है।”

उनका कहना था कि जाँच के दौरान पता चला कि दो एप्लीकेशन चार कंपनी (Liufang Technologies, Hotfull Technologies, Nabloom Technologies and Pin Print Technologies) के दायरे में आती हैं। यह कंपनियाँ राजेंद्र नगर में व्यक्ति की आत्महत्या के मामले से संबंधित हैं। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

अल्लाह-हू-अकबर चिल्लाया, कई को गोलियों से छलनी किया: अफगानिस्तान में कट्टर इस्लाम के साथ ऐसे फैल रहा तालिबान

तालिबानी आतंकवादियों ने अफगानिस्तान के ज्यादातर इलाकों में कब्जा कर लिया है। वह यहाँ निर्दोष लोगों को मार रहे हैं। जिन लोगों को गोलियों से छलनी किया उन्होंने अफगान सरकार का समर्थन किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,200FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe