Saturday, July 13, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाजो बिट्टा कराटे कश्मीरी पंडितों के दिल में मारता था गोली, उसकी बीवी सरकारी...

जो बिट्टा कराटे कश्मीरी पंडितों के दिल में मारता था गोली, उसकी बीवी सरकारी नौकरी से बर्खास्त; आतंकी सैयद सलाहुद्दीन के बेटे पर भी एक्शन

जेकेएलएफ आतंकी बिट्टा कराटे को 'कश्मीरी पंडितों का कसाई’ भी कहा जाता है। एक बार कैमरे पर हत्याएँ कबूलते हुए उसने दावा किया था कि उसका निशाना कभी नहीं चूकता था। वह अपने टारगेट के सिर या दिल में ही गोली मारता था।

आतंकी फारूक अहमद डार उर्फ बिट्टा कराटे की बीवी सरकारी नौकरी से बर्खास्त कर दी गई है। आतंकवादी सैयद सलाहुद्दीन के बेटे पर भी इसी तरह की कार्रवाई हुई है। इन दोनों के सहित कुल 4 सरकारी बर्खास्त हुए हैं। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने टेरर इकोसिस्टम में संलिप्तता को लेकर यह एक्शन लिया है। बर्खास्त लोगों में वैज्ञानिक और प्रोफेसर भी शामिल हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आतंकी बिट्टा कराटे की बर्खास्त होने वाले पत्नी का नाम अर्जुमंद खान है। वह कश्मीर प्रशासनिक सेवा (KAS) में ग्रामीण विकास विभाग में सीनियर अधिकारी के पद पर कार्यरत थी। वह आतंकी संगठन जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) की मददगार थी।

अर्जुमंद खान के अलावा जम्मू-कश्मीर उद्योग विकास विभाग संस्थान (JKEDI) में मैनेजर के तौर पर कार्यरत सैयद अब्दुल मुईद को भी बर्खास्त कर दिया गया है। अब्दुल मुईद का अब्बा सैयद सलाहुद्दीन आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का सरगना है। इन दोनों के अलावा कश्मीर यूनिवर्सिटी में कार्यरत वैज्ञानिक मुहीद अहमद भट और कश्मीर यूनिवर्सिटी के ही सहायक प्रोफेसर माज़िद हुसैन कादरी को भी बर्खास्त किया गया है। इन सभी पर संविधान की आर्टिकल 311 के तहत कार्रवाई की गई है।

पहले भी हुए हैं बर्खास्त

इससे पहले भी आतंकी संगठनों से साठगाँठ के चलते कश्मीर में सरकारी कर्मचारियों की बर्खास्तगी हुई है। इसी साल मार्च में 5 सरकारी कर्मचारियों को बर्खास्त किया था। इनमें कम्प्यूटर ऑपरेटर, टीचर और पुलिस कांस्टेबल शामिल थे। अप्रैल 2022 में भी कश्मीर लॉ कॉलेज के पाकिस्तान समर्थक प्रोफेसर शेख शौकत को बर्खास्त किया गया था।

कौन है बिट्टा कराटे

जम्मू कश्मीर लिब्रेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के आतंकी बिट्टा कराटे को ‘कश्मीरी पंडितों का कसाई (Butcher of Kashmiri Pandits)’ भी कहा जाता है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी और मेहबूबा मुफ्ती की बहन रुबिया सईद के अपहरण से भी जुड़ा था। उस समय सईद केंद्र सरकार में गृह मंत्री हुआ करते थे और इस घटना के बाद सरकार ने घुटने टेकते हुए रुबिया की रिहाई के लिए आतंकियों को छोड़ दिया था। कश्मीरी पंडितों की हत्या वह एक बार कैमरे पर भी कबूल चुका है। उसने कहा था, 1990 में कम से कम 20 या शायद 30 से 40 कश्मीरी पंडितों की हत्या की थी।’ उसने दावा किया था कि उसका निशाना कभी नहीं चूकता था। वह अपने टारगेट के सिर या दिल में ही गोली मारता था। बहुचर्चित फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ में भी उसके क्रूरता को दिखाया गया है।

हिज्बुल मुजाहिदीन का सरगना है सैयद सलाहुद्दीन

हिज्बुल मुजाहिदीन का सरगना सैयद सलाहुद्दीन कश्मीर में हुई अनेक आतंकी घटनाओं का जिम्मेदार है। इन घटनाओं में कई सैनिक, पुलिसकर्मी और पैरामिलिट्री जवानों के साथ कश्मीरी हिन्दुओं को भी अपनी जान गँवानी पड़ी है। सलाहुद्दीन 2016 में पंजाब में पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले का मास्टरमाइंड है। 1946 में पैदा हुआ सलाउद्दीन श्रीनगर के एसपी कॉलेज से ग्रेजुएट और 1971 में कश्मीर विश्वविद्यालय से पॉलिटिकल साइंस में पोस्ट ग्रेजुएट है। उसने 1987 में मुस्लिम संयुक्त मोर्चा के टिकट पर अमीराकदल निर्वाचन क्षेत्र से जम्मू-कश्मीर विधानसभा का चुनाव भी लड़ा था। लेकिन हार गया। उसके आतंकी संगठन ISIS से भी लिंक बताए जाते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार में निर्दलीय शंकर सिंह ने जदयू-राजद को हराया, बंगाल में 25 साल की मधुपूर्णा बनीं MLA, हिमाचल में CM सुक्खू की पत्नी जीतीं:...

उप-मुख्यमंत्री व भाजपा नेता विजय सिन्हा ने कहा कि शंकर सिंह भी हमलोग से ही जुड़े हुए उम्मीदवार थे। 'नॉर्थ बिहार लिबरेशन आर्मी' के थे मुखिया।

उत्तराखंड में तेज़ी से बढ़ रही मुस्लिमों और ईसाईयों की जनसंख्या: UCC पैनल की रिपोर्ट में खुलासा – पहाड़ों से हो रहा पलायन

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में आबादी घट रही है, तो मैदानी इलाकों में बेहद तेजी से आबादी बढ़ी है। इसमें सबसे बड़ा योगदान दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों ने किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -