Friday, December 9, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाJ&K: 'प्रदर्शन और फायरिंग की खबरें झूठी, 6 दिनों में नहीं चली 1 भी...

J&K: ‘प्रदर्शन और फायरिंग की खबरें झूठी, 6 दिनों में नहीं चली 1 भी गोली’

राज्य के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक ने लोगों से मनगढंत ख़बरों पर यकीन नहीं करने को कहा है। साथ ही बताया है कि कश्मीर में पिछले छह दिनों में गोलीबारी की कोई घटना नहीं हुई है।

बकरीद से पहले जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य होने की ओर अग्रसर हैं। प्रशासन ने एक बार फिर राज्य में विरोध-प्रदर्शनों और फायरिंग की घटनाओं को सिरे से नकार दिया है। राज्य के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक ने लोगों से मनगढंत ख़बरों पर यकीन नहीं करने को कहा है। साथ ही बताया है कि कश्मीर में पिछले छह दिनों में गोलीबारी की कोई घटना नहीं हुई है।

पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताया, “पथराव की मामूली घटना जिससे तत्काल निपट लिया गया था, को छोड़ कर किसी तरह की अप्रिय घटना की कोई खबर नहीं है।”

कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी के बयान के बाद राज्य की स्थिति के संबंध में स्पष्टीकरण देते हुए उन्होंने यह बात कही। राहुल ने नई दिल्ली में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए कहा था कि कश्मीर की स्थिति बेहद ख़राब है।

राहुल गाँधी के बयान के कुछ ही मिनट बाद श्रीनगर पुलिस ने ट्वीट किया कि स्थिति शांतिपूर्ण है। ट्वीट में कहा गया, “घाटी में स्थिति आज सामान्य थी। किसी अप्रिय घटना की ख़बर नहीं मिली। कुछ चुनिंदा स्थानों पर प्रतिबंध अस्थायी रूप से हटाए गए थे।” 

कश्मीर के आईजी एसपी पाणि ने भी पुलिस फायरिंग की ख़बरों को पूरी तरह ख़ारिज कर दिया है। उन्होंने कहा, “कुछ इंटरनेशनल मीडिया रिपोर्ट्स में पुलिस फायरिंग का दावा किया गया है, जो पूरी तरह गलत है। ऐसी कोई घटना नहीं हुई है। पिछले एक हफ्ते से घाटी में शांति है।” इससे पहले केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने भी ऐसी ख़बरों को मनगढ़ंत और आधारहीन करार दिया था। मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा था कि शुक्रवार को श्रीनगर में 10,000 लोगों द्वारा विरोध-प्रदर्शन करने का दावा गलत है। जुमे के मौके पर श्रीनगर और बारामूला में छिटपुट प्रदर्शन हुए थे, लेकिन इनमें 20 से ज्यादा लोग नहीं थे।  

अनुच्छेद-370 के प्रावधानों को निष्क्रिय किए जाने से पहले सरकार ने कुछ एहतियातन कदम उठाए थे। इनमें धारा 144 लागू करना, अतिरिक्त बलों की तैनाती, इंटरनेट और मोबाइल सेवा बंद करने जैसे कदम शामिल थे। अब जम्मू इलाके से धारा 144 हटा ली गई है और अन्य जगहों पर भी प्रतिबंधों में ढील दी जा रही है।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल खुद हालात पर नजर बनाए हुए हैं और राज्य में डेरा डाल रखा है। यहाँ तक कि शुक्रवार को उन्होंने ज़िहादियों का गढ़ माने जाने वाले अनंतनाग का दौरा कर स्थानीय लोगों से बातचीत की थी। वरिष्ठ सैन्य अधिकारी भी राज्य के अलग-अलग हिस्सों में लगातार सुरक्षा हालात की समीक्षा कर रहे हैं। राज्यपाल सतपाल मलिक के अनुसार, बकरीद के लिए प्रशासन ने राज्य में सभी आवश्यक इंतज़ाम कर लिए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गैर-मुस्लिमों को शिक्षा दो, मजहबी शिक्षा नहीं’: NCPCR ने राज्यों को दिए मदरसों की विस्तृत जाँच और मैपिंग के आदेश, 30 दिन में देनी...

NCPCR ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को गैर-मुस्लिम बच्चों को दाखिला देने वाले मदरसों की विस्तृत जाँच करने के निर्देश दिए हैं।

1% से भी कम वोट से हिमाचल ने रिवाज कायम रखा, CM बनने को लड़ कॉन्ग्रेसी भी निभा रहे परंपरा: वीरभद्र सिंह का कुनबा...

हिमाचल विधानसभा चुनावों में जीत मिलने के बाद अब पार्टी में मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान शुरू हो गई है। सीएम पद के लिए की चेहरे सामने हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
237,416FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe