Tuesday, April 16, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा​कश्मीर में अब बिहार के मजदूर की गोली मारकर हत्या: टारगेट किलिंग के बीच...

​कश्मीर में अब बिहार के मजदूर की गोली मारकर हत्या: टारगेट किलिंग के बीच शाह-डोभाल में हुई बात, हाई लेवल मीटिंग आज

बड़गाम जिले में 2 मजदूरों को निशाना बनाया गया था। इसमें दिलकुश कुमार की मौत हो गई। वे बिहार के अररिया के रहने वाले थे। वहीं इसी हमले में पंजाब का मजदूर राजन घायल हो गया।

जम्मू-कश्मीर में टारगेट किलिंग की बढ़ती घटनाओं के बीच अमित शाह शुक्रवार (3 जून 2022) को हाई लेवल मीटिंग करने जा रहे हैं। इससे पहले उन्हें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से भी बात की थी। आज की मीटिंग में जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के अलावा केंद्र सरकार और केंद्र शासित प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारी भी शिरकत करेंगे। 15 दिनों के भीतर इस तरह की यह दूसरी बैठक होगी।

इससे पहले गुरुवार (2 जून 2022) को आतंकियों ने कुलगाम में एक बैंक मैनेजर और बड़गाम में बिहार के एक मजूदर की गोली मारकर हत्या कर दी थी। बड़गाम जिले में 2 मजदूरों को निशाना बनाया गया था। इसमें दिलकुश कुमार की मौत हो गई। वे बिहार के अररिया के रहने वाले थे। वहीं इसी हमले में पंजाब का मजदूर राजन घायल हो गया। दोनों मागरपोरा चंडूरा इलाके में एक ईंट भट्ठे पर काम करते थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दिलकुश कुमार की उम्र महज 17 साल थी। घटना रात के करीब 9.20 पर हुई। आतंकी हमले की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुँची पुलिस ने दोनों मजदूरों को अस्पताल में भर्ती करवाया। इलाज के दौरान दिलकुश कुमार की मौत हो गई। वहीं राजन की हालत स्थिर बताई जा रही है।

पुलिस ने इस मामले में FIR दर्ज कर आतंकियों की तलाश शुरू कर दी है। इलाके की घेराबंदी की गई है। सुरक्षा बल सर्च ऑपरेशन चला रहे हैं। गौरतलब है कि बड़गाम में आतंकी हमला कुलगाम में राजस्थान निवासी बैंक मैनेजर विनय कुमार की हत्या के कुछ ही घंटों बाद हुआ। विनय कुमार को उनके ऑफिस में ही मार डाला गया था। विनय की हत्या की जिम्मेदारी आतंकी समूह लश्कर-ए-तैय्यबा ने ली है।

इससे एक हिन्दू महिला टीचर रजनी बाला की आतंकियों ने गोपालपुरा के सरकारी स्कूल में गोली मारकर हत्या कर दी थी। घाटी में चल रही टारगेट किलिंग के चलते कश्मीरी हिन्दुओं ने पलायन भी शुरू कर दिया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘क्षत्रिय न दें BJP को वोट’ – जो घूम-घूम कर दिला रहा शपथ, उस पर दर्ज है हाजी अली के साथ मिल कर एक...

सतीश सिंह ने अपनी शिकायत में बताया था कि उन पर गोली चलाने वालों में पूरन सिंह का साथी और सहयोगी हाजी अफसर अली भी शामिल था। आज यही पूरन सिंह 'क्षत्रियों के BJP के खिलाफ होने' का बना रहा माहौल।

छत्तीसगढ़ में ‘लाल आतंकवाद’ के खिलाफ BSF को बड़ी सफलता: टॉप कमांडर समेत 29 नक्सलियों को किया ढेर, AK-47 के साथ लाइट मशीन गनें...

मुठभेड़ में मारे गए सभी 29 लोग नक्सली हैं। शंकर राव 25 लाख रुपये का इनामी नक्सली था। घटनास्थल से पुलिस को 7 AK27 राइफल के साथ एक इंसास राइफल और तीन LMG बरामद हुई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe