Saturday, July 13, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा'असली हिंसा तो अभी बाकी है': अमृतपाल ने फिर दी धमकी, बोला- सिकंदर-मुगल-अंग्रेज हमें...

‘असली हिंसा तो अभी बाकी है’: अमृतपाल ने फिर दी धमकी, बोला- सिकंदर-मुगल-अंग्रेज हमें नहीं कुचल सके, खालिस्तान राज का सपना पूरा होगा

राष्ट्रवाद की डोर को पतली बताते हुए अमृतपाल ने कहा, "दबे-कुचले लोग हिंसा का रास्ता चुनते हैं। लोग कहते हैं कि हिंसा बहुत बुरी है, लेकिन हिंसा बहुत पवित्र है। गुरु गोबिंद सिंह जी ने कहा- जब आपके पास कोई विकल्प नहीं है तो तलवार उठाना सही है।" उसने कहा कि पंजाब की संस्कृति के दमन और संसाधनों के दोहन का अंतिम परिणाम हिंसा होगा।

थाने पर कब्जा कर पंजाब की आम आदमी पार्टी की सरकार को पीछे हटने के लिए मजबूर करने वाले खालिस्तान समर्थक ‘वारिस पंजाब दे’ के चीफ अमृतपाल सिंह ने हिंसा की खुली धमकी दी है। उसने कहा कि अजनाला थाने पर कब्जा हिंसा नहीं थी। असली हिंसा तो अभी बाकी है।

अमृतपाल ने अजनाला में मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, “आप नारेबाजी और (खालिस्तानी) झंडे फहराने को हिंसा के रूप में गिन रहे हैं.. आपने अब तक असली हिंसा नहीं देखी है। असली हिंसा अभी देखना बाकी है।” हिंसा को पवित्र बताते हुए उसने कहा, “खालिस्तान की विचारधारा और खालिस्तानी राज का सपना कभी नहीं मिटेगा।”

अमृतपाल ने कहा, “दबे-कुचले लोग हिंसा का रास्ता चुनते हैं। लोग कहते हैं कि हिंसा बहुत बुरी है, लेकिन हिंसा बहुत पवित्र है। गुरु गोबिंद सिंह जी ने कहा- जब आपके पास कोई विकल्प नहीं है तो तलवार उठाना सही है।” उसने कहा कि पंजाब की संस्कृति के दमन और संसाधनों के दोहन का अंतिम परिणाम हिंसा होगा।

भारतीयता पर सवाल उठाते हुए अमृतपाल ने कहा, “भारतीय संस्कृति क्या है? भारतीय पहनावा क्या है और भारतीय भोजन क्या है? कुछ नहीं है। यह कहना कि हम सब भारतीय हैं, झूठ है। हम क्यों कहें कि हम भारतीय हैं? राष्ट्रवाद की डोरी बहुत पतली होती है, यह कभी भी टूट सकती है।”

पाकिस्तान की भाषा बोलते हुए खालिस्तानी अमृतपाल ने बलूचिस्तान का भी जिक्र किया। और कहा कि भारत ने जो बलूचिस्तान में किया है, पाकिस्तान वही कश्मीर में करेगा। उसने कहा कि खालिस्तान आंदोलन को विफल करने के किसी भी कदम का कोई परिणाम नहीं निकलेगा।

अमृतपाल ने धमकी देेते हुए कहा, “हमें ना ही पंजाब सरकार और ना ही केंद्र सरकार रोक सकती है। हम राजनीतिक खेल नहीं खेलना चाहते। इसे कोई नहीं रोक सकता है। न तो सिकन्दर रोक सका, न मुगल, न अंग्रेज कुचल सके, हिन्दुस्तान भी दबा नहीं सका। पंजाब एक दिन आजाद होगा।”

अजनाला थाने पर कब्जा करने वाले उसके समर्थकों पर कार्रवाई करने के पंजाब DGP गौरव यादव के बयान पर अमृतपाल भड़क गया है। उसने अजनाला थाने पर कब्जा करने वाले अपने समर्थकों पर किसी भी कार्रवाई पर चेतावनी दी है। अमृतपाल ने कहा, “प्रशासन को कोई भी कार्रवाई करने से पहले अजनाला थाने पहुँचने वाले लोगों की संख्या का ध्यान रखना चाहिए।”

केंद्र सरकार ने अमृतपाल के इंस्टाग्राम अकाउंट को भारत में बैन कर दिया गया है। रिपोर्टों की मानें तो अमृतपाल के नाम से इंस्टाग्राम पर तकरीबन 35 अकाउंट हैं। सरकार ने इनमें से ब्लू टिक (वेरिफाइड) वाले अकाउंट को बंद किया है। अमृतपाल के खिलाफ यह पहली कार्रवाई है।

बता दें कि पंजाब में हथियारों से लैश खालिस्तान समर्थकों ने गुरुवार (23 फरवरी, 2023) को अमृतसर स्थित अजनाला थाने पर हमला कर दिया था। हजारों की संख्या में जुटे निहंग सिख तलवार और बंदूक आदि हथियारों के साथ थाने की तरफ बढ़े।

इस दौरान उन्होंने पुलिस की बैरिकेडिंग तोड़ दी और थाने में दाखिल हो गए। खालिस्तान समर्थक ‘वारिस पंजाब दे’ के चीफ अमृतपाल सिंह के खिलाफ FIR और उसके करीबी लवप्रीत तूफान की गिरफ्तारी का विरोध कर रहे थे। बाद में उसके दबाव में लवप्रीत तूफान को छोड़ दिया गया।

23 फरवरी को खालिस्तान समर्थक भीड़ के उपद्रव के बावजूद पंजाब पुलिस ने कोई ऐक्शन नहीं लिया। इस पर पंजाब पुलिस के महानिदेशक (डीजीपी) गौरव यादव ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब को एक ढाल के रूप में इस्तेमाल किया था।

गौरव यादव ने बताया कि गुरु ग्रंथ साहिब की आड़ लेकर पुलिसकर्मियों पर हमला भी किया गया इस हमले में छह लोग घायल हो गए थे। डीजीपी के अनुसार, यदि पुलिस ने गोलीबारी की होती तो हालात खराब हो सकते थे। हमने संयम के साथ काम लिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -