Thursday, July 18, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षायुवाओं को कट्टरपंथी बनाने के लिए मुहम्मद मंसूर ने जिहाद की अरबी किताब का...

युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के लिए मुहम्मद मंसूर ने जिहाद की अरबी किताब का मलयालम में किया अनुवाद

"जिहाद की पुस्तक केरल में कमज़ोर वर्ग के युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के लिए IS के संचालकों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला मुख्य दस्तावेज़ था। पीडीएफ प्रारूप में पुस्तक का उपयोग ऑनलाइन प्रचार के लिए किया गया था।"

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) को कोंडोट्टी मूल के एक ऐसे शख़्स के बार में पता चला है, जिसने जिहाद पर मलयालम में एक अरबी पुस्तक का अनुवाद किया था। इसका इस्तेमाल इस्लामिक स्टेट (IS) के ऑपरेटर्स द्वारा केरल में युवाओं का ब्रेनवॉश करने के लिए किया गया था। 

प्रमुख जाँच एजेंसी को पता चला है कि 34 वर्षीय मुहम्मद मंसूर उर्फ़ ​​अबू हनिया अल कोंडोट्टी, मलप्पुरम का निवासी है, उसने जिहाद पर 14वीं शताब्दी के विद्वान इब्न नुबा द्वारा लिखित पुस्तक का मलयालम में अनुवाद किया था। सीरिया जाने से पहले वो अपने परिवार के साथ अक्टूबर 2015 तक बहरीन में काम कर रहा था। गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, 2016 में मंसूर ने सीरिया में IS के लिए काम करते हुए किताब का अनुवाद किया।

अधिकारी के अनुसार, “जिहाद की पुस्तक केरल में कमज़ोर युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के लिए IS के संचालकों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला मुख्य दस्तावेज़ था। पीडीएफ प्रारूप में पुस्तक का उपयोग ऑनलाइन प्रचार के लिए किया गया था। NIA ने राज्य में दर्ज IS से जुड़े अन्य मामलों में गिरफ़्तार IS के गुर्गों से हार्ड कॉपी के साथ-साथ सॉफ्ट कॉपी भी बरामद की।”

ख़बर के अनुसार, मुहम्मद मंसूर का पता लगाने के लिए एक इंटरपोल ब्लू-कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था; मंसूर निट्टूरवेटिल उर्फ़ ​​अबू हज़र; शहलाद उर्फ़ ​​अबू यासर, कन्नूर; कोज़ंडी, कोझीकोड का फ़ाज़िद हम्सा उर्फ़ ​​अबू मुहम्मद; पेरुम्बावूर का रहमान उर्फ़ ​​अबू हसन; और मलप्पुरम के वांडूर का मुकादिस पूलट। ये सभी वांडूर IS मामले के आरोपित हैं, जिन्होंने 2017 में वांडूर में एक गुप्त बैठक आयोजित की थी। NIA, कोझीकोड के कोडीवली के शिबू निहार वी के उर्फ़ ​​अबू मरियम को गिरफ़्तार कर सकती है, जो कई प्रयासों के बावजूद सीरिया नहीं पहुँच सका था।

हाल ही में, राष्ट्रीय जाँच एजेंसी ने कोच्चि में अदालत में एक आरोप पत्र दाखिल किया था। जाँच में पता चला कि आरोपित व्यक्ति बहरीन के अल अंसार केंद्र में आयोजित कक्षाओं में भाग लेता था, जिसके लिंक केरल के सलाफी स्कॉलर से भी थे।

2014 में IS के गठन के बाद, कन्नूर का निवासी हम्ज़ा, वालपत्तनम IS मामले का आरोपित था, जिसने समूह को सीरिया की ओर पलायन करके IS में शामिल होने की सलाह दी थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

काँवड़ यात्रा पर किसी भी हमले के लिए मोहम्मद जुबैर होगा जिम्मेदार: यशवीर महाराज ने ‘सेकुलर’-इस्लामी रुदालियों पर बोला हमला, ढाबों मालिकों की सूची...

स्वामी यशवीर महाराज ने 18 जुलाई 2024 को एक वीडियो बयान जारी कर इस्लामिक कट्टरपंथियों और तथाकथित 'सेकुलरों' को आड़े हाथों लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -