Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाNSA, तीनों सेनाओं के प्रमुख, अर्धसैनिक बलों के निदेशक, LG, IB, R&AW - अमित...

NSA, तीनों सेनाओं के प्रमुख, अर्धसैनिक बलों के निदेशक, LG, IB, R&AW – अमित शाह ने सबको बुलाया: कश्मीर में ‘एक्शन’ की तैयारी में सरकार, हर स्कूल में राष्ट्रगान अनिवार्य

पूर्व CM महबूबा मुफ़्ती का कहना है कि असली मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए ये सब किया जा रहा है। वहीं प्रशासन का कहना है कि राष्ट्र को लेकर बच्चों में गर्व की भावना भरने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

हाल ही में जम्मू कश्मीर के रियासी, कठुआ और डोडा में लगातार आतंकी हमले हुए। रियासी में हुए हमले में शिव खोड़ा मंदिर से लौट रही बस पर गोलीबारी से 10 श्रद्धालुओं की मौत हो गई, जिनमें बच्चे और महिलाएँ भी शामिल थीं। अब जम्मू कश्मीर में आतंकी हमलों को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बैठक की है। वहीं PDP की महबूबा मुफ़्ती राज्य में राष्ट्रगान को अनिवार्य बनाए जाने पर निशाना साध रही है। जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव के आसार जताए जा रहे थे, लेकिन आतंकी हमले फिर बढ़ गए हैं।

जम्मू कश्मीर के स्कूलों में राष्ट्रगान अनिवार्य

जम्मू कश्मीर के के स्कूली शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी विद्यालयों में सुबह की असेम्ब्ली के दौरान राष्ट्रगान को अनिवार्य कर दिया है। इसे स्टैंडर्ड प्रोटोकॉल बताते हुए विभाग ने कहा है कि सुबह के इस रिवाज का केंद्रशासित प्रदेश में सभी स्कूलों में समान रूप से अनुसरण नहीं किया जा रहा था। वहीं पूर्व CM महबूबा मुफ़्ती का कहना है कि असली मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए ये सब किया जा रहा है। वहीं प्रशासन का कहना है कि राष्ट्र को लेकर बच्चों में गर्व की भावना भरने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

इससे बच्चों के भीतर राष्ट्रीय पहचान मजबूत होगी। साथ ही अनुशासन और एकता को बढ़ावा देने की भी उम्मीद इस कदम से की जा रही है। राष्ट्रगान में बच्चे और शिक्षक, दोनों शामिल होंगे। प्रशासन का कहना है कि इससे नैतिक मूल्यों का संरक्षण, साझा सामाजिक भावना और शक्ति के सिद्धांतों को पोषित करने का काम करेगा। जम्मू कश्मीर में ऐसा फैसला पहली बार लिया गया है। साथ ही स्कूलों को कहा गया है कि वो बच्चों को जागरूक करते रहें, उन्हें महँ हस्तियों/स्वतंत्रता सेनानियों की जीवनी पढ़ाएँ और उनका उत्साहवर्धन करें।

अमित शाह ने बुलाई उच्चस्तरीय बैठक

उधर 3 आतंकवादी हमलों के बाद देश के गृह मंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर में सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की है, साथ ही रविवार (16 जून, 2024) को एक उच्च-स्तरीय बैठक बुलाई है। 1 दिन पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने भी सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की थी। रविवार को 360 डिग्री रिव्यू किया जाएगा। NSA अजीत डोभाल के अलावा उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा, तीनों सेनाओं के प्रमुख के अलावा IB और R&AW के मुखिया भी मौजूद रहेंगे।

साथ ही अमरनाथ यात्रा को लेकर क्या तैयारियाँ हैं इसकी भी समीक्षा की जाएगी। 29 जून, 2024 से ही ये यात्रा शुरू होने वाली है ऐसे में मात्र 15 दिन ही बचे हुए हैं। श्रीनगर में हाल ही में यूनिफाइड कमांड मीटिंग भी हुई थी, जिसमें सिक्योरिटी की सामान्य समीक्षा की गई। अमित शाह की आगामी बैठक में सशस्त्र बलों के निदेशक भी हिस्सा लेंगे। कठुआ में मुठभेड़ के दौरान हाल ही में एक आतंकी को सुरक्षा बलों ने मार गिराया है। अभी घाटी में ‘सफाई अभियान’ और तेज़ होगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -