Wednesday, July 28, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षामोदी सरकार एक्शन में, यासीन मालिक सहित कई अलगाववादियों के घरों पर NIA की...

मोदी सरकार एक्शन में, यासीन मालिक सहित कई अलगाववादियों के घरों पर NIA की रेड

मलिक के साथ-साथ अन्य अलगाववादी नेताओं मीरवाइज़ उमर फ़ारुख़, साबिर शाह, अशरफ़ सेहराई के यहाँ भी छापेमारी चल रही है।

अलगाववादी नेता यासीन मलिक के घर पर राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने छापा मारा है। ख़बरों के अनुसार, सुबह साढ़े सात बजे से ही यह रेड चालू है। सूचना यह भी है कि यासीन मालिक के अलावा कई अन्य कश्मीरी अलगाववादियों के ठिकानों पर NIA की छापेमारी चालू है। मलिक को गत शुक्रवार (फरवरी 22, 2019) को गिरफ़्तार किया गया गया था। उस से पहले भारत सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सभी अलगाववादियों सहित 160 कश्मीरी नेताओं की सुरक्षा वापस ले ली थी।

एक अन्य बड़ी ख़बर के मुताबिक़, भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान स्थित आतंकी ठिकानों पर बम वर्षा कर उन्हें तबाह कर दिया। सरकार एक के बाद एक कई कड़े क़दम उठाते हुए पाकिस्तान को लगातार घेरने की कोशिश कर रही है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने से लेकर कश्मीर में अलगववादियों पर शिकंजा कसने तक- भारत ने हर तरफ से सख़्त रवैया अपना कर आतंकवाद के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई करने के संकेत दिए थे।

ताज़ा छापेमारी यासीन मलिक के श्रीनगर के मैसुमा स्थित आवास पर की जा रही है। मालिक जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट का चेयरमैन है। 52 वर्षीय मलिक कश्मीर की कथित आज़ादी की वकालत करता रहा है। उसके घर पर NIA की छापेमारी को भारत सरकार की नयी कश्मीर नीति का संकेत है। एक से एक बदलते घटनाक्रम के बीच यह साफ़ हो गया है कि सरकार इन अलगाववादियों पर अब नरम रुख नहीं रखना चाहती। मलिक पर छापेमारी ख़त्म होने के बाद इस बारे में और अधिक जानकारी मिलेगी।

एक अन्य ख़बर के मुताबिक़, मलिक के साथ-साथ अन्य अलगाववादी नेताओं मीरवाइज़ उमर फ़ारुख़, साबिर शाह, अशरफ़ सेहराई के यहाँ भी छापेमारी चल रही है। तस्वीरों में मलिक के घर के बाहर मौजूद सुरक्षाकर्मी देखे जा सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,573FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe