Wednesday, July 17, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसबसे ज़्यादा सीटें नवाज़ की पार्टी को, लेकिन उम्मीदवार सबसे ज़्यादा जीते इमरान के:...

सबसे ज़्यादा सीटें नवाज़ की पार्टी को, लेकिन उम्मीदवार सबसे ज़्यादा जीते इमरान के: पाकिस्तान में नतीजों के बाद जोड़तोड़ शुरू, दोनों पक्ष कर रहे जीत के दावे

अब तक की बातचीत से साफ़ है कि पाकिस्तान में शरीफ ब्रदर्स की PML-N और भुट्टो-जरदारी परिवार की PPP मिल कर सरकार बनाने की कोशिश करेगी।

पाकिस्तान में आम चुनावों के परिणाम घोषित होने के साथ ही सत्ता के लिए गठबंधन बनाने व जोड़-तोड़ की प्रक्रिया शुरू हो गई है। पाकिस्तान में आम चुनावों के साथ-साथ प्रांतीय चुनाव भी हुए हैं। शुक्रवार (9 फरवरी, 2024) को देर रात तक कई राजनीतिक दलों की बैठकें चलीं। PML-N के के नवाज़ शरीफ ने कहा है कि उन्होंने अपने भाई शाहबाज़ को गठबंधन के लिए बातचीत की जिम्मेदारी दी है। दोनों भाई पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रह चुके हैं।

भुट्टो-जरदारी परिवार के PPP और सिंध में दखल रखने वाली MQM-P के साथ शरीफ भाइयों की बातचीत चल रही है। बिलावल भुट्टो और आसिफ अली ज़रदारी लाहौर पहुँचे हुए हैं। दोनों की शाहबाज़ शरीफ के भाई के साथ बैठक हुई। शाहबाज़ शरीफ ने MQM-P के संयोजक डॉ खालिद महमूद सिद्दीकी से भी बात की। उनकी पार्टी फ़िलहाल अज़ीज़ाबाद के जिन्ना ग्राउंड में जीत का जश्न मनाने में मशगूल है। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के पास ब्रीफकेस नहीं है, लेकिन सभी निर्दलीय विजेताओं का स्वागत है।

अब तक की बातचीत से साफ़ है कि पाकिस्तान में शरीफ ब्रदर्स की PML-N और भुट्टो-जरदारी परिवार की PPP मिल कर सरकार बनाने की कोशिश करेगी। पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त में भी इन दोनों दलों की ही सरकार होगी। पाकिस्तान में किसी को भी स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है, ऐसे में सरकार का स्वरूप कैसा होगा इस पर काफी संशय है। PTI के कई उम्मीदवार निर्दलीय लड़ कर जीते हैं, ऐसे में उन्हें भी अलग-अलग पार्टियाँ अपने पाले में लुभाने में जुटी हुई हैं।

पाकिस्तान में 266 में से जिन 246 सीटों के नतीजे आए हैं, जिसमें से 91 पर PTI और उसके निर्दलीय कैंडिडेट्स जीते हैं। PML-N 71 सीटें जीत कर सबसे बड़ी पार्टी बनी है, वहीं PPP ने 51 सीटें अपने नाम की हैं। नॉर्थ वजीरिस्तान में गोलीबारी भी हुई है, जिसमें नेशनल एसेम्ब्ली का एक पूर्व सदस्य घायल हो गया। उधर इमरान खान को 12 मामलों को जमानत मिल गई है। हालाँकि, वो अभी जेल में ही रहेंगे। उनकी बहन ने कहा है कि फ़ौज उनकी हत्या कराना चाहती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘228 किलो सोना चोरी होने का सबूत दें शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद, या जाएँ कोर्ट’: मंदिर समिति की दो टूक, पूछा – कॉन्ग्रेस के एजेंडे को...

अजेंद्र अजय ने कहा कि सीएम धामी से साधु-संतों और जनप्रतिनिधियों ने अनुरोध किया था, ऐसे में वो धार्मिक कार्यक्रम में सम्मिलित हुए, इसमें सरकारी पैसा नहीं लगा है ।

कर्नाटक में कॉन्ग्रेस सरकार के ‘लोकल कोटा’ पर उठे सवाल, उद्योगपति बोले- प्राइवेट सेक्टर में कन्नड़ भाषियों को रिजर्वेशन भेदभावपूर्ण, बिल रद्द करें

कर्नाटक में निजी नौकरियों में कन्नड़ लोगों को 50-75% आरक्षण देने का निर्णय कारोबारी समुदाय को रास नहीं आया है। उन्होंने इसकी आलोचना की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -