वो सब हार गए जिनके लिए स्वरा भास्कर ने लिए थे नए साड़ी-ब्लाउज़, ट्विटर पर लोगों ने कहा- ‘पनौती’

स्वरा को सोशल मीडिया पर खूब ट्रोल किया जा रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स के मुताबिक स्वरा सभी के लिए 'पनौती' साबित हुई हैं।

चुनावी नतीजे लगभग सामने आ चुके हैं अब सिर्फ़ औपचारिक घोषणा बाकी है। ऐसे में विपक्ष को समर्थन देने वाले लोग स्पष्ट रूप से कुछ भी कहने से बच रहे हैं। स्वरा भास्कर उन्हीं लोगों में शामिल हैं जिन्होंने भाजपा को सत्ता से हटाने से लिए विपक्षी नेताओ के लिए कैंपेनिंग की थी। लेकिन मोदी लहर के आगे उनका जलवा नहीं चल पाया। वो सभी कैंडिडेट्स रुझानों में भाजपा नेताओं से पिछड़ते नजर आए, जिनकी कैम्पेनिंग करने के लिए स्वरा ने नए साड़ी ब्लाउज़ लिए थे। रुझानों के आने के साथ स्वरा को सोशल मीडिया पर खूब ट्रोल किया जा रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स के मुताबिक स्वरा सभी के लिए ‘पनौती’ साबित हुई हैं।

दरअसल स्वरा भास्कर ने आप उम्मीदवार आतिशी मार्लेना, दिलीप सिंह, राघव चड्ढा को समर्थन दिया था लेकिन इनमें से कोई भी दिल्ली में अपनी जीत हासिल नहीं कर पाया। इसके अलावा उन्होंने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह, सीपीएम उम्मीदवार आमरा राम और सीपीआई प्रत्याशी कन्हैया कुमार का प्रचार करने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी थी। लेकिन नतीजे उनके पक्ष में नहीं आए।

स्वरा, कन्हैया कुमार के चुनावी प्रचार के लिए बेगुसराय तक गई थीं। उन्होंने वहाँ अपने भाषण के दौरान ‘जय हिंद, जय भीम, लाल सलाम’ का नारा तक लगाया था, लेकिन अफसोस उन्हें बेगुसराय में इसका कोई फायदा नहीं दिखा। रुझानों के मुताबिक भाजपा प्रत्याशी गिरिराज सिंह उन्हें 2 लाख वोटों से मात दे रहे हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

स्वरा भास्कर ने कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के लिए जम कर प्रचार किया था लेकिन साध्वी प्रज्ञा के आगे उनका जादू नहीं चल पाया। 1 लाख से ज्यादा वोटों का अंतर से साध्वी प्रज्ञा रुझानों में लीड कर रही हैं और लगातार आगे बढ़ी हुई हैं। उन्होंने आम आदमी पार्टी के राघव चड्ढा के लिए भी चुनावी रैली की थी लेकिन राघव को भी जबरदस्त तरीके से शिकस्त खानी पड़ी है। इसके साथ ही आतिशी भी गौतम गंभीर से हारती नजर आई और दिलीप सिंह अपनी जीत दर्ज नहीं करवा पाए।

बता दें कि स्वरा के ट्विटर पर ट्रोल होने के बाद उन्होंने एक ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने स्पष्ट किया है कि अगर चुनाव सिर्फ़ इसी बात पर था कि स्वरा ने कितनों को समर्थन दिया तो वो बता दें कि उन्होंने 6 प्रत्याशियों को समर्थन दिया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई (बार एन्ड बेच से साभार)
"पारदर्शिता से न्यायिक स्वतंत्रता कमज़ोर नहीं होती। न्यायिक स्वतंत्रता जवाबदेही के साथ ही चलती है। यह जनहित में है कि बातें बाहर आएँ।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,346फैंसलाइक करें
22,269फॉलोवर्सफॉलो करें
116,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: