Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजनाइट स्कोप से लेकर सैटेलाइट वाली डिवाइस तक, आतंकियों को आधुनिक उपकरण दे रहा...

नाइट स्कोप से लेकर सैटेलाइट वाली डिवाइस तक, आतंकियों को आधुनिक उपकरण दे रहा पाकिस्तान: देखिए रियासी के हमलावरों के पास से क्या-क्या मिला

रियासी में बस पर हुए आतंकी हमलों में शामिल रहे दो आतंकी कठुआ जिले की अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास हीरानगर इलाके में ढेर हुए हैं। मारा गया एक आतंकी जैश-ए-मोहम्मद का टॉप कमांडर रिहान था, तो दूसरा कथित तौर पर उसका पीएसओ था।

कश्मीर में सक्रिय आतंकियों को पाकिस्तान पूरी मदद कर रहा है। दशकों से भारत के खिलाफ कश्मीर में प्रॉक्सी वॉर लड़ रहा पाकिस्तान अब आतंकियों को दवाइयाँ और हथियार तो देता ही रहा था, अब हाईटेक कम्यूनिकेशन डिवाइस भी दे रहा है, ताकि वो भारतीय सुरक्षाबलों से सुरक्षित रहते हुए भारतीयों पर हमले कर सकें। हाल ही में रियासी में हुए आतंकी हमले में शामिल 2 आतंकियों को सुरक्षा बलों ने ढेर कर दिया है, जिनके पास से पाकिस्तानी डिवाइस बरामद हुई है। बरामद हुए सामानों से स्पष्ट है कि पाकिस्तान अब तक जिन आतंकियों की चोरी-छिपे मदद करता था, वो अब खुलकर सामने आ चुका है।

न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक, कश्मीर के घाटी वाले इलाकों की तुलना में हाल के दिनों में जम्मू वाले इलाकों में आतंकी हमलों में तेजी आई है। पाकिस्तान अब इधर आतंकियों को सक्रिय कर चुका है। इसी कड़ी में रियासी में बस पर हुए आतंकी हमलों में शामिल रहे दो आतंकी कठुआ जिले की अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास हीरानगर इलाके में ढेर हुए हैं। मारा गया एक आतंकी जैश-ए-मोहम्मद का टॉप कमांडर रिहान था, तो दूसरा कथित तौर पर उसका पीएसओ था।

दोनों आतंकियों के पास से बरामद सामान बता रहे हैं कि दोनों आतंकवादियों को पाकिस्तानी सेना से मदद मिल रही थी। मारे गए आतंकी रिहान के पास से नाइट स्कोप और फ्रीक्वेंसी सैटेलाइट कम्युनिकेशन डिवाइस वाली एम-फोर राइफल मिली है। इसके अलावा वह माइक्रो कंपनी का सैटेलाइट कम्युनिकेशन डिवाइस भी इस्तेमाल कर रहा था। माइक्रो कंपनी की डिवाइस पाकिस्तान की सेना, नौसेना और वायु सेना करती है। जो इस बात की पुष्टि करती हैं कि आतंकियों के पीछे पाकिस्तान का हाथ है।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में एक हफ्ते के अंदर रियासी, कठुआ और डोडा जिलों में आंतकी हमले हुए हैं। इन हमलों में कम से कम 11 लोगों की जान जा चुकी है, जिसमें एक सीआरपीएफ का जवान भी शामिल है। सुरक्षी बलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकी भी ढेर हुए हैं। इस हमले के बाद पाकिस्तान के रावलकोट में जैश-ए-मोहम्मद और हिज्बुल मुजाहिदीन के नेताओं की बैठक हुई थी। इसमें जैश कमांडर रजाक और हिजबुल का डिप्टी कमांडर खालिद शामिल हुआ था। बैठक में दिए गए भाषणों के दौरान भारत को कल (9 जून) की तरह और अधिक नुकसान पहुँचाने का आह्वान किया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -