Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतियोगी राज में माफिया डॉन बना रहें हैं चुनावों से दूरी

योगी राज में माफिया डॉन बना रहें हैं चुनावों से दूरी

"उम्मीदवारों को अब अपने चुनावी हलफ़नामे में आपराधिक मामलों की घोषणा करने की आवश्यकता होती है और यह सूचना कुछ ही समय में नेट पर वायरल हो जाती है। यह भी एक निवारक के रूप में काम कर रहा है।"

कभी उत्तर-प्रदेश में माफिया और गुंडों को एक तरह से खुली छूट थी। लेकिन अब हालात बदले हुए नज़र आ रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा माफिया और आपराधिक नेटवर्क को ध्वस्त करने के कारण, कई दशकों में पहली बार, कई कुख्यात गैंगस्टर उत्तर प्रदेश में चल रहे लोकसभा चुनाव में भाग लेने से कतरा रहे हैं।

योगी सरकार द्वारा अपराधियों को पकड़ने में कठोरता के अलावा, बागपत जेल में पिछले साल साथी कैदियों द्वारा माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की दिनदहाड़े हत्या कर दी गई थी। आज यूपी के कई राजनीतिक दलों ने आपराधिक नेटवर्क से पूरी तरह से दूर रहने का मन बना लिया है, वे उनसे सुरक्षित दूरी बनाए हुए हैं।

माफिया डॉन मुख्तार अंसारी, जो यूपी राज्य विधानसभा में विधायक भी हैं, चुनाव से दूर रहे हैं, हालाँकि, उनके भाई बसपा के टिकट पर गाजीपुर से चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं। अंसारी भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या के आरोप में 2005 से जेल में हैं। इसी तरह की स्थिति डॉन हरि शंकर तिवारी के साथ भी है। तिवारी ने भी अपनी चुनावी महत्वाकांक्षाओं को छोड़ दिया है, जबकि उनके बेटे बसपा के साथ सक्रिय हैं।

निषाद पार्टी से टिकट माँगने वाले एक और माफिया डॉन धनंजय सिंह को मंजूरी का इंतजार है। एक अन्य डॉन बृजेश सिंह जो अब वाराणसी जेल में है, अपने रिश्तेदारों को भी राजनीति में लाने के लिए कोई प्रयास नहीं कर रहे हैं। एक और माफ़िया डॉन अतीक अहमद के खिलाफ 42 आपराधिक मामले चल रहे हैं, वह अब जेल में हैं।

पूर्व पुलिस महानिदेशक विक्रम सिंह के अनुसार, जिन्होंने 1998 में उत्तर प्रदेश में स्पेशल टास्क फोर्स के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, युवा मतदाताओं की बढ़ती संख्या और सोशल मीडिया की बढ़ती पहुँच ने राज्य में राजनीति के अपराधीकरण की रोकथाम में काफी सहायक रहा है। उन्होंने यह भी कहा, “उम्मीदवारों को अब अपने चुनावी हलफ़नामे में आपराधिक मामलों की घोषणा करने की आवश्यकता है और यह सूचना कुछ ही समय में नेट पर वायरल हो जाती है। यह भी एक निवारक के रूप में काम कर रहा है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -