Friday, July 19, 2024
Homeसोशल ट्रेंडतिलक, कलश, भगवान की मूर्ति: आमिर खान की 'आरती' पर दोतरफा धुलाई, कट्टरपंथियों ने...

तिलक, कलश, भगवान की मूर्ति: आमिर खान की ‘आरती’ पर दोतरफा धुलाई, कट्टरपंथियों ने बताया काफिर; नेटिजन्स ने बताया बायकॉट से बचने का ड्रामा

पूजा के मौके पर आमिर ने सिर पर मराठी टोपी और माथे पर तिलक लगाया हुआ था। सोशल मीडिया पर आमिर और किरण की पूजा करते हुए फोटो वायरल होने के बाद मुस्लिम ट्रोल उन पर निशाना साध रहे हैं। उन्हें काफिर कहा जा रहा है।

बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान (Aamir Khan) ने हाल ही में हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार कलश पूजा की। आमिर खान प्रोडक्शन हाउस के नए ऑफिस में हुई इस पूजा के दौरान उनकी एक्स वाइफ किरण राव (Kiran Rao) भी मौजूद रहीं। आमिर और किरण ने पूजा के बाद एक साथ आरती की। ‘लाल सिंह चड्ढा’ के निर्देशक अद्वैत चंदन (Advait Chandan) ने गुरुवार (8 दिसंबर 2022) को अपने इंस्टाग्राम पर आमिर खान की पूजा और आरती करते हुए कुछ तस्वीरें साझा की हैं। इन तस्वीरों में पूजा में ​हिस्सा लेने वाले अन्य स्टाफ मेंबर्स भी दिखाई दे रहे हैं।

ऑफिस में पूजा के मौके पर आमिर एक स्वेटशर्ट और डेनिम के साथ गले में गमछा पहने हुए नजर आए। इसके साथ ही उन्होंने मराठी टोपी और माथे पर तिलक लगाया हुआ था, उनके सामने भगवान की तस्वीर थी जिसकी वो पूजा कर रहे थे।

सोशल मीडिया पर आमिर और किरण की पूजा करते हुए फोटो वायरल होने के बाद कुछ लोग जहाँ उनकी तारीफ कर रहे हैं, वहीं उससे ज्यादा उनके इस लुक पर सवाल उठा रहे हैं। कुछ का कहना है कि लगातार फिल्में बॉयकॉट होने के बाद पूजा-पाठ करके दिखाना केवल ड्रामा है। वहीं कुछ उनसे उनका असली मजहब पूछ रहे हैं।

(फोटो साभार: अद्वैत चंदन इंस्टाग्राम)

मुस्लिम यूजर्स उन्हें ट्रोल कर रहे हैं। उन्हें काफिर कह रहे हैं। पठान लिखता है, “अरे, कलश पूजा क्यों। सर आप बता क्यों नहीं देते अपना असली मजहब। क्या आप हिंदू हैं, तब क्या जरूरत है मुस्लिमों को आपको गलत सलत कमेंट करने की।”

(फोटो साभार: अद्वैत चंदन इंस्टाग्राम)

आतिक शेख ने इन तस्वीरों पर कमेंट किया है कि ये काफिर है।

(फोटो साभार: अद्वैत चंदन इंस्टाग्राम)

आमिर खान के पूजा करने से आक्रोशित मुस्लिमों को कुछ हिंदू यूजर्स ने करारा जवाब देते हुए लिखा, “अपनी फैमिली की तीन जनरेशन पीछे जाएगा तो तुम्हारे बड़े भी काफिर ही मिलेंगे। एक मुल्ले के कहने पर अपने से बड़ों का अपमान मत करो।” इसके बाद आतिक शेख आमिर खान का बचाव करने वालों को गालियाँ देता है।

(फोटो साभार: अद्वैत चंदन इंस्टाग्राम)

आमिर खान-किरण राव का तलाक

बता दें कि कुछ साल पहले आमिर खान ने बताया था कि उनकी पत्नी भारत में सुरक्षित महसूस नहीं करतीं और देश छोड़ने को बोलती हैं। उनके इस बयान के बाद लोग उन पर और उनकी पत्नी पर खासा नाराज हुए थे। लोगों ने सलाह भी दी थी कि अगर ऐसा है तो उन्हें देश छोड़ देना चाहिए, यहाँ काम नहीं ढूँढना चाहिए।

आमिर का यह बयान साल 2015 में आया था। इसके बाद समय-समय पर लोगों ने इसे आधार बनाकर उन्हें हिंदूविरोधी, भारत विरोधी बताया। उनकी फिल्मों का बहिष्कार भी हुआ। हालाँकि कुछ साल बाद खबर आई कि दोनों पति-पत्नी अलग हो रहे हैं।

किरण राव और आमिर खान ने पिछले वर्ष जुलाई में संयुक्त बयान जारी कर तलाक लेने की जानकारी साझा की थी। संयुक्त बयान में दोनों ने कहा था कि ये 15 वर्ष इतने अच्छे बीते कि हमने इस दौरान आजीवन साथ रहने वाले अनुभव एक-दूसरे के साथ साझा किया। उन्होंने कहा था, “हम साथ में खुश रहे, हँसे। हमारा रिश्ता विश्वास, प्यार और सम्मान के मामले में लगातार बढ़ता ही रहा। अब हमने निर्णय लिया है कि अब हम जीवन के नए अध्याय की शुरुआत करेंगे, लेकिन पति-पत्नी के रूप में नहीं, ये बेटे आज़ाद के अभिभावक के रूप में होगा, एक परिवार के रूप में होगा।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -