Saturday, July 20, 2024
Homeसोशल ट्रेंडकॉमेडियन भारती सिंह को दाढ़ी-मूँछ पर मजाक पड़ा भारी, हाथ जोड़ माफी भी न...

कॉमेडियन भारती सिंह को दाढ़ी-मूँछ पर मजाक पड़ा भारी, हाथ जोड़ माफी भी न आई काम: सिख समुदाय ने दर्ज कराया FIR

"मैं कॉमेडी करती हूँ लोगों को खुश करने के लिए न कि किसी का दिल दुखाने के लिए। अगर मेरी किसी बात से कोई हर्ट हुआ है तो माफ कर देना अपनी बहन समझ के।"

कॉमेडियन भारती सिंह का एक पुराना वीडियो वायरल है जिसमें उनका दाढ़ी-मूँछ का मजाक उड़ाना उनपर भारी पड़ गया है। इस वीडियो के जरिए सिखों की धार्मिक भावनाओं को आहत करने पर लोगों ने नाराजगी जाहिर की है। वहीं जब यह बात भारती तक पहुँची तो उन्होंने भी हाथ जोड़ते हुए माफी माँगी है।

वहीं भारती सिंह को दाढ़ी और मूँछ का मजाक उड़ाने के लिए सिख समुदाय के आक्रोश का भी सामना करना पड़ा है। हालाँकि, उन्होंने माफी माँग ली थी, लेकिन एक टेलीविजन कार्यक्रम में बातचीत के दौरान उनकी विवादास्पद टिप्पणी एसजीपीसी को पसंद नहीं आई, जिसकी वजह से अमृतसर के पुलिस आयुक्त के पास शिकायत दर्ज कराई है।

डीसीपी परमिंदर सिंह भंडाल ने बताया कि एसजीपीसी की शिकायत के आधार पर कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। वहीं शिअद की महिला विंग सहित कई मानवाधिकार और सिख संगठनों ने भी भारती के खिलाफ अमृतसर में विरोध प्रदर्शन किया। भारती सिंह के खिलाफ बैनर पकड़े हुए विरोध प्रदर्शन करते उन्होंने सिख नैतिकता और सिद्धांतों का मजाक उड़ाने के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 295-ए के तहत मामला दर्ज करने की माँग की।

बता दें कि वीडियो में भारती जैस्मिन से बोलती दिख रही हैं, दाढ़ी- क्यों नहीं चाहिए? दूध पियो, ऐसे दाढ़ी मुँह में डालो, सेवइयों का टेस्ट आता है। मेरी काफी फ्रेंड्स लोगों की शादी हुई जिनकी इतनी-इतनी दाढ़ी है। सारा दिन दाढ़ी में से जुएँ निकालती रहती हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, भारती सिंह इस क्लिप में दाढ़ी-मूँछ को लेकर मजाक करती दिख रही हैं। हालाँकि, यह वीडियो पुराना है और इसमें उनके साथ जैस्मिन भसीन भी हैं। वहीं लोग इसे सिख समुदाय से जोड़कर भारती को खरी-खोटी सुना रहे हैं। इसका जवाब भारती ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट करके दिया है। भारती का कहना है कि उन्होंने बहुत बार देखा पर इसमें कुछ गलत नहीं दिखा। वह एक जनरल बात कर रही थी किसी का मजाक नहीं उड़ाया।

भारती सिंह ने सोशल मीडिया पर पोस्ट करके लोगों से माफी माँगी है। भारती ने इंस्टाग्राम पर अपने वीडियो कैप्शन में लिखा है, “मैं कॉमेडी करती हूँ लोगों को खुश करने के लिए न कि किसी का दिल दुखाने के लिए। अगर मेरी किसी बात से कोई हर्ट हुआ है तो माफ कर देना अपनी बहन समझ के।”

सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर ट्रोल किया जाने के बाद भारती सिंह माफ़ी माँगने के लिए सामने आईं। उन्होंने कहा, “नमस्कार सतश्री अकाल। एक-दो दिन से एक वीडियो बहुत वायरल हो रहा है। मुझे भेजा भी गया है, मुझे मैसेज भी किया है कि आपने दाढ़ी-मूँछ के बारे में मजाक उड़ाया है। मैं 2 दिन से बार-बार वीडियो देख रही हूँ। आप से भी रिक्वेस्ट करुँगी कि आप लोग लोग भी देखो। और मैंने कहीं भी किसी धरम या कास्ट के बारे में नहीं बोला कि इस धरम के लोग दाढ़ी रखते हैं और ये प्रॉब्लम्स होती हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “आप वीडियो देख लो, मैंने किसी पंजाबी के बारे में नहीं बोला कि पंजाबी लोग दाढ़ी रखते हैं या दाढ़ी-मूँछ से ये प्रॉब्लम होती है। मैं सिर्फ नॉर्मल बात कर रही थी अपनी दोस्त से। दाढ़ी तो आजकल सब ही रखते हैं। मेरी अगर इस बात से किसी धरम-जात के लोग हर्ट हुए हैं तो मैं माफी माँगती हूँ। मैं खुद पंजाबी हूँ, अमृतसर में पैदा हुई तो मैं पंजाब का मान हमेशा रखूँगी। मुझे प्राउड है कि मैं पंजाबी हूँ।”

गौरतलब है कि भारती वर्तमान में अपने पति हर्ष लिम्बाचिया के साथ ‘द खतरा खतरा शो’ को-होस्ट कर रही हैं। दंपति ने इस साल अप्रैल महीने में अपने पहले बच्चे के रूप में एक बेटे को जन्म दिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -