Sunday, July 25, 2021
Homeसोशल ट्रेंडकॉन्ग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने ट्विटर पर जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल किया, यूजर्स ने...

कॉन्ग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने ट्विटर पर जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल किया, यूजर्स ने घेरा

शेरगिल ने एक तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा, "हमारे पंजाब में टॉप तीन ड्राइविंग नियम!!" इसमें उन्होंने क@** शब्द का इस्तेमाल किया जो अत्यधिक अपमानजनक है। यह शब्द अक्सर अनुसूचित जाति के लोगों के लिए गाली के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

कॉन्ग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने रविवार को एक ट्वीट में जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल किया। इसकी वजह से उन्हें सोशल मीडिया में कड़ी प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ा और आखिर में उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया।

Jaiveer Shergill’s tweet

शेरगिल ने एक तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा, “हमारे पंजाब में टॉप तीन ड्राइविंग नियम!!” इसमें उन्होंने क@** शब्द का इस्तेमाल किया जो अत्यधिक अपमानजनक है। यह शब्द अक्सर अनुसूचित जाति के लोगों के लिए गाली के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

इसके तुरंत बाद सोशल मीडिया यूज़र्स ने बवाल खड़ा कर दिया। इस तरह के मजाक को साझा करने की वजह पूछी। एक यूजर ने कहा कि कॉन्ग्रेस नेताओं से कुछ भी अच्छा करने की उम्मीद नहीं की जा सकती।

वहीं एक अन्य यूजर ने उन्हें सर्वोच्च न्यायालय के वकील और राष्ट्रीय राजनीतिक पार्टी के प्रवक्ता के रूप में बिना विचार किए और बिना सोचे जातिवादी मजाक को साझा करने के लिए जमकर लताड़ा। शेरगिल ने आलोचनाओं के बाद ट्वीट तो डिलीट कर दिया, लेकिन उन्होंने जातिसूचक गाली का इस्तेमाल करने के लिए अभी तक कोई माफी नहीं माँगी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान में भगवा ध्वज फाड़ने वाले कॉन्ग्रेस MLA को लोगों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा: वायरल वीडियो का FactChek

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें दिख रहा है कि लाठी-डंडा लिए भीड़ एक शख्स को दौड़ा-दौड़ाकर पीट रही है।

दैनिक भास्कर के ₹2,200 करोड़ के फर्जी लेनदेन की जाँच कर रहा है IT विभाग: 700 करोड़ की आय पर टैक्स चोरी का खुलासा

मीडिया समूह की तलाशी में छह वर्षों में ₹700 करोड़ की आय पर अवैतनिक कर, शेयर बाजार के नियमों का उल्लंघन और लिस्टेड कंपनियों से लाभ की हेराफेरी के आयकर विभाग को सबूत मिले हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,066FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe