Friday, July 19, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'भारत में मुस्लिम PM' पर (कु)तर्क के बीच 'बेगम साहिबा' बनीं आरफा खानुम शेरवानी,...

‘भारत में मुस्लिम PM’ पर (कु)तर्क के बीच ‘बेगम साहिबा’ बनीं आरफा खानुम शेरवानी, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व ज​ज ने लगाई मिर्ची

काटजू ने द वायर की (कु)तर्की स्टोरी पर लिखा, "बेगम साहिबा! आपको हमारा पहला मुस्लिम पीएम बनाया जाना चाहिए... कितना गहरा विचार है बेगम आरफा! 3 चीयर्स टू यू।"

ब्रिटेन के पहले अश्वेत और भारतीय मूल के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक को लेकर दुनिया भर में चर्चा हो रही। इसी बीच वामपंथी पोर्टल द वायर (The Wire) ने भी उन पर एक स्टोरी की। स्टोरी ऐसी जहाँ ऋषि सुनक पर चर्चा शुरू तो जरूर हुई लेकिन खत्म हुई भारत में मुस्लिम प्रधानमंत्री बनने पर। इसी स्टोरी पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व ज​ज मार्कंडेय काटजू ने कॉमेंट कर मजे लिए।

वामपंथी प्रोपगेंडा पोर्टल द वायर की कथित पत्रकार आरफा खानुम शेरवानी (Arfa Khanum Sherwani) ने इस स्टोरी में अपनी ओछी मानसिकता का परिचय देते हुए बेवजह भाजपा पर निशाना साधा। अपने शो में बुलाए गए गेस्ट से उन्होंने सवाल किया, “जब ब्रिटेन में एक अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाले ऋषि सुनक को प्रधानमंत्री चुना जा सकता है, तो क्या भारत में भी एक मुस्लिम प्रधानमंत्री बन सकता है?”

इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व ज​ज मार्कंडेय काटजू ने प्रतिक्रिया व्यक्त की। आरफा खानुम शेरवानी के सवाल पर मजे लेते हुए काटजू ने द वायर की (कु)तर्की स्टोरी पर लिखा, “बेगम साहिबा! आपको हमारा पहला मुस्लिम पीएम बनाया जाना चाहिए।” वह फिर लिखते हैं, “कितना गहरा विचार है बेगम आरफा! 3 चीयर्स टू यू।”

फोटो साभार: काटजू का ट्वीट

काटजू के ट्वीट से बौखलाई आरफा ने उनके पोस्ट का स्क्रीनशॉट अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर करते हुए लिखा, “यह कोई अज्ञात राइट विंग ट्रोल नहीं है, बल्कि सुप्रीम कोर्ट का एक पूर्व जज है जो एक महिला पत्रकार को ‘बेगम’ कहकर बुला रहा है, क्योंकि वह मुस्लिम है। यह भारत में काम करने वाले मुस्लिमों का अपमान है।”

काटजू इसके बाद भी नहीं रुकते हैं। वह आरफा के ट्वीट करने के बाद मजाकिया लहजे में कहते हैं , “ओ आरफा, क्या कोई आपके साथ मजाक भी नहीं कर सकता? मैं आपका बहुत सम्मान करता हूँ।”

फोटो साभार: काटजू का ट्वीट

इसके बाद आरफा करुणा नंदी नाम की वकील का पोस्ट रिट्वीट करती हैं, जिसमें उन्होंने काटजू के बारे में लिखा, “बेहद घटिया स्तर और सम्मान की भयानक कमी।”

फोटो साभार: अरफा का ट्विटर

काटजू ने बिना रुके एक और ट्वीट किया। इसमें वह फिर से मजाक वाली बात दोहराते हैं हालाँकि माफी माँगते हुए। उन्होंने लिखा, “मैं सिर्फ मजाक कर रहा था, लेकिन अगर आपको यह अपराध लगा तो मैं इसके लिए माफी माँगता हूँ। मैं आपका बहुत सम्मान करता हूँ।”

फोटो साभार: काटजू का ट्वीट

बता दें कि सोशल मीडिया पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज के ट्वीट पर काफी लोग मजे ले रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

5 साल में 123% तक बढ़ गए मुस्लिम वोटर, फैक्ट फाइडिंग रिपोर्ट से सामने आई झारखंड की 10 सीटों की जमीनी हकीकत: बाबूलाल का...

झारखंड की 10 विधानसभा सीटों के कई मुस्लिम बहुल बूथ पर 100% से अधिक वोटर बढ़ गए हैं। यह खुलासा भाजपा की एक रिपोर्ट में हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -