Thursday, September 23, 2021
Homeसोशल ट्रेंडइधर राम मंदिर का भूमिपूजन, उधर ‘Burnol’ के सर्च में भारी उछाल: नॉर्थ-ईस्ट ने...

इधर राम मंदिर का भूमिपूजन, उधर ‘Burnol’ के सर्च में भारी उछाल: नॉर्थ-ईस्ट ने दिखाई सबसे ज्यादा दिलचस्पी

पिछले 30 दिनों में बर्नोल के लिए Google सर्च दिलचस्प ट्रेंड दिखाती है। Google से पता चलता है कि मेघालय में लोग "बर्नोल" शब्द की खोज में सबसे अधिक रुचि रखते थे, जो राम मंदिर भूमि पूजन के दौरान 5 अगस्त को भी चरम पर था।

अयोध्या में 5 अगस्त 2020 को राम मंदिर का भूमिपूजन हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसमें हिस्सा लिया और राम मंदिर की आधारशिला रखी।

भूमिपूजन से पूरा देश आह्लादित और भावुक था। पर कुछ ‘लिबरल’ यह कह कर विलाप करने में व्यस्त थे कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण भारत की धर्मनिरपेक्ष पहचान के लिए घातक है।

लिबरलों के लिए यह सच स्वीकार करना काफी मुश्किल था कि भगवान राम आखिरकार अपनी जन्मभूमि पर विराजमान होंगे और वहॉं एक भव्य राम मंदिर बनाया जाएगा। लिबरलों के दुखी होने का एक कारण यह भी था कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण सुप्रीम कोर्ट की अनुमति से हो रहा है।

इस्लामिक कट्टरपंथियों और लिबरलों पर कटाक्ष करते हुए कई हिन्दुओं ने उन्हें सुझाव दिया कि राम मंदिर निर्माण से अपने ‘जले हुए जख्मों’ पर वे ‘बर्नोल‘ (Burnol) लगा लें।

दिलचस्प बात यह है कि सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर, हिंदुओं और भगवान राम के भक्तों ने लिबरल और इस्लामवादियों को डिजिटल बर्नोल वितरित किया। वहीं कई लोग Google पर बर्नोल सर्च करने में व्यस्त थे। इसका नतीजा यह हुआ कि राम मंदिर भूमि पूजन के दौरान 5 अगस्त को ‘बर्नोल’ के लिए सर्च रिजल्ट कई गुना बढ़ गए।

यदि कोई पिछले 90 दिनों के ग्राफ को देखता है, तो यह स्पष्ट है कि बर्नोल का सर्च रिजल्ट 5 अगस्त को काफी हद तक बढ़ गया था।

Google search for 'Burnol' in the past 90 days
Google search for ‘Burnol’ in the past 90 days

बता दें कि पिछले 90 दिनों में सबसे ज्यादा ‘बर्नोल’ त्रिपुरा में सर्च किया गया। इसके बाद उत्तराखंड, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश और झारखंड में सर्च किए गए।

Google search for ‘Burnol’ in the past 90 days

इसके अलावा, ज्यादातर लोगों ने पिछले 90 दिनों में ‘बर्नोल इमेज’ सर्च की और 5 अगस्त को यह आँकड़ा सबसे अधिक था।

पिछले 30 दिनों में ‘बर्नोल’ का सर्च

पिछले 30 दिनों में बर्नोल के लिए Google सर्च एक दिलचस्प ट्रेंड दिखाती है। Google से पता चलता है कि मेघालय में लोग “बर्नोल” शब्द की खोज में सबसे अधिक रुचि रखते थे, जो राम मंदिर भूमि पूजन के दौरान 5 अगस्त को भी चरम पर था।

Google search for 'Burnol' in the past 30 days
Google search for ‘Burnol’ in the past 30 days

मेघालय के बाद, पिछले 30 दिनों में ‘बर्नोल’ के लिए गूगल सर्च में सबसे ऊपर आने वाले राज्यों में झारखंड, गोवा, उत्तराखंड और हरियाणा है।

दिलचस्प बात यह है कि सबसे ज्यादा संबंधित प्रश्न ‘बर्नोल मीम्स’ और ‘बर्नोल क्या है’ के लिए थे। 5 अगस्त को ‘बर्नोल’ क्यों वितरित किया जा रहा था, यह देखते हुए Google ने बर्नोल सर्च से संबंधित टॉपिक को ही ‘related topics’ बना दिया।

Google search for 'Burnol' in the past 30 days
Google search for ‘Burnol’ in the past 30 days

उस दिन Google के ‘related topics’ लिबरल, इंटरनेट मीम, भगवान राम और राम जन्मभूमि से संबंधित थे।

पिछले 7 दिनों में ‘बर्नोल’ का सर्च

पिछले 7 दिनों में गूगल सर्च पर काफी दिलचस्प परिणाम देखे गए। हालाँकि 5 अगस्त को 1:30 बजे दोपहर में बर्नोल का सर्च करने वाले शीर्ष राज्य झारखंड, असम, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और गोवा थे।

Google search for 'Burnol' in the past 7 days
Google search for ‘Burnol’ in the past 7 days

हालाँकि, सबसे दिलचस्प बात यह है कि Google द्वारा विश्लेषण में  ‘related queries’ सेक्शन में कुछ दिलचस्प परिणाम सामने आए। इसके मुताबिक पिछले सप्ताह में, ‘बर्नोल’ के लिए सबसे लोकप्रिय संबंधित प्रश्न ‘आज तक बर्नोल’, ‘आज तक बर्नोल विज्ञापन’ आदि थे।

Google search for 'Burnol' in the past 7 days
Google search for ‘Burnol’ in the past 7 days

राम मंदिर भूमि पूजन के दौरान Aaj Tank Burnol विज्ञापन

दरअसल 5 अगस्त को भूमि पूजन के दौरान लाइव दिखाते समय की एक तस्वीर वायरल हो रही है। इस तस्वीर में पीएम मोदी पूजन कर रहे होते हैं और उसी समय स्क्रीन पर बर्नोल का विज्ञापन दिखाया जाता है। यह फोटो नेटिज़न्स के लिए मनोरंजन का एक स्रोत बन गई, क्योंकि पूजा से ‘लिबरल और इस्लामी जल रहे थे’, तो उनके लिए इस विज्ञापन को दिखाना उपयुक्त माना गया।

हालाँकि इंडिया टुडे ने बाद में बताया कि ये तस्वीर एडिट की हुई थी। इंडिया टुडे ने ट्वीट कर कहा कि चैनल ने राम मंदिर के भूमि पूजन के दौरान बर्नोल का कोई विज्ञापन नहीं चलाया था। इसलिए, वायरल होने वाली यह फोटो नकली थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात में ‘लैंड जिहाद’ ऐसे: हिंदू को पाटर्नर बनाओ, अशांत क्षेत्र में डील करो, फिर पाटर्नर को बाहर करो

गुजरात में अशांत क्षेत्र अधिनियम के दायरे में आने वाले इलाकों में संपत्ति की खरीद और निर्माण की अनुमति लेने के लिए कई मामलों में गड़बड़ी सामने आई है।

‘नागवार हुकूमत… मदीना को बना देगी आवारगी का अड्डा’: सऊदी अरब को ‘मदीना में सिनेमा’ पर भारत-पाक के मुस्लिम भेज रहे लानत

कुछ लोग सऊदी हुकूमत के इस फैसले में इजरायल को घुसा रहे हैं। उनका कहना है कि मदीना पूरे उम्माह का है न कि इजरायल के नौकरों को।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,920FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe