Sunday, July 21, 2024
Homeव्हाट दी फ*चीनी में फिनायल, बाथरूम में फिसलन... माँ मर जाए इसके लिए 13 साल की...

चीनी में फिनायल, बाथरूम में फिसलन… माँ मर जाए इसके लिए 13 साल की बेटी करती थी कई जतन, वजह जान चौंक जाएँगे

45 वर्षीया महिला को अक्सर किचन में रखी चीनी से अजीब सी बदबू आती थी। वे जब भी बाथरूम जाती थीं तो उन्हें वहाँ फिसलने वाला कोई पदार्थ बिखरा मिलता था। जब महिला को कुछ भी समझ में नहीं आया तो उन्होंने इसकी निगरानी करने का फैसला किया और पाया कि यह सब कुछ उनकी ही बेटी कर रही है।

गुजरात के अहमदाबाद से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। पता चला है कि 13 साल की एक लड़की अपनी ही माँ को मार डालने की साजिश रच रही थी। इसके लिए कभी वह चीनी में फिनायल मिला देती तो कभी बाथरूम की फर्श पर फिसलन वाली चाजें बिखेर देती। वजह, माँ ने बेटी से मोबाइल छीन ली थी। फिलहाल बच्ची की काउंसलिंग करवाई जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह मामला पश्चिमी अहमदाबाद का है। 45 वर्षीया महिला को अक्सर किचन में रखी चीनी से अजीब सी बदबू आती थी। कई बार उन्होंने चीनी को फेंक दिया। इसके अलावा वे जब भी बाथरूम जाती थीं तो उन्हें वहाँ फिसलने वाला कोई पदार्थ बिखरा मिलता था। जब महिला को कुछ भी समझ में नहीं आया तो उन्होंने इसकी निगरानी करने का फैसला किया। आखिरकार इन सभी हैरान कर देने वाले कामों के पीछे महिला की 13 साल की बेटी निकली। वह चीनी में बाथरूम साफ करने वाला फिनायल मिलाती थी।

इसी के साथ महिला ने यह भी पाया कि उनकी नाबालिग बेटी यह भी चाहती थी कि वो बाथरूम में फिसल कर गिर जाएँ। अपनी ही बेटी के इस तरह के व्यवहार का सच जानने के लिए महिला ने अभ्यम 181 की महिला हेल्पलाइन काउंसलर की सलाह ली। बच्ची की काउंसलिंग के दौरान यह बात सामने आई कि लड़की फोन की एडिक्ट (लती) हो चुकी थी। दिन भर सोशल मीडिया हैंडलों को चलाना, रील देखना और दोस्तों से ऑनलाइन चैटिंग उसकी दिनचर्या बन चुकी थी। वह किसी से मिलना भी नहीं चाहती थी।

एक दिन उसकी माँ ने नाराज होकर उससे मोबाइल छीन लिया। लड़की ने अपना फोन वापस लेने की बहुत जिद की। इस दौरान वो झगड़ने भी लगी जिससे नाराज हो माँ ने उसकी पिटाई कर दी। साथ ही कभी भी मोबाइल न देने की चेतावनी भी दी। इस बात से लड़की काफी नाराज हो गई और उसके बाद अपनी माँ को मारने या उन्हें तकलीफ देने की फिराक में लगी रहती थी। लड़की ने काउंसलर को यह भी बताया कि वह चाहती थी कि उनकी माँ फिनायल मिली चीनी खा कर मर जाएँ या बाथरूम में फिसल कर चोटिल हो जाएँ।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -