Sunday, July 21, 2024
Homeव्हाट दी फ*प्यार में महिला से मर्द बनी टीचर, छात्रा से की शादी: राजस्थान के स्कूल...

प्यार में महिला से मर्द बनी टीचर, छात्रा से की शादी: राजस्थान के स्कूल में परवान चढ़ी चाहत, लिंग बदलवाने को करवाई सर्जरी

कल्पना का कहना है कि वह इस शादी से खुश है। यदि मीरा सर्जरी करवाकर आरव न बना होता तो भी वह उससे ही शादी करती। कल्पना के अनुसार शुरू में उसे लगता था कि लोग इस शादी को लेकर क्या कहेंगे। लेकिन आरव से हौसला मिलने के बाद उसने इसके बारे में सोचना छोड़ दिया।

राजस्थान के भरतपुर में 4 नवंबर 2022 को हुई एक शादी चर्चा का विषय बन गई है। यह शादी 30 साल के आरव और 21 साल की कल्पना की है। आप यह जानकर हैरत में रह जाएँगे कि कुछ समय पहले तक आरव का नाम मीरा होता था और वह भी महिला ही थी। जेंडर चेंज करवाकर वह आरव बनी और फिर कल्पना संग फेरे लिए। इस दौरान उसे तीन बार सर्जरी से गुजरना पड़ा।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार इस कहानी की शुरुआत 2016 में हुई। कल्पना 10वीं में पढ़ने के लिए नगला के राजकीय माध्यमिक स्कूल आई। यहीं 2013 में मीरा की पीटी टीचर के तौर पर नौकरी लगी थी। कल्पना कबड्डी की खिलाड़ी थी तो दोनों के बीच संपर्क हुआ।

कबड्डी टूर्नामेंट में भाग लेने के लिए कई बार मीरा के साथ ही कल्पना जाया करती थी। इसी दौरान दोनों की नजदीकियाँ बढ़ी। दो साल बाद दोस्ती प्यार में बदला। 2018 में मीरा ने कल्पना को प्रपोज किया। फिर शादी के लिए मीरा ने लिंग बदलवाने का फैसला किया।

सर्जरी के बाद 2020 में मीरा का रूप पूरी तरह बदल गया और वह आरव हो गई। दरअसल, मीरा पैदा तो लड़की के रूप में हुई थी, मगर उसके हाव भाव लड़कों जैसे थे। चिकित्सकों की राय में इसे डिस्फोरिया कहा जाता है।

चार नवंबर को कल्पना और आरव ने अपने-अपने परिवारों की सहमति से शादी कर ली। आरव ने बताया कि वह फीमेल कोटे से सरकारी स्कूल में शिक्षक बना था। स्कूल में पढ़ने वाली कल्पना अच्छी खिलाड़ी थी। उन्होंने बताया कि जेंडर चेंज करवाने की प्रक्रिया में कल्पना ने पूरा साथ दिया। आरव के अनुसार सर्जरी से पहले शादी को लेकर उन्होंने घरवालों से भी बात की थी। उन्होंने इसके लिए सहमति दी थी।

वहीं कल्पना का कहना है कि वह इस शादी से खुश है। यदि मीरा सर्जरी करवाकर आरव न बना होता तो भी वह उससे ही शादी करती। कल्पना के अनुसार शुरू में उसे लगता था कि लोग इस शादी को लेकर क्या कहेंगे। लेकिन आरव से हौसला मिलने के बाद उसने इसके बारे में सोचना छोड़ दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काशी विश्वनाथ मंदिर और महाकालेश्वर मंदिर परिसर के दुकानदारों को लगाना होगा नेम प्लेट: बिहार के बोधगया की दुकानों में खुद ही लगाया बोर्ड,...

उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश के महाकालेश्वर मंदिर परिसर में स्थित दुकानदारों को अपना नेम प्लेट लगाने का आदेश दिया गया है।

‘मध्य प्रदेश और बिहार में भी काँवर यात्रा मार्ग में ढाबों-ठेलों पर लिखा हो मालिक का नाम’: पड़ोसी राज्यों में CM योगी के फैसलों...

रमेश मेंदोला ने कहा कि नाम बताने में दुकानदारों को शर्म नहीं बल्कि गर्व होना चाहिए। हरिभूषण ठाकुर बचौल बोले - विवादों से छुटकारा मिलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -