तीखी मिर्ची

कटाक्ष… क्योंकि हर बात सीधी तरह से समझ में नहीं आती

अरविंद केजरीवाल

कॉन्ग्रेस के 70 सालों का ‘क्रेडिट’ BJP को! केजरीवाल का मेमरी लॉस!

कोलकाता की 'ममता'मयी महफ़िल। बड़े-बड़े धुरंधर। जमावड़ा था एक गिरोह का, 'चौकीदार' को हटाना ही जिनका परम लक्ष्य। केजरीजी को आया जोश और महफ़िल को लूटने की जल्दी में...

शाह फैसल! भाई साब किस लाइन में आ गए आप?

सूत्र तो यह भी बता रहे हैं कि शाह फ़ैसल ने यह निर्णय ट्विटर पर चल रहे #10YearsChallenge की वजह से लिया है। 10 साल पहले जो हालात राजनीति में थे, वो उनको ही ‘रीस्टोर’ करने के मकसद से शायद राजनीति में उतरना चाह रहे हों।
कपिल सिब्बल

देशद्रोह क़ानून: थूक कर चाटने का नाम है कपिल सिब्बल

कपिल सिब्बल और अन्य कॉन्ग्रेस नेताओं की नज़र में सोनिया गाँधी ही उनकी देश है और सोनिया के ख़िलाफ़ कुछ लिखना राष्ट्रद्रोह। सिब्बल ने एक दशक पहले जो थूका था, अब उसे चाट लिया है।
अरविंद केजरीवाल

थप्पड़ से ही डर लगता है साहेब, प्यार तो राशन कार्ड से भी मिल जाता है!

आधिकारिक सूत्रों के हवाले से मैं ये कह सकता हूँ कि जब-जब केजरीवाल जी ने पार्टी की खातिर अपने चेहरे को आगे किया है, पार्टी के खाते में पैसे बढ़े हैं। आप एक थप्पड़ मारिए, लोग 85 लाख रुपया दान कर देते हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

2019 में भाजपा को वोट न देने के पक्ष में 5 भयंकर (और ठोस) तर्क – (नंबर फ़ोर विल ब्लो योर माइंड)

अगर अब भी आप सहमत नहीं होंगे कि मोदी जी को हटाना चाहिए तो आप ज़रूर घनघोर संघी मानसिकता से पीड़ित हैं। JNU जाकर इलाज कराइए। और जो सहमत हो गए उनको सलाम।
अरविंद केजरीवाल

गौ-भक्त केजरीवाल, क्या से क्या हो गए देखते देखते

ये गौभक्ति का निर्णय शायद केजरीवाल जी ने ट्विटर पर लोगों से जनादेश लेकर ही किया है
शाह फैस़ल

फैजल! कब खून खौलेगा रे तेरा?

फैजल! सेना और कश्मीर पुलिस के जवानों की मौत के वक्त तू गांज़ा मार के कहां पड़ा था रे फैजल? कब खून खौलेगा रे तेरा?
मोदी के बॉलीवुड की असली तस्वीर

बॉलीवुड के रामभक्त मिले मोदी से, सेकुलर मोदी ने सर पर ‘जय श्री राम’ बाँधने से किया इनकार

वहीं मीडिया के दूसरे हिस्से ने इस तस्वीर को देखकर माननीय मोदी जी को एक ‘कम्प्लीट स्टेट्समैन’ कहते हुए कहा कि मोदी ने लगातार दिल लूटते हुए पीएमओ के ‘हार्ट बैंक’ में कई लाख दिल और जमा करा लिए हैं, जिसका ट्रान्सप्लांट हेतु इस्तेमाल किया जाएगा
राहुल गाँधी का महिला-विरोधी बयान

विनम्र होकर महिलाओं से माफ़ी माँगिए राहुल गाँधी

राहुल गाँधी का जयपुर में दिया गया बयान महिला-विरोधी है। उनकी ओछी मानसिकता का परिचायक है। और ट्विटर पर उस बयान के बचाव में एक और सेक्सिस्ट बयान देना उनकी छोटी सोच को दर्शाता है।
शाहरुख़, सलमान और आमिर

2018 में बॉक्स ऑफ़िस पर देखने को मिली घोर असहिष्णुता, तीनों ख़ान पस्त

तीनो ख़ानों के लिए बॉक्स ऑफिस पर साल 2018 काफी ख़राब रहा। रेस 3, जीरो और ठग्स सहित पिछले साल की प्रमुख फ़िल्मों का बॉक्स ऑफिस विश्लेषण।
नसीरुद्दीन शाह

चोखा धंधा है अभिव्यक्ति की आज़ादी का छिन जाना! गुनाह है ये!

डर तो इस बात से भी लगता है कि हिन्दू-मुस्लिम दंगे/झगड़े मे 'समुदाय विशेष' की जगह 'मुसलमान समुदाय' लिखने पर मुझे साम्प्रदायिक कह दिया जाएगा। लेकिन क्या करें साहब, मन मारकर जी रहे हैं, क्योंकि यहाँ तो हिन्दू नाम होना ही साम्प्रदायिक हो जाने की निशानी है।
संसद में राहुल गाँधी

सुनो पप्पू बाबू, संसद तुम्हारे बाप, दादी या परनाना की नहीं

घोटालों को नॉर्मलाइज़ करनेवाली पार्टी आजकल विथड्रावल सिम्पटम से जूझ रही है क्योंकि 'जो घोटाले करते नहीं थे, उनसे घोटाले 'हो जाते' थे,' उनका घोटालों से दूर होना कष्टदायक तो है ही।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

40,759फैंसलाइक करें
7,817फॉलोवर्सफॉलो करें
63,313सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें