Saturday, July 31, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकफ़ैक्ट चैक: प्रियंका गाँधी की रैली का भीड़ कनेक्शन फ़र्ज़ी, कॉन्ग्रेस को डिलीट करना...

फ़ैक्ट चैक: प्रियंका गाँधी की रैली का भीड़ कनेक्शन फ़र्ज़ी, कॉन्ग्रेस को डिलीट करना पड़ा ट्वीट

जब से कॉन्ग्रेस पार्टी में जमानत पर चल रहे रॉबर्ट वाड्रा की पत्नी प्रियंका गाँधी वाड्रा का पदार्पण हुआ है, मीडिया और कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता लगातार उन्हें इंदिरा गाँधी से लेकर दुर्गा-अवतार साबित करने की जद्दोजहद में जुटे हुए हैं।

अपने राजनीतिक सफ़र की शुरुआत करते हुए कॉंग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी वाड्रा सोमवार को अपने भाई राहुल गाँधी के साथ लखनऊ पहुँची। मीडिया और कॉन्ग्रेस में जमानत पर चल रहे रॉबर्ट वाड्रा की पत्नी प्रियंका गाँधी की इस रैली को लेकर विशेष उत्साह देखा गया।

इसी बीच कॉन्ग्रेस की उत्साहित पार्टी प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने ट्विटर पर लखनऊ के आज के रोड शो की तस्वीरों को ट्वीट किया, जिसके कैप्शन में लिखा था, “इसे कहते हैं स्वागत, लखनऊ!” लेकिन इसके बाद उन्होंने अपने इस ट्वीट को डिलीट कर दिया।

इंदिरा गाँधी की तरह दिखने वाली प्रियंका गाँधी वाड्रा की रैली में ‘जनसैलाब’ दिखाने का भरपूर प्रयास करते हुए प्रियंका चतुर्वेदी के ट्वीट का स्क्रीनशॉट

‘अपार जनसैलाब’ दिखाने के लिए जिस तस्वीर का सहारा प्रियंका चतुर्वेदी ने लिया था, वो असल में लखनऊ की आज की रैली की नहीं बल्कि गजवेल, तेलंगाना राज्य की थी।

शेयर करने के बाद डिलीट कर दी गई यह तस्वीर असल में प्रियंका गाँधी की रैली की नहीं, बल्कि तेलंगाना की थी

यह तस्वीर दिसंबर 2018 की थी, जिसे @Kkdtalkies नाम से चल रहे ट्वीटर हैंडल ने सोशल मीडिया पर डाला था।

सोशल मीडिया पर कॉन्ग्रेस पार्टी प्रवक्ता के प्रियंका गाँधी वाड्रा की इस रैली में ‘अपार जनसैलाब’ जुटाने की इस नादान कोशिश की सच्चाई को लोगों ने पहचान लिया था।

जब से कॉन्ग्रेस पार्टी में जमानत पर चल रहे रॉबर्ट वाड्रा की पत्नी प्रियंका गाँधी वाड्रा का पदार्पण हुआ है, मीडिया और कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता लगातार उन्हें इंदिरा गाँधी से लेकर दुर्गा-अवतार साबित करने की जद्दोजहद में जुटे हुए हैं। इसके लिए आज उन्होंने साबित भी कर दिया कि वो प्रियंका गाँधी की भक्ति की किसी भी सीमा को लाँघने के लिए तैयार हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe