Friday, July 10, 2020
Home फ़ैक्ट चेक मीडिया फ़ैक्ट चेक बिग BC के इक़बाल अहमद, पत्रकार की तरह लिखो, मुसलमान मत बनो, चीजें बेहतर...

बिग BC के इक़बाल अहमद, पत्रकार की तरह लिखो, मुसलमान मत बनो, चीजें बेहतर दिखेंगी

और अंत में मीडिया गिरोह का साथ किसने दिया? जावेद अख्तर ने। वो याद दिलाते हैं, बेकार सा तर्क देते हैं कि फैज तो 'एंटि-पाकिस्तान' थे और 'जिया-उल-हक के खिलाफ' थे। गिरोह के साथ आना जावेद साब की मजबूरी है, दुकान चलानी है।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

नागरिकता संशोधन बिल संसद के दोनों सदनों में पास होता है। फिर यह नागरिकता संशोधन कानून बनता है। कानून के खिलाफ कुछ लोग, कुछ नेता (जो संसद में विरोध नहीं कर पाए, सड़कों पर कर रहे हैं) सड़कों पर उतरते हैं, विरोध के नाम पर दंगा करते हैं। दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया में आगजनी की जाती है, सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुँचाया जाता है। बवाल इतना बढ़ जाता है कि पुलिस को यूनिवर्सिटी में घुसना पड़ता है, दंगाई हो चुके छात्रों पर लाठियाँ बरसाई जाती हैं।

जामिया मिलिया इस्लामिया चूँकि छात्रों की जगह है, इसलिए उन पर पड़ी लाठियों से देश के बाकी विश्वविद्यालयों के छात्र (सभी नहीं, सिर्फ वामपंथी और एंटी-BJP) खुद को जोड़ कर देखने लगे। उनके अंदर भी CAA विरोध के नाम पर मोदी-विरोध, हिंदू-विरोध का स्वर उबाल मारने लगा। इसी उबाल में IIT कानपुर के कुछ गिने-चुने छात्रों ने 17 दिसंबर को एक प्रदर्शन का आयोजन किया। आयोजन में फैज अहमद फैज की एक कविता (लाज़िम है कि हम भी देखेंगे… सब बुत उठवाए जाएँगे… सब तख़्त गिराए जाएँगे… बस नाम रहेगा अल्लाह का) गाई गई।

पत्रकारिता का स्वघोषित बड़ा नाम लेकिन काम कौड़ी भर का

जब यह कविता गाई जा रही थी, उसी समय कुछ छात्रों ने इसे लेकर विरोध किया। बाद में इसको लेकर IIT प्रशासन को लिखित में शिकायत भी दी गई। इसी संबंध में की गई शिकायतों की जाँच के लिए प्रशासन ने 6 सदस्यी कमिटी का गठन किया। चूँकि फैज वामपंथियों के पसंदीदा नंबर 1 हैं, इसलिए मीडिया गिरोह ने IIT कानपुर की कमिटी वाली खबर को तड़का-मसाले के साथ चलाया। सबकी हेडिंग-रिपोर्टिंग देखकर आप चौंक जाएँगे। चौंक जाएँगे क्योंकि सबने बिना जाने फर्जी खबरें, फर्जी हेडिंग से चलाई।

इकॉनमिक्स टाइम्स ने तो टाइटल में ही झोल कर दिया – मतलब पूरी गलत रिपोर्टिंग!

सच क्या है?

IIT कानपुर में फैज अहमद फैज के नज्म का पाठ किया गया – सच यह है। सच यह है कि आईआईटी ने एक जाँच कमिटी का गठन किया है। लेकिन यह सच नहीं है कि कमिटी ‘फैज की नज्म हिंदू विरोधी है या नहीं’, की जाँच करेगी। क्यों यह सच नहीं है? क्योंकि जो इस कमिटी के अध्यक्ष हैं, वो खुद मीडिया गिरोह द्वारा चलाए जा रहे झूठ का पर्दाफाश कर रहे हैं। नाम है – मनीन्द्र अग्रवाल। प्रोफेसर हैं, डेप्यूटी डायरेक्टर हैं, वहीं IIT कानपुर में ही।

मनीन्द्र अग्रवाल ने 16 दिसंबर मतलब कैंपस में कुछ छात्रों के द्वारा विरोध-प्रदर्शन के ठीक एक दिन पहले भी ट्वीट किया था। ट्वीट में कैंपस के अंदर पब्लिक प्रोटेस्ट को लेकर उन्होंने अनभिज्ञता जाहिर की थी। इसके बाद जब फैज की नज्म का पाठ किया जाता है, उसके खिलाफ शिकायत की जाती है और कमिटी का गठन होता है, तब जो रिपोर्टिंग मीडिया गिरोह द्वारा की जाती है, उस पर मनीन्द्र सिर्फ हँसते हैं, व्यंग्य के तौर पर जवाब देते हैं।

फैज, मुसलमान और मीडिया

इंडिया टुडे ने सब-टाइटल में खेल किया और जाँच कमिटी को फैज के नज्म के हिंदू विरोधी होने या न होने तक सीमित कर दिया

मुसलमान नाम वाले कवि, पत्रकार, लेखक आदि सब अपनी मुसलमानियत दिखाने में जुटे हुए हैं। इसी शृंखला में BBC, या बिग BC के इकबाल अहमद ने बिना IIT कानपुर की जाँच के आदेश को पढ़े अपनी हिन्दू घृणा उड़ेल दी है। जबकि जाँच उस आयोजन (मतलब बिना परमिशन के विरोध क्यों और आयोजन के पहले या बाद में सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डाली गई या नहीं?) को लेकर बैठी है। जबकि इकबाल अहमद लिखता है कि कमिटी को तय करना है कि ‘उनकी कविता कहीं हिंदू विरोधी तो नहीं।’ इस तरह की हिन्दू घृणा अजेंडाबाज़ पत्रकारों में सामान्य हो गई है।

बॉलिवुड के लेखक और स्वघोषित क्रांतिकारी हैं जावेद अख्तर। सांसद भी रह चुके हैं। लेकिन सच्चाई से कोई लेना-देना नहीं है इन्हें। होती तो प्रतिक्रिया देने से पहले IIT में फोन घुमाकर कमिटी की हकीकत जानने की कोशिश करते। लेकिन नहीं। आखिर हैं तो उसी मीडिया गिरोह के ये भी। और मुसलमान तो खैर हैं ही। मुसलमान तो फैज अहमद फैज भी थे। क्यों? क्योंकि जैसा उन्हें प्रचारित किया जाता है, अगर वो वामपंथी होते तो अपने नज्म में अल्लाह जैसे शब्द की जगह प्रकृति या इसके समान उर्दू शब्द का प्रयोग करते। यही कारण है कि मुसलमान फैज के लिए मुसलमान जावेद अख्तर डिफेंस में आते हैं। उन्होंने याद दिलाया कि फैज तो ‘एंटि-पाकिस्तान’ थे और ‘जिया-उल-हक के खिलाफ’ थे।

‘सभी मूर्तियों को हटा दिया जाएगा… केवल अल्लाह का नाम रहेगा’: IIT कानपुर में जाँच कमिटी गठित, 15 दिन में रिपोर्ट

‘सभी मूर्तियों को हटा दिया जाएगा… केवल अल्लाह का नाम रहेगा’: IIT कानपुर में हिंदू व देश विरोधी-प्रदर्शन

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ख़ास ख़बरें

महिलाओं को बंधक बनाकर फरीदाबाद में रुका था विकास दुबे, बोले लल्लन वाजपेयी- सदियों बाद आज़ाद हुए

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद विकास दुबे ने साथियों संग फरीदाबाद के एक घर में शरण ली थी।

Tiktok समेत 59 प्रतिबंधित चीनी एप को सरकार ने भेजे 70 सवाल, 22 जुलाई तक देना होगा जवाब

प्रतिबंध लगाने के बाद भारत सरकार टिकटॉक समेत 59 चीनी एप को 70 सवालों की सूची के साथ नोटिस भेजा है।

व्यंग्य: विकास दुबे एनकाउंटर पर बकैत कुमार की प्राइमटाइम स्क्रिप्ट हुई लीक

आज सुबह खबर आई कि एनकाउंटर हो गया। स्क्रिप्ट बदलनी पड़ी। जज्बात बदल गए, हालात बदल गए, दिन बदल गया, शाम बदल गई!

मोदी सरकार ने प्लास्टिक कचरे से सड़क बना बचाए ₹3000000000, डबल करने का है इरादा: जानिए कैसे हुआ मुमकिन

2016 में मोदी सरकार ने इस पहल की आधिकारिक तौर पर घोषणा की थी। इसके बाद से प्लास्टिक कचरे से 11 राज्यों में करीब 1 लाख किमी लंबी सड़कों का निर्माण हो चुका है।

ऑपइंडिया एक्सक्लूसिव: साहिल के पिता परवेज 3 बार में 3 तरह से, 2 अलग जगहों पर मरे… 16 हिन्दुओं के नाम FIR में

आखिर साहिल परवेज ने तीन बार में तीन अलग-अलग बातें क्यों बोलीं? उसके पिता की हत्या घर के गेट के पास हुई या फिर बाबू राम चौक पर? उसे अस्पताल ले जाने वाला नितेश कौन है? साहिल अपने पिता को स्कूटी पर ले गया था, या उसका दोस्त शाहरुख?

रतन लाल की हत्या से पहले इस्लामी भीड़ ने 2 और पुलिसकर्मियों को बनाया था बंधक: दिल्ली दंगों की चार्जशीट

जिस भीड़ ने रतन लाल की निर्दयता से हत्या कर दी थी उसी इस्लामी भीड़ ने टेंट में दो अन्य पुलिसकर्मियों को भी बंधक बना लिया था।

प्रचलित ख़बरें

शोएब अख्तर के ओवर में काँपते थे सचिन, अफरीदी ने बिना रिकॉर्ड देखे किया दावा

सचिन ने ऐसे 19 मैच खेले, जिसमें शोएब पाकिस्तानी टीम का हिस्सा थे। इसमें सचिन ने 90.18 के स्ट्राइक और 45.47 की औसत से 864 रन बनाए।

क्या है सुकन्या देवी रेप केस जिसमें राहुल गाँधी थे आरोपित, कोर्ट ने कर दिया था खारिज

राजीव गाँधी फाउंडेशन पर जाँच को लेकर कल एक टीवी डिबेट में बीजेपी के संबित पात्रा और कॉन्ग्रेस के प्रवक्ता गौरव बल्लभ के बीच बहस आगे बढ़ते-बढ़ते एक पुराने रेप के मामले पर अटक गई जिसमें राहुल गाँधी को आरोपित बनाया गया था।

‘गुप्त सूत्रों’ से विकास दुबे का एनकाउंटर: राजदीप खोजी पत्रकारों के सरदार, गैंग की 2 चेली का भी कमाल

विकास दुबे जब फरार था, तभी 'खोजी बुद्धिजीवी' अपने काम में जुट गए। ऐसे पत्रकारों में प्रमुख नाम थे राजदीप सरदेसाई, स्वाति चतुर्वेदी और...

रवीश कुमार जैसे गैर-मुस्लिम, चाहे वो कितना भी हमारे पक्ष में बोलें, नरक ही जाएँगे: जाकिर नाइक

बकौल ज़ाकिर नाइक, रवीश कुमार हों या 'मुस्लिमों का पक्ष लेने वाले' अन्य नॉन-मुस्लिम... उन सभी के लिए नरक की सज़ा की ही व्यवस्था है।

हमने कंगना को मौका नहीं दिया होता तो? पूजा भट्ट ने कहा- हमने उतनों को लॉन्च किया, जितनों को पूरी इंडस्ट्री ने नहीं की

पूजा भट्ट ने दावा किया कि वो एक ऐसे 'परिवार' से आती हैं, जिसने उतने प्रतिभाशाली अभिनेताओं, संगीतकारों और टेक्नीशियनों को लॉन्च किया है, जितनों को पूरी फिल्म इंडस्ट्री ने मिल कर भी नहीं किया होगा।

UP: पुलिस मुठभेड़ में मारा गया ₹50,000 का इनामी पन्ना यादव उर्फ डॉक्टर, 3 दर्जन से ज्यादा संगीन मामलों में था आरोपित

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर का ₹50000 का इनामी अपराधी पन्ना यादव उर्फ सुमन यादव उर्फ़ 'डॉक्टर' बहराइच जिले के हरदी इलाके में एसटीएफ व पुलिस की संयुक्त मुठभेड़ में मारा गया है।

Covid-19: भारत में 24 घंटे में सामने आए 26506 नए मामले, अब तक 21604 की मौत

भारत में कोरोना संक्रमण के अब तक 7,93,802 मामले सामने आ चुके हैं। बीते 24 घंटे में 475 लोगों की मौत हुई है।

महिलाओं को बंधक बनाकर फरीदाबाद में रुका था विकास दुबे, बोले लल्लन वाजपेयी- सदियों बाद आज़ाद हुए

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद विकास दुबे ने साथियों संग फरीदाबाद के एक घर में शरण ली थी।

Tiktok समेत 59 प्रतिबंधित चीनी एप को सरकार ने भेजे 70 सवाल, 22 जुलाई तक देना होगा जवाब

प्रतिबंध लगाने के बाद भारत सरकार टिकटॉक समेत 59 चीनी एप को 70 सवालों की सूची के साथ नोटिस भेजा है।

व्यंग्य: विकास दुबे एनकाउंटर पर बकैत कुमार की प्राइमटाइम स्क्रिप्ट हुई लीक

आज सुबह खबर आई कि एनकाउंटर हो गया। स्क्रिप्ट बदलनी पड़ी। जज्बात बदल गए, हालात बदल गए, दिन बदल गया, शाम बदल गई!

भैसों के सामने आने से पलटी गाड़ी, पिस्टल छीन कच्चे रास्ते से भाग रहा था विकास दुबे: यूपी STF

​कैसे पलटी गाड़ी? कैसे मारा गया विकास दुबे? एनकाउंटर पर STF ने घटनाक्रमों का दिया सिलसिलेवार ब्यौरा।

विकास दुबे के पिता नहीं होंगे अंतिम संस्कार में शामिल, माँ ने भी कानपुर जाने से किया इनकार

विकास दुबे का शव लेने से परिजनों ने मना कर दिया है। उसके माता-पिता ने अंतिम संस्कार में शामिल होने से भी इनकार किया है।

भारत के मजबूत तेवर देख चीनी राजदूत ने कहा- हमारी सेना पीछे हट चुकी है, धर्मशाला में धू-धू जला जिनपिंग

चीन के राजदूत सुन वेईडॉन्ग ने स्वीकार किया है कि गलवान घाटी में हुए हिंसक संघर्ष के बाद भारत में उनके देश को लेकर अविश्वास बढ़ा है।

विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर प्रियंका गाँधी और अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर साधा निशाना

कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपित विकास दुबे के एनकाउंटर पर सवाल उठा सियासत शुरू कर दी है।

मोदी सरकार ने प्लास्टिक कचरे से सड़क बना बचाए ₹3000000000, डबल करने का है इरादा: जानिए कैसे हुआ मुमकिन

2016 में मोदी सरकार ने इस पहल की आधिकारिक तौर पर घोषणा की थी। इसके बाद से प्लास्टिक कचरे से 11 राज्यों में करीब 1 लाख किमी लंबी सड़कों का निर्माण हो चुका है।

UAPA के तहत गिरफ्तार शरजील इमाम को दिल्ली HC ने दिया झटका: याचिका खारिज, बेल देने से भी किया इंकार

देशद्रोह के मामले में आरोपित शरजील इमाम ने अपनी याचिका में दावा किया था कि जाँच एजेंसी कानूनी प्रक्रिया का उल्लंघन कर रही हैं और उससे उसकी जमानत का अधिकार छीन रही है।

हमसे जुड़ें

237,463FansLike
63,336FollowersFollow
272,000SubscribersSubscribe